बिहार चुनाव के रैली में कोविड प्रोटोकॉल की अनदेखी, उड़ाई सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां

सुशील मोदी की चुनावी रैली

मंगलवार को उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी ने कैमूर जिले के रामगढ़ में एक चुनावी रैली में भाग लिया। उनके संबोधन को सुनने के लिए वहां करीब 20,000 लोग मौजूद रहे। इन लोगों के बीच न तो सोशल डिस्टेंसिंग दिखी, न ही लोग मास्क लगाकर पहुंचे।

bihar chunav ke liye online hui bjp social media ke jariye prachar ka banaya plan : बिहार में बूथ से लेकर प्रदेश स्तर तक 'ऑनलाइन' हुई बीजेपी सोशल मीडिया के जरिए प्रचार

कोविड-19 प्रोटोकॉल के मुताबिक सभी को 2 मीटर की दूरी तथा मास्क लगाना अनिवार्य है। साथ ही, रैलियों में गले मिलना, हाथ मिलाना आदि की मनाही है। लेकिन चुनाव प्रचार में साफ तौर पर इनकी धज्जियां उड़ाई गई।

बिहार में लगातार बढ़ते कोरोना का प्रकोप के बीच अब बिहार चुनाव को लेकर प्रचार अभियान शुरू हो चुका है। जिसने अब दोबारा राज्य को महामारी की खाई में धकेलना शुरू कर दिया है।

बिहार चुनाव अभियान को लेकर चुनाव आयोग की तरह से वर्चुअल और रियल अभियानों की अनुमति तो दी गई है, लेकिन इन अभियानों में कुछ दिशानिर्देशों के पालन करने को लेकर प्रोटोकॉल जारी किया गया है। हालांकि, विभिन्न राजनीतिक दलों द्वारा इन प्रोटोकॉल को ताक पर रखकर दिशानिर्देशों की धज्जियां उड़ाई जा रही है।


और पढ़ें:विश्व हिंदू परिषद ने केंद्र और राज्य सरकार से मांग की है कि लव जिहाद को रोकने के लिए क़ानून बनाया जाए


जब सुशील मोदी से इस बारे में बातचीत की गई तो उन्होंने कहा, “ मैंने अपने कार्यकर्ताओं से कहा है कि उन्हें जन सभाओं के लिए बड़े मैदान की व्यवस्था करनी चाहिए। लेकिन मैं किसी को नहीं आने के लिए कैसे कह सकता हूं?

Bihar Election 2020, Bihar, Corona Virus

केंद्रीय मंत्री नित्यानंद राय की रैली में बिना मास्क के पहुंचे लोग

सोमवार को वैशाली जिले के महुआ में केंद्रीय मंत्री नित्यानंद राय ने बड़ी संख्या में लोगों को संबोधित किया। भीड़ में चुनाव आयोग के दिशानिर्देशों के पालन में जहां कोताही बरती गई। वहीं भीड़ में मौजूद थोड़े ही लोग मास्क पहने नजर आए।

वहीं दूसरी तरफ़ बुधवार को मुख्यमंत्री नीतिश कुमार ने चार जगह राजनीतिक रैलियों को संबोधित किया, जहां हजारों की तादाद में लोग उन्हें सुनने के लिए एकत्र हुए उनके कई समर्थक जहां बिना मास्क के नजर आए। वहीं साफ तौर पर कोविड-19 प्रोटोकॉल का उल्लंघन देखा गया

नामांकन में भी नियमों का उल्लंघन

बिहार में सिर्फ चुनावी रैलियों में ही सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों की अनदेखी नहीं हुई, बल्कि विधानसभा सीटों के लिए नामांकन में भी नियमों का उल्लंघन होते हुए देखा गया।

आइए, एक बूथ के माध्यम से यूपी में भाजपा की चुनावी तैयारी को समझते हैं

 

दरअसल, मंगलवार को राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के नेता तेज प्रताप यादव समस्तीपुर जिले के रोसड़ा में नामांकन भरने पहुंचे। रिटर्निंग ऑफिसर के कार्यालय में तो सिर्फ उन्होंने 2 लोगों के साथ ही प्रवेश किया, परंतु कार्यालय के बाहर उनके सैकड़ों समर्थकों की भीड़ जुटी थी।

यह तमाम लोग बिना मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग के बिना वहां जुटे थे।ऐसे में इस बात का अंदेशा जताया जा रहा है कि कहीं इन चुनाव प्रचारों की वजह से फिर से बिहार महामारी के डेंजर जोन में न चला जाए।

निष्पक्ष और जनहित की पत्रकारिता ज़रूरी है

आपके लिए डेमोक्रेटिक चरखा आपके लिए ऐसी ग्राउंड रिपोर्ट्स पब्लिश करता है जिससे आपको फ़र्क पड़ता है
हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.