प्रधानमंत्री जिस उज्जवला योजना को लेकर इतना फ़क्र महसूस करते हैं उसकी ज़मीनी हकीकत कुछ और ही है

साल 2016 में प्रधानमंत्री ने महिलाओं के आत्मसम्मान से जोड़ते हुए एक योजना की शुरुआत की, इस योजना का नाम था ‘उज्जवला योजना’. लेकिन उज्जवला योजना की ज़मीनी हकीकत कुछ और ही है. उज्जवला योजना के तहत महिलाओं को नहीं मिल रही है किसी भी तरह की मदद. देखें रैय्यान की रिपोर्ट.

निष्पक्ष और जनहित की पत्रकारिता ज़रूरी है

आपके लिए डेमोक्रेटिक चरखा आपके लिए ऐसी ग्राउंड रिपोर्ट्स पब्लिश करता है जिससे आपको फ़र्क पड़ता है
हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *