भाजपा की नीतीश से दूरी का इरादा नहीं, सुशील मोदी बोलें- नीतीश कुमार ही रहेंगे मुख्यमंत्री

बिहार चुनाव में लोजपा एनडीए का हिस्सा नहीं

बिहार के डिप्टी सीएम और बीजेपी के वरिष्ठ नेता सुशील कुमार मोदी ने यह स्पष्ट किया है कि,लोजपा बिहार में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) का हिस्सा नहीं है। उनके इस बयान से उनकी पहले की रणनीति में बदलाव नजर आ रहा है। पहले भाजपा चुनावों को लेकर लोजपा की पीठ थपथपाते नजर आ रही थी लेकिन अब इसमें बदलाव देखा जा सकता है। 

सुशील मोदी ने यह भी स्पष्ट किया है कि लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) भाजपा की ‘बी’ टीम नहीं है। इससे यह स्पष्ट होता है कि फिलहाल भाजपा नीतिश कुमार से अपने रिश्तों को खराब नहीं करना चाहती।

वही सुशील मोदी से पूछा गया कि भाजपा का केंद्रीय नेतृत्व नीतिश कुमार का कद घटाना चाहता है, तो बयान को उन्होंने सिरे से खारिज करते हुए कहा कि, “लोजपा बिहार में एनडीए का हिस्सा नहीं है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व मुख्यमंत्री नीतिश कुमार करीब एक दर्जन चुनावी सभाओं को संबोधित करने वाले हैं।


और पढ़ें:दुनिया भर में जारी कोरोना का क़हर,भारत में संक्रमण के 67,708 नए मामले सामने आये


 बिहार के डिप्टी सीएम और बीजेपी के वरिष्ठ नेता सुशील मोदी ने कहा 

डिप्टी सीएम सुशील मोदी ने यह स्पष्ट किया है कि, राज्य के विधानसभा चुनावों में यदि बीजेपी अपने गठबंधन के प्रमुख साथ ही जनता यूनाइटेड दल (जदयू) से ज्यादा सीटें लाती भी है, तब भी मुख्यमंत्री नीतिश कुमार को ही बनाया जाएगा।

Bihar deputy CM sushil modi tweets and requested central government for special trains to migrants biharis

इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि, “जदयू को कम सीटें मिलने से भाजपा को क्या फायदा होगा? हम एक मजबूत और स्थिर सरकार बनाना चाहते हैं। हमने स्पष्ट कर दिया है कि जदयू भाजपा की सीटों की संख्या कुछ भी रहे मुख्यमंत्री नीतिश कुमार ही रहेंगे।”

प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री के संयुक्त रैलियों में भ्रम होगा दूर

लोजपा ने अपनी रणनीति के तहत लोगों से अपील की है कि वे मुख्यमंत्री नीतिश कुमार का समर्थन न करें। लेकिन वहीं दूसरी ओर पार्टी ने यह भी ऐलान किया है, कि वह जदयू की सहयोगी भाजपा के खिलाफ उम्मीदवार नहीं उतारेगी। एलजीपी के फैसले से यह कयास लगाए जा रहे थे कि चिराग पासवान के स्वरूप के पीछे बीजेपी का हाथ है। हालांकि, इसे सुशील मोदी ने खारिज किया है।

बिहार के उप-मुख्यमंत्री सुशील मोदी ने अपराधियों से पितृ पक्ष में अपराध न करने का आग्रह किया

वही सुशील मोदी ने यह भी माना है कि इस वजह से एक भ्रम की स्थिति पैदा हुई, जिसे धीरे-धीरे दूर किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि, “हमारे कई नेता और मैं खुद जन सभाओं में इस बात को साफ करते हैं कि लोजपा एनडीए का हिस्सा नहीं है।

वे आगे कहते हैं कि, “एक बार प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री संयुक्त रैलियां कर लेंगे, जिससे यह सारा भ्रम खुद-ब-खुद दूर हो जाएगा।“

कोरोनाकाल में प्रवासी मज़दूरों की हालत पर सुशील मोदी का बयान 

सुशील कुमार मोदी : प्रोफाइल

सुशील मोदी का मानना कि जदयू-भाजपा की सरकार ने कोरोनाकाल और प्रवासी मज़दूरों की स्थिति से अच्छी तरह संभाला है, इससे मतदाताओं में नाराज़गी का सवाल ही नहीं उठता। 

वे आगे कहते हैं कि, “विपक्ष ने कोविड-19 को प्रवासी मज़दूरों के बिहार लौटने के बाद की स्थिति को चुनावी मुद्दा बनाने की कोशिश की, लेकिन वे इसमें विफल रहे।”

निष्पक्ष और जनहित की पत्रकारिता ज़रूरी है

आपके लिए डेमोक्रेटिक चरखा आपके लिए ऐसी ग्राउंड रिपोर्ट्स पब्लिश करता है जिससे आपको फ़र्क पड़ता है
हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.