नवदीप कौर ने जमानत याचिका में कहा, “पुलिस द्वारा बुरी तरह मारा-पीटा गया”

नवदीप कौर ने जमानत याचिका में लगाया आरोप 

श्रम अधिकार कार्यकर्ता नवदीप कौर ने पंजाब और हरियाणा उच्च न्यायालय के समक्ष अपनी जमानत याचिका में आरोप लगाया है, कि पिछले महीने सोनीपत पुलिस द्वारा उनकी गिरफ्तारी के बाद से ही उन्हें पुलिस स्टेशन में बुरी तरह से मारा-पीटा गया।

नवदीप कौर ने अपनी जमानत याचिका में यह दावा किया है कि उनका मेडिकल परीक्षण नहीं करवाया गया जो कि अपराधिक प्रक्रिया संहिता (CrPC) की धारा 54 का उल्लंघन है। बता दें पंजाब और हरियाणा उच्च न्यायालय द्वारा सोमवार को उनकी जमानत याचिका पर सुनवाई स्थगित कर दी गई थी। इस मामले में अगली सुनवाई को 24 फरवरी तक के लिए टाल दिया गया था।

नवदीप कौर अर्शदीप सिंह चीमा और हरिंदर दीप सिंह बैंस के माध्यम से जमानत याचिका दायर की। जिसमें उन्होंने कहा कि उन्हें झूठे आरोपों में फंसाया जा रहा है क्योंकि वह केंद्र द्वारा लाए गए तीन कृषि कानूनों के खिलाफ चल रहे किसान आंदोलन के लिए बड़े पैमाने पर समर्थन जुटाने में सफल हुई थी। इसके साथ ही याचिका में यह भी दावा किया गया कि किसानों के समर्थन में स्थानीय मजदूरों की लामबंदी से नाराज प्रशासन ने विरोध प्रदर्शन को विफल करने के लिए यह योजना तैयार की थी।

याचिका में नवदीप कौर का दावा ‘पुलिस स्टेशन में कोई भी महिला पुलिस नहीं थी’

याचिका में नवदीप कौर द्वारा यह दावा किया कुंडली पुलिस स्टेशन की एक टीम प्रदर्शन स्थल पर पहुंच कर उन्हें बालों से पकड़कर घसीटने लगी और उन्हें गिरफ्तार करके पुलिस स्टेशन ले गई। लेकिन उस दौरान वहां कोई भी महिला पुलिस अधिकारी मौजूद नहीं थी। उन्होंने याचिका में यह भी कहा कि अधिकारियों ने उन पर कई अत्याचार किए तथा उन्हें बुरी तरह पीटा जिस वजह से उन्हें कई चोटें भी लगी है।

याचिका नवदीप कौर

बता दे इससे पहले भी पुलिस पर नवदीप कौर के यौन उत्पीड़न के आरोप लगते रहे हैं। कौर की बहन राजवीर ने भी पहले यह दावा किया था कि हरियाणा पुलिस द्वारा उनके प्राइवेट पार्ट्स में चोट पहुंचाई गई। लेकिन इस संबंध में एसपी जशनदीप सिंह रंधावा ने कहा कि आरोप निराधार हैं।


और पढ़ें :भारत की जीडीपी दिसंबर 2020 तिमाही में सकारात्‍मक हो सकती है – डीबीएस बैंक रिपोर्ट


आखिर कौन है नवदीप  कौर?

दरअसल नवदीप कौर एक 24 वर्षीय दलित मजदूर अधिकार कार्यकर्ता और मजदूर अधिकार संगठन (MAS) की सदस्य हैं। वह किसी कानूनों के खिलाफ हो रहे प्रदर्शन में शामिल हुई थी जिसके बाद 12 जनवरी को स्टेशन हाउस ऑफिसर के नेतृत्व में कुंडली पुलिस स्टेशन की एक टीम वहां पहुंची और उन्हें सिंधु बॉर्डर से गिरफ्तार कर अपने साथ ले गई। बता दे वर्तमान में कौर हरियाणा के करनाल जेल में बंद है।

निष्पक्ष और जनहित की पत्रकारिता ज़रूरी है

आपके लिए डेमोक्रेटिक चरखा आपके लिए ऐसी ग्राउंड रिपोर्ट्स पब्लिश करता है जिससे आपको फ़र्क पड़ता है
हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.