क्या केंद्र सरकार को भारत के किसानों के आंसू नहीं दिखते हैं?

मंडी व्यवस्था में बदलाव को लेकर देश भर में किसान आंदोलनरत हैं. पंजाब और हरियाणा के किसान दिल्ली पहुंच चुके हैं और इसके अलावा कई स्थानों पर चक्का जाम भी कर रहे हैं. लेकिन इससे सरकार को कोई फ़र्क नहीं पड़ रहा है. सरकार किसानों पर लाठीचार्ज से लेकर आंसू गैस के गोले दाग रही है. सरकार की असंवेदनशीलता पूरे देश के सामने है वही किसानों के आंसू भी. देखिये ये रिपोर्ट.

निष्पक्ष और जनहित की पत्रकारिता ज़रूरी है

आपके लिए डेमोक्रेटिक चरखा आपके लिए ऐसी ग्राउंड रिपोर्ट्स पब्लिश करता है जिससे आपको फ़र्क पड़ता है
हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.