बिहार में कोरोना से थोड़ी राहत, रिकवरी रेट बढ़कर पहुंचा 83%

जहां देशभर में कोरोना के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं वहीं बिहार में कोरोना के खिलाफ जंग में थोड़ी राहत मिली है। बिहार में रिकवरी रेट में इज़ाफ़ा हुआ है जहां 70% पिछले सप्ताह का रिकवरी रेट था, अब बढ़कर 83% हो गया है। बिहार में लगभग 98 हज़ार से ज़्यादा मरीज़ अब कोरोना से मुक्त हो चुके हैं और एक्टिव मरीज़ों की संख्या 23091 रह गई है।

बिहार में कुल कोरोनावायरस संक्रमण के मामले बढ़ कर 1 लाख 22 हज़ार के पार हो चुके हैं और वही 610 लोगों की मौत भी हो गई है।

बता दे, बिहार में कोरोना से जंग में डॉक्टरों को थोड़ी सफ़लता मिली है और बहुत से संक्रमित ठीक भी हो गए हैं। इसी के चलते कोरोना फैलने की रफ़्तार में भी कमी आई है। दरअसल बीते कुछ दिनों में लगातार हर रोज़ मिलने वाले कोरोना संक्रमितो की संख्या में कमी आई है। 19 अगस्त को जहां 2451 नए मरीज मिले थे वहीं रविवार को यह आंकड़ा घटकर 2247 हो गया है।

पटना में फिर से कोरोना के सबसे अधिक संक्रमित मिले हैं। पटना जिले में 203 नए मामले, बेगूसराय में 159, भागलपुर में 115, मुजफ्फरपुर में 127 और सहरसा में 120 नए मरीज मिले हैं। राजधानी पटना में कुल मरीजों की संख्या 18 हजार से ज्यादा हो गई है।

रांची में रविवार को कोरोना के 98 संक्रमित मिले हैं। इनमें से 51 मरीज रिम्स में और 47 मरीज रांची के विभिन्न इलाकों से मिले हैं। बताने इसके अलावा देवगढ़ में आठ रामगढ़ में सात खूंटी में 4 लोग में कोरोना पॉजिटिव मेले हैं। इसी के साथ झारखंड में कोविड-19 के कुल मरीजों की संख्या बढ़कर 29 हजार के पार चली गई है| स्वास्थ्य विभाग के अनुसार पिछले 24 घंटे में 3082 संक्रमित इलाज के बाद स्वस्थ हो गए और 09 मृतकों की इलाज के दौरान मौत हो गयी।

कोरोना को लेकर खबरें

  • मशहूर गायिका शारदा सिन्हा कोरोना पॉजिटिव।
  • जहानाबाद सदर अस्पताल में कोरोना संक्रमित ने करी आत्महत्या|
  • उत्तर प्रदेश के बाद टेस्टिंग के मामले में बिहार दूसरे नंबर पर बिहार में हर दिन 1 लाख से ज्यादा कोरोना टेस्ट।
  • लातेहार में तीन और बैंक कर्मी कोरोना संक्रमित मिले।
  • बिहार सरकार ने मीट मछली फल सब्जी की दुकानों के लिए निर्देश जारी किए।
  • झारखंड के कृषि मंत्री कोरोना पॉजिटिव।

 

जहां कोरोना के मामले देश में 30 लाख से पार हो गए हैं। फिर भी न सूर्य ग्रहण में कोरोना को भगाया, ना भाभी जी के पापड़ ने। ना व्हाट्सएप पर 10 लोगों को मैसेज फॉरवर्ड करने से कोरोना भागा और ना ही को कोरोना देवी की पूजा करने से।

अब तो बस ज़िन्दा रहने के लिए फ़ासला ज़रूरी है,

कोरोना से बचने के लिए घर में रहना ज़रूरी है।

मास्क लगाना ज़रूरी है, सैनिटाइजर रखना ज़रूरी है,

एक साथ ना बैठो अगर जीना ज़रूरी है।

निष्पक्ष और जनहित की पत्रकारिता ज़रूरी है

आपके लिए डेमोक्रेटिक चरखा आपके लिए ऐसी ग्राउंड रिपोर्ट्स पब्लिश करता है जिससे आपको फ़र्क पड़ता है
हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *