किसानों के धरने से दिल्ली कूच मेट्रो एवं ट्रैफिक व्यवस्था प्रभावित, कई लोग गिरफ्तार

दिल्ली कूच मेट्रो एवं ट्रैफिक व्यवस्था प्रभावित

केंद्र सरकार के दो नए किसान बिल के खिलाफ किसान संगठनों का देशव्यापी दिल्ली चलो मार्च के तहत पंजाब, हरियाणा और उत्तर प्रदेश के किसानों और संगठन के नेता दिल्ली पहुंच रहे हैं। किसानों को जमा होने से रोकने के लिए बीजेपी शासित हरियाणा में कई जगहों पर धारा-144 लगा दी गई है।

Farmers March: Haryana Borders With Punjab To Remain Sealed On Nov 26, 27 - दिल्ली कूच की तैयारी में पंजाब के दो लाख किसान, हरियाणा ने सभी सीमाएं सील की, भारी पुलिसबल

दिल्ली मार्च के लिए निकले किसानों का संगठन

किसान अपने साथ खाने का सामान भी लेकर निकले हैं। किसानों को दिल्ली जाने से रोकने के लिए पंजाब, हरियाणा में किसान नेताओं की गिरफ्तारी शुरू हो चुकी है। केंद्र सरकार के कृषि कानून का विरोध करते हुए पंजाब और हरियाणा के किसान आज से दिल्ली में महाधरना देने जा रहे हैं।

किसानों की मंशा है कि वे या तो ट्रैक्टर में रात गुजारेंगे या फिर नेशनल हाईवे के किनारे बनें कैंपों में ठहरेंगे। ऐसे में दिल्ली सीमा पर पुलिस ने चौकसी बढ़ा दी है। इसके साथ ही फरीदाबाद और पलवल में भारी संख्या में पुलिसकर्मियों की तैनाती की गई है। 

कृषि कानूनों का विरोध करने के लिए देशभर के लगभग 400 किसान संगठन देश की राजधानी नई दिल्ली पहुंच रहे हैं। किसान 26 और 27 नवंबर को दिल्ली का घेराव करेंगे। आंदोलन को रोकने के लिए किसान नेताओं की गिरफ्तारी शुरू हो गई है। हरियाणा सरकार ने बॉर्डर सील कर दिया है।


और पढ़ें :कुछ केबल ऑपरेटरों द्वारा 31 सेकंड के लिए कुछ चैनलों को किया जाता था लॉक 


सरकार ने अपील की है कि दो दिन तक दिल्ली बॉर्डर की तरफ जाने से बचें

पंजाब के किसानों के दिल्ली कूच को देखते हुए हरियाणा सरकार अलर्ट हो गई है। सरकार ने पंजाब और दिल्ली से लगती राज्य की सीमा पर पुलिस की सख्ती बढ़ा दी गई है।

Delhi News in Hindi: दिल्ली न्यूज़, Latest Delhi Samachar, दिल्ली समाचार, दिल्ली खबरें, Delhi Khabar | Navbharat Times

पंजाब के किसान हरियाणा बॉर्डर पर पहुंचे हैं। इस बीच कोरोना को देखते हुए दिल्ली पुलिस ने कहा है कि प्रदेश में इकट्ठा होने की अनुमति नहीं है। अगर किसान नहीं मानें तो उन पर कानूनी कार्रवाई होगी।

गौरतलब है कि एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में योगेंद्र यादव ने सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा था कि जब सरकार को स्थिति संभालने का रास्ते नहीं सूझ रहा है तो वह किसान और किसान नेताओं को गिरफ्तार कर रही है। 

पुलिस और सरकार की सख्ती के बावजूद डटे हुए है किसान

किसानों का कहना है कि जहां सरकार ज्यादती करेगी वहीं धरना देकर बैठ जाएंगे। काले कानूनों के खिलाफ चाहे कुछ करना पड़े किसान पीछे नही हटेंगे।

Farmers March: Haryana Borders With Punjab To Remain Sealed On Nov 26, 27 - दिल्ली कूच की तैयारी में पंजाब के दो लाख किसान, हरियाणा ने सभी सीमाएं सील की, भारी पुलिसबल

ज्ञात हो कि कृषि कानूनों को वापस लिए जाने को लेकर दबाव बनाने के लिए अखिल भारतीय किसान संघर्ष समन्वय समिति (AIKSS) राष्ट्रीय किसान महासंघ और भारतीय किसान यूनियन के विभिन्न धड़ों ने एक संयुक्त किसान मोर्चा का गठन किया है।

प्रदर्शन को 500 से ज्यादा किसान संगठनों का समर्थन मिला है । मोर्चा के संचालन में समन्वय बनाने के लिए सात सदस्यीय कमेटी भी बनाई गई है। 

सरकार और पुलिस लगातार कोरोना महामारी के और फैलने का हवाला देते हुए इस आंदोलन को रद्द करने की अपील कर रही थी पर इसका भी कुछ असर नहीं हुआ। अब देखना है कि आगे क्या हालत बनते है और किसान सरकार को अपने मांगों को मनवाने में कामयाब होती है या नहीं।

निष्पक्ष और जनहित की पत्रकारिता ज़रूरी है

आपके लिए डेमोक्रेटिक चरखा आपके लिए ऐसी ग्राउंड रिपोर्ट्स पब्लिश करता है जिससे आपको फ़र्क पड़ता है
हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.