नॉर्थ पोल के ऊपर उड़ान भर कर इतिहास रचने को तैयार महिला पायलट कैप्टन जोया अग्रवाल

इतिहास रचने को तैयार कैप्टन जोया अग्रवाल

आज  कैप्टन जोया अग्रवाल के नेतृत्व में  एयर इंडिया की महिला पायलटों की टीम इतिहास रचने जा रही है। यह टीम नॉर्थ पोल के ऊपर से दुनिया के सबसे लंबे रूट पर उड़ान भरेगी। यह फ्लाइट सैन फ्रांसिसको से 16 हजार किलोमीटर का सफर तय कर आज  बेंगलुरु पहुँचेगी। इससे पहले भी एयर इंडिया के पायलटों ने नॉर्थ पोल के ऊपर उड़ान भरी है। यहां उड़ान भरना काफी चुनौती पूर्ण होता है लेकिन यह पहली बार हो की फ्लाइट की पूरी ज़िम्मेदारी महिला पायलटों के हाथ है।

कैप्टन जोया अग्रवाल

नॉर्थ पोल के ऊपर उड़ान कठिन, 180 डिग्री तक घूम जाता है कंपास

एयर इंडिया अधिकारियों ने बताया कि नॉर्थ पोल के ऊपर उड़ान भरना काफी चुनौतियों से भरा हुआ टास्क है। एयर लाइन कंपनी ने इसके लिए अपने सबसे अच्छे और अनुभवी पायलटों को भेजती है। इस बार एयर इंडिया ने इस उड़ान कि कमान एक महिला कैप्टन को सौंपी है।

कैप्टन जोया अग्रवाल

एयर इंडिया की कैप्टन जोया अग्रवाल विमान को पोलर रूट से होते हुए सैन फ्रांसिसको से बेंगलुरु लाएंगी। जोया अग्रवाल उड़ान की कमान सँभालेंगी।  उनकी टीम में  कैप्टन थनमाइ पपागरी, अखांक्षा सोनावने और कैप्टन शिवानी मनहस शामिल हैं और सभी 9 जनवरी को इतिहास रचने के लिए बेहद उत्साहित है।

कैप्टन जोया: यह उड़ान किसी भी प्रोफेशनल पायलट के लिए सपना पूरा होने जैसा

कैप्टन जोया

कैप्टन जोया ने कहती है कि दुनिया में कई सारे लोग हैं जिन्होंने कभी नॉर्थ पोल नहीं देखा। कई तो ऐसे हैं जिन्होंने इसे मैप पर भी नहीं देखा होगा। मैं बहुत ही गौरवान्वित महसूस कर रही हूं कि सिविल एविएशन मिनिस्ट्री और एयर लाइन ने मुझ पर भरोसा दिखाया। नॉर्थ पोल के ऊपर बोइंग 777 को कमांड करना मेरे लिए किसी सुनहरे मौके से कम नहीं है। उन्होंने बताया कि मेरी टीम बहुत ही बेसब्री से इतिहास रचने का इंतजार कर रही है।


और पढ़ें :सरकार और किसानों के बीच की बातचीत खत्म हुई, अगली बैठक 15 जनवरी को सुनिश्चित की गई


जोया बोईंग 777 उड़ाने वाली सबसे युवा महिला पायलट बन रच चुकी इतिहास

कैप्टन जोया

2013 में जोया बोइंग-777 को उड़ाने वाली सबसे युवा महिला पायलट भी हैं।  उन्होंने  इस बारे में बात करते हुए कहा कि, “मैं दुनिया में बोइंग-777 की सबसे कम उम्र की महिला कमांडर हूं। महिलाओं को खुद पर भरोसा रखना चाहिए भले ही उन्हें सामाजिक दबाव का ही सामना क्यों न करना पड़े। किसी भी काम को असंभव नहीं मानता चाहिए।”

ग़ौरतलब है कि एविएशन एक्सपर्ट्स के मुताबिक नॉर्थ पोल के ऊपर से उड़ान भरना बहुत ही टेक्निकल है और इसमें कौशल व अनुभव की जरूरत होती है। इसके साथ ही यह दुनिया का सबसे लंबा और कठिन एयर रूट भी है। ऐसे में एयर इंडिया की यह उड़ान महिलाओं के उपलब्धियों में मिल का पत्थर साबित होगा।

निष्पक्ष और जनहित की पत्रकारिता ज़रूरी है

आपके लिए डेमोक्रेटिक चरखा आपके लिए ऐसी ग्राउंड रिपोर्ट्स पब्लिश करता है जिससे आपको फ़र्क पड़ता है
हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.