बिहार

राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण-5 की रिपोर्ट के अनुसार बिहार में तक़रीबन 77 फीसदी महिलाओं के पास बैंक खाता

बिहार में तक़रीबन 77 फीसदी महिलाओं के पास अपना बैंक खाता

हम बता दें कि 2019-20 के राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण -5 रिपोर्ट में यह सामने आया है कि बिहार में तक़रीबन 77 फीसदी महिलाओं के पास अपना बैंक खाता है एवं अब मोबाइल फोन का इस्तेमाल करने वाली महिलाओं की संख्या बढ़कर 51.4 हो गई है।

sharp rise in bank accounts operated by women: खुद बैंक खाता ऑपरेट करने  वाली महिलाओं की संख्या में भारी तेजी, बिहार में तीन गुना बढ़ोतरी -  Navbharat Times

राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण-5 की इस रिपोर्ट में शहरी क्षेत्रों में यह आंकड़ा 61.8 फीसदी एवं ग्रामीण क्षेत्रों में 9.3 फीसदी पाया गया है। वहीं हम देखें तो साल 2015-16 में मात्र 40.9 फीसदी महिलाएं मोबाइल फोन का उपयोग करती थीं। और इसी तरह दूसरी ओर 76.7 फीसदी महिलाओं के पास अब अपना बैंक खाता था वहीं साल 2015-16 में देखें तो यह मात्र 26.4 फीसदी था। National Family Health Survey-5 रिपोर्ट के हिसाब से बिहार में 20.6 फीसदी महिलाओं ने 2019-20 में इंटरनेट का उपयोग किया और वहीं  43.6 फीसदी पुरुषों ने इसका प्रयोग  किया है। वहीं बात अगर महिलाओं की साक्षरता की करें तो यह दर 57.8 फीसदी हो गई है एवं पुरुषों के लिए यह आंकड़ा 78.5 फीसदी देखी गई है।


और पढ़ें :बाजार में गोभी की सही कीमत ना मिलने के कारण बिहार किसान ने गोभी के खेत में ट्रैक्टर चला दिया


रिपोर्ट 9 जुलाई 2019 से लेकर 2 फरवरी 2020 तक के आंकड़ों पर आधारित

दरसअल National Family Health Survey-5 की रिपोर्ट शनिवार यानी 12 दिसंबर को जारी किया गया है। हम यह जानकारी दे देते हैं कि यह रिपोर्ट 9 जुलाई 2019 से लेकर 2 फरवरी 2020 तक के आंकड़ों पर आधारित है। एवं इसमें 35, 834 परिवारों में 42, 483 महिलाओं और 4, 897 पुरुषों से जानकारी को एकत्र किया गया था।

इस योजना में महिला उद्यमियों को केवल 5 फीसदी सालाना ब्याज पर मिलता है लोन,  जानिए कैसे मिलेगा लाभ...

हम बता दें कि बिहार में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के नेतृत्व वाली एनडीए सरकार ने वर्ष 2016 में राज्य में शराब पर प्रतिबंध लगाया था और साथ ही इस कानून का उल्लंघन करने वालों के लिए न्यूनतम 10 साल की जेल की सजा का प्रावधान बनाया था। इतना ही नहीं इस कानून के तहत दो लाख से अधिक मामले दर्ज किए गए हैं यानी अब तक 2 लाख से अधिक लोग  गिरफ्तार किए गए हैं जिसमें मुख्यत ग़रीब वर्ग के व्यक्ति शमिल हैं। और इस मामले में राज्य से करीब 30 लाख लीटर से ज्यादा शराब जब्त किया गया है।

ग़ौरतलब है कि नवीनतम NFHS-5 रिपोर्ट में यह सामने आया है कि राज्य में 15 वर्ष से अधिक आयु के करीब  15.5 फीसदी लोगों ने शराब का सेवन किया है और वहीं  केवल 0.4 फीसदी महिलाओं ने इसका सेवन किया।

दूसरी ओर समान आयु वर्ग के तक़रीबन 48.8 फीसदी पुरुष तंबाकू का सेवन करते हैं एवं वहीं मात्र 5.0 फीसदी महिलाओं ने इसका सेवन किया।इसके साथ ही यह महत्वपूर्ण है कि राज्य में शिक्षा की लौ गावों में अधिक फैली हुई पाई गई है। जिससे की गावों में बाल विवाह के खिलाफ बेटियां खड़ी हो सकीं हैं। और इतना ही नहीं लगभग 76.2 फीसदी बच्चों का जन्म हॉस्पिटल में हुआ है

निष्पक्ष और जनहित की पत्रकारिता ज़रूरी है

आपके लिए डेमोक्रेटिक चरखा आपके लिए ऐसी ग्राउंड रिपोर्ट्स पब्लिश करता है जिससे आपको फ़र्क पड़ता है
हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.