ओडिशा में कोरोना भगाने के नाम पर पुजारी ने एक युवक का सिर काट कर मंदिर में चढ़ाया

ओडिशा मंदिर के पुजारी ने कोरोना के नाम पर मानव बलि दी

ओडिशा के कटक जिले में मंदिर के पुजारी ने कोरोना वायरस को भगाने के नाम पर एक युवक का सिर काट मंदिर में चढ़ाया। ऐसा कहा जा रहा है कि पुजारी को यह पूरा विश्वास था कि इस मानव बलि से कोरोना वायरस पूर्ण रूप से नष्ट हो जाएगा।

ओडिशा: कोरोना वायरस भगाने के लिए पुजारी ने दी मानव बलि, गिरफ्तार - priest  hacks to death man inside temple global pandemic coronavirus in odisha -  AajTak

पुजारी ने बताया कि भगवान ने उसे सपने में दर्शन देकर यह कार्य करने को कहा जिससे इस बीमारी का समाधान निकल सके इसी के चलते उसने मानव बलि को अंजाम दिया।

 ब्राह्मणी देवी मंदिर परिसर के अंदर पुजारी ने इस अपराध को अंजाम दिया जहां उसने सरेआम एक युवक का गला काट कर मंदिर में चढ़ा दिया। मंदिर परिसर के भीतर एक युवक का शव मिला है जिसका नाम सरोज कुमार प्रधान बताया जा रहा है।

कोरोना भगाने के लिए दी मानव बलि, सिर काटकर मंदिर में चढ़ाया - Crime AajTak

स्थानीय पुलिस ने अपराध में इस्तेमाल किए गए हथियार को बरामद कर लिया है। मंदिर के पुजारी को भी पुलिस ने हिरासत में ले लिया है और फिलहाल उससे पूछताछ जारी है।


और पढ़ें :केंद्रीय मंत्री का दावा महाराष्ट्र में दो-तीन महीने में बनेगी भाजपा की सरकार


ओडिशा में पुजारी ने पूछताछ में कई चौका देने वाले खुलासे किए

हत्या के आरोप में गिरफ्तार किया गया मंदिर का पुजारी पुलिस पूछताछ के दौरान कई खुलासे कर रहा है। पुजारी का नाम संसार ओझा है जिसकी उम्र 72 वर्ष है।

जानकारी के मुताबिक पुजारी ने युवक की हत्या की बात कबूल ली है। उसने पुलिस के समक्ष बयान देते हुए कहा कि भगवान उसके सपने में दर्शन देने आए थे और उन्होंने कहा था कि कोरोनावायरस से निजात पाने के लिए मानव बलि की आवश्यकता है।

दो मामले: तांत्रिक ने 'हनुमान सिक्के' के लिए काटा सिर; Corona भगाने के लिए  पुजारी ने दी मानव बलि - Himachal Abhi Abhi | DailyHunt

जैसे ही मानव बलि की प्रतिक्रिया पूरी हो जाएगी कोरोनावायरस अपने आप नष्ट हो जाएगा और इसी के चलते पुजारी ने इस घटना को अंजाम दिया। पुजारी ने अपना जुर्म कुबूल लिया है। इस घटना के बाद पूरे गांव में दहशत का माहौल है।

पुलिस डीआईजी आशीष कुमार सिंह ने एक बयान में कहा कि शुरुआत की जांच से यह पता लगा है कि घटना के वक्त पुजारी नशे में धुत था।सुबह प्रातः काल जब पुजारी का नशा उतरा तो उसने खुद ही पुलिस के सामने अपना जुर्म कुबूल लिया और सरेंडर कर दिया।

डीआईजी ने अभी बताया कि ऐसा प्रतीत होता है पुजारी मानसिक रूप से बीमार है। हालांकि अभी इस मामले में जांच पड़ताल जारी है।

निष्पक्ष और जनहित की पत्रकारिता ज़रूरी है

आपके लिए डेमोक्रेटिक चरखा आपके लिए ऐसी ग्राउंड रिपोर्ट्स पब्लिश करता है जिससे आपको फ़र्क पड़ता है
हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.