जो बच्चे देख नहीं पाते हैं उनसे बिहार सरकार ने आंखें फेर ली है

बिहार नेत्रहीन परिषद् जो नेत्रहीन बच्चों के लिए काम करते हैं उनका साफ़ तौर से कहना है कि नेत्रहीन बिहार सरकार का वोटबैंक नहीं है इसीलिए सरकार को इनकी कोई चिंता नहीं है. देखिये अनुप्रिया की रिपोर्ट.

निष्पक्ष और जनहित की पत्रकारिता ज़रूरी है

आपके लिए डेमोक्रेटिक चरखा आपके लिए ऐसी ग्राउंड रिपोर्ट्स पब्लिश करता है जिससे आपको फ़र्क पड़ता है
हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.