न्यूज़ चैनलों की टीआरपी रेटिंग में हेराफेरी के बाद बार्क ने किया न्यूज़ चैनलों की रेटिंग को 3 हफ्ते के लिए निलंबित

बार्क ने किया न्यूज़ चैनलों की रेटिंग को 3 हफ्ते के लिए निलंबित

पुनीत गोयनका ने ZEE मीडिया में इस बड़े पद से दिया इस्तीफा | Md And Ceo Of Zee Entertainment Enterprises Limited Punit Goenka Took Big Decision - Samachar4media

ब्रॉडकास्ट ऑडियंस रिसर्च काउंसिल (बार्क) ने गुरुवार को इस मामले में कार्यवाही करते हुए सभी न्यूज़ चैनलों की रेटिंग को अस्थाई रूप से निलंबित कर दिया है जिसमें सारे हिंदी, अंग्रेजी, क्षेत्रीय भाषा और बिज़नेस से संबंधित चैनल सम्मिलित हैं। हालांकि सरकारी चैनलों पर कार्रवाई नहीं की गई है। इसी महीने 8 अक्टूबर को मुंबई पुलिस ने टीआरपी रेटिंग में छेड़छाड़ करने वाले गिरोह को दबोचा था। इसके तहत 2 मराठी चैनल के मालिकों को गिरफ्तार भी किया गया था और रिपब्लिक चैनल पर शिकंजा कसा था।

टेलीविजन रेटिंग पॉइंट (टीआरपी) से कथित तौर पर कुछ न्यूज़ चैनल द्वारा किए गए छेड़छाड़ के मामले में सुप्रीम कोर्ट ने रिपब्लिक टीवी से कहां है कि वह यह मामला बॉम्बे हाई कोर्ट में दर्ज कराए। इसी महीने बीते 8 अक्टूबर को मुंबई पुलिस ने कथित तौर पर चले आ रहे टीआरपी रेटिंग से छेड़छाड़ करने वाले गिरोह का भंडाफोड़ किया था। इस मामले में 2 मराठी चैनल समेत रिपब्लिक टीवी पर भी शिकंजा कसा गया था। 


और पढ़ें:भारत के लिए पहला ऑस्कर पुरस्कार जीतने वाली भानू अथैया का 91 साल  की उम्र में निधन


बार्क ने कहा करीब 12 हफ्तों तक साप्ताहिक रेटिंग स्थगित रहेगी

बार्क के द्वारा आधिकारिक बयान में कहा गया कि हमारी काउंसिल ‘सांख्यिकीय मजबूती’ में सुधार आ सके इसके लिए प्रतिबद्ध है। इस कार्रवाई के चलते करीब 12 हफ्तों तक साप्ताहिक रेटिंग स्थगित रहेगी। मुंबई पुलिस ने इस घोटाला में अभी तक 5 लोगों को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने महीने की शुरुआत में इस गिरोह का पर्दाफ़ाश किया और साथ ही साथ यह दावा किया है कि रिपब्लिक टीवी सहित कई दूसरे चैनलों ने टीआरपी रेटिंग के साथ गड़बड़ी की।

BARC takes big decision TRP will not be released for three months | BARC ने लिया बड़ा फैसला, इतने महीनों तक नहीं जारी होगी TRP, बताई यह वजह | Hindi News, Zee

जानकारी के मुताबिक गिरफ्तार किए गए लोगों में चैनलों में काम कर रहे अधिकारी भी शामिल हैं। सूत्रों के अनुसार खबर यह भी है अर्णब गोस्वामी का चैनल रिपब्लिक टीवी के कर्मचारियों से भी पूछताछ की जा रही है। अर्णब गोस्वामी को भी पुलिस ने पूछताछ के लिए बुलाया है। हालांकि चैनल के एडिटर इन चीफ से लेकर वहां काम करने वाले तमाम कर्मचारियों ने दावा किया है कि उनके खिलाफ लगाए गए आरोप बेबुनियाद हैं। चैनल ने किसी प्रकार का कोई गलत काम नहीं किया है।

बार्क के चेयरमैन पुनीत गोयनका ने कहा 

फर्जी टीआरपी मामले पर BARC का बड़ा एक्शन, न्यूज चैनलों की रेटिंग को अस्थायी रूप से

बार्क का यह भी कहना है कि हाल में हुए घटनाक्रमों के चलते माप के मौजूदा मानकों और डेटा जमा करने के तरीकों में सुधार की आवश्यकता है। जहां मॉनिटरिंग की जा रही है वहां किसी प्रकार की घुसपैठ को रोकने के लिए यह कदम उठाना आवश्यक है। इसी वजह से सभी चैनलों की साप्ताहिक रेटिंग करीब 3 महीने तक स्थगित रहेगी।बार्क के चेयरमैन पुनीत गोयनका ने कहा काउंसिल को अपने प्रोटोकॉल ऑल नियमों की समीक्षा करने के लिए साथ ही इसे आगे मजबूती से पेश करने के लिए फिलहाल किया गया यह निलंबन आवश्यक है।

इसी बीच सुप्रीम कोर्ट ने अर्णब गोस्वामी के चैनल रिपब्लिक टीवी से कहा है कि वह सुप्रीम कोर्ट में अपना मामला दर्ज करवाए। इस प्रकरण में चल रहे जांच को लेकर चैनल को संकोच है की उन पर बदले के तहत कार्रवाई ना की जाए जिसके चलते चैनल सुप्रीम कोर्ट गया था। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि बॉम्बे हाईकोर्ट इस महामारी के बीच भी अपना कार्य कर रहा है तो इसीलिए आपको पहले बॉम्बे हाई कोर्ट में मामला दर्ज करवाना चाहिए। जानकारी के मुताबिक चैनल ने इसके बाद सुप्रीम कोर्ट से अपनी याचिका को वापस ले ली है।

दूसरी और मुंबई पुलिस का कहना है कि इस प्रकरण में जांच चल रही है और कार्रवाई भी की जा रही है। दोषियों को किसी भी कीमत पर बख्शा नहीं जाएगा। साथ ही साथ मुंबई पुलिस ने यह भी कहा कि अभी कोई वैसी विशेष परिस्थिति पैदा नहीं हुई है जिसके तहत न्यायालय को इस मामले में हस्तक्षेप करना पड़े।

निष्पक्ष और जनहित की पत्रकारिता ज़रूरी है

आपके लिए डेमोक्रेटिक चरखा आपके लिए ऐसी ग्राउंड रिपोर्ट्स पब्लिश करता है जिससे आपको फ़र्क पड़ता है
हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.