छत्तीसगढ़ में सीवर में 4 मज़दूरों की मौत हुई लेकिन इसपर कोई मन की बात नहीं करता

छत्तीसगढ़ के मुंगेली में मंगलवार को सेप्टिक टैंक की सफाई करने उतरे चार लोगों की मौत हो गयी. टैंक में मौजूद ज़हरीली गैस के प्रभाव में दो सफाई कर्मियों की भी जान चली गयी.

छत्तीसगढ़ में मंगलवार को मर्राकोना गांव के निवासी मनसाराम कौशिक के घर में टैंक की सफाई का कार्य चल रहा था जिसके दौरान परिवार एक सदस्य बेहोश होकर गिर गया. बड़ी देर के बाद जब बाकी के लोग जो टैंक की सफाई में जुड़े थे टैंक से बाहर नही आये तो आस पास के लोगों में मिलकर इस घटना की सूचना पुलिस को दी.

मौके पर जब पुलिस पहुंची तो चारों लोगों को बाहर निकाला गया और यह पता चला कि उनकी मौत घटना स्थल पर ही हो गयी थी जिसके बाद पुलिस ने उनके शवों को पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया.

पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट के मुताबिक यह सामने आया कि चारों की मौत टैंक में ज़हरीली गैस के वजह से हुई है और अब यह मामला पुलिस ने दर्ज भी कर लिया है.

आपको बता दे कि चारों सहवों की पहचान के बाद यह सामने आया कि उनमे एक ही परिवार के अखिलेश्वर कौशिक (40), गौरीशंकर कौशिक (28) और रामखिलावन कौशिक (45) थे और साथ ही सफाई कर्मचारी सुभाष दगौर (35) भी शामिल था. मुख्यमंत्री के द्वारा जिला प्रशासन को यह आदेश दिया गया है कि पीड़ित के परिवारों की हर संभव सहायता उपलब्ध कराया जाना चाहिए.

पिछले चार सालों में सीवर में दम घुटने की वजह से 282 सीवर मज़दूरों की मौत हो चुकी है. लेकिन फिर भी आजतक प्रधानमंत्री ने इसपर मन की बात नहीं की है. क्या सिर्फ स्वच्छ भारत अभियान के लिए प्रधानमंत्री सेल्फी ही लेंगे या ज़मीनी स्तर पर जो लोग काम कर रहे हैं उनको लेकर भी कुछ बात बोलेंगे?

– अनुकृति प्रिया

निष्पक्ष और जनहित की पत्रकारिता ज़रूरी है

आपके लिए डेमोक्रेटिक चरखा आपके लिए ऐसी ग्राउंड रिपोर्ट्स पब्लिश करता है जिससे आपको फ़र्क पड़ता है
हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *