पटना कॉलेज में ABVP समर्थकों ने राजनीतिक प्रतिशोध में आइसा के छात्र नेता पर किया जानलेवा हमला

पटना कॉलेज कैंपस में जानलेवा हमला

बिहार के प्रसिद्ध विश्वविद्यालय में से एक पटना विश्वविद्यालय में दो छात्र संगठनों आईसा और एबीवीपी के छात्र नेताओं के बीच के आपसी संघर्ष ने कल हिंसक रूप ले लिया और इस विवाद में कल आईसा के छात्र नेता की एवीबीपी के छात्र नेताओं ने पिटाई कर दी जिससे उनकी हालत गंभीर बनी हुई हैं।

पटना विश्वविद्यालय में छात्र संगठन आइसा के छात्रनेता पर ABVP कार्यकर्ताओं ने क़िया जानलेवा हमला, हालत गंभीर ।

पटना कॉलेज में पार्ट वन के छात्र घायल नेता कार्तिक पासवान

घटना की खबर के मुताबिक एबीवीपी समर्थको ने जिनपर राजनीतिक प्रतिशोध में दिनदहाड़े पिटाई क़िया है उनका नाम कार्तिक पासवान है।  पर अचानक जानलेवा हमला कर दिया। पूरी घटना दिन के क़रीब 1 बजे पटना कॉलेज कैंपस में घटी जब कार्तिक पार्ट वन का परीक्षा फार्म भरने कॉलेज गए थे। उनके वहां पहुंचने के दौरान ही पटना विश्वविद्यालय के पटना कॉलेज कैंपस में ही अवस्थित मिंटो हॉस्टल में रहने वाले  ABVP समर्थकों ने  उनपर लाठी और रॉड से हमला कर दिया।

DU: आइसा की नेता ने ABVP के अध्यक्ष पर लगाया छेड़छाड़ का आरोप | A student from Delhi University has filed a complaint alleging that ABVP members - Hindi Oneindia

इस जानलेवा हमले में छात्र नेता कार्त्तिक का सर फट गया और चेहरों के साथ साथ कई जगहों पर गंभीर जख्म हो गए। वहीं पूरी घटना को अंजाम देने के बाद सभी हमलावर वापस मिंटो हॉस्टल में चले गए।और घायल अवस्था में ही छात्र नेता कार्त्तिक ने किसी तरह पीएमसीएच में जाकर अपना इलाज करवाया।


और पढ़ें :डॉक्टर को अलादीन का चिराग बताकर तांत्रिकों ने ठगे 31 लाख रुपए


मुख्य आरोपी स्वरांश सरकार पर पहले भी कई अपराधों को अंजाम देने का आरोप

छात्र नेता कार्तिक पासवान ने इस घटना को लेकर पटना के पीरबहोर थाने में एफ़आईआर कराई है। एफ़आईआर में उन्होंने पटना कॉलेज में अंग्रेजी विभाग के प्रथम वर्ष के छात्र और मिंटो हॉस्टल में रहने वाले ABVP कार्यकर्ता स्वरांश सरकार और अन्य अज्ञात लोगों  पर हमला का आरोप लगाया है। आरोपीत स्वरांश सरकार शेखपुरा बरबीघा का रहने वाला है। और वह एवीबीपी से जुड़े रहने के साथ साथ अपराधिक प्रवृति का भी बताया गया है। उस पर पहले भी वह पटना कॉलेज में कई अपराधिक घटनाओं को अंजाम देने का आरोप है।

अनुराग शुक्ला बने एवीबीपी के नगर अध्यक्ष

आइसा छात्रनेता ने बताया कि, “वो दलित समाज से आते हैं और आइसा के सदस्य भी हैं और विश्वविद्यालय में छात्रों के समस्याओं को लेकर आवाज उठाते रहते है और इसी राजनीतिक  में प्रतिशोध में आज स्वरांश सरकार और उसके साथ क़रीब पंद्रह बीस असामाजिक तत्वों ने जाति सूचक गाली देते हुए मेरे ऊपर जानलेवा हमला किया है।”

पुलिस प्रशासन ने दिया आरोपियों कि जल्द गिरफ्तारी का भरोसा

इस जानलेवा हमले के बाद आइसा राज्य कार्यालय ने एक प्रेस रिलीज जारी कर कहा है कि, “अगर विश्व विद्यालयप्रशासन उस आरोपी को जल्द विश्वविद्यालय से निष्कासित और पटना प्रशासन गिरफ्तार नहीं करती है तो हमलोग जल्द ही इसके खिलाफ आंदोलन करेंगे। वहीं एफ़आईआर दर्ज़ होने के बाद पीरबहोर थाना प्रभारी ने कहा कि इस मामले में आरोपी को जल्द हिरासत में लिया जायेगा।

निष्पक्ष और जनहित की पत्रकारिता ज़रूरी है

आपके लिए डेमोक्रेटिक चरखा आपके लिए ऐसी ग्राउंड रिपोर्ट्स पब्लिश करता है जिससे आपको फ़र्क पड़ता है
हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.