मधुबनी में दिव्यांग लड़की के साथ किया गैंगरेप, फोड़ी उसकी दोनों आंखें 

मूक-बधिर नाबालिग छात्रा की दोनों आखें हुई बेकार

बिहार के मधुबनी से एक दिलदहला देने वाली घटना सामने आई है। जिस घटना में दरिंदों ने हैवानियत की सारी हदें पार कर दी है। दरसअल मधुबनी में कुछ दरिंदों ने पहले एक नाबालिग गूंगी लड़की से गैंगरेप किया फिर उसके बाद उन्होंने उसकी दोनों आंखें फोड़ दी।दिनदहाड़े बिहार के मधुबनी में हुई ऐसी एक घटना से पूरे इलाके में सनसनी फैल गई है।

मधुबनी गैंगरेप

पीड़िता को बहुत ही नाजुक हालत में मधुबनी के अस्पताल में  रेफर किया गया 

जानकारी के मुताबिक़ लड़की की उम्र मात्र 15 साल जानी गई है। पीड़िता बोल नहीं सकती है कारण वो गूंगी और बहरी दोनों है। नाबालिग लड़की केवल मात्र अपराधियों को देख कर ही पहचान सकती थी और यहीं वजह होगी की उन हैवानों ने बेचारी की दोनों आंखें फोड़ डाली है। हालंकि खोजबीन के बाद ये सभी अपराधी गांव के ही बताए जा रहे हैं। पुलिस द्वारा उन अपराधियों की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी अभी जारी है।


और पढ़ें : स्वास्थ्य कर्मियों के कोरोना वैक्सीन का खर्च पीएम केयर्स फंड से लिया जाएगा 


मधुबनी चिकित्सकों ने बताया पीड़िता की स्थिति काफ़ी नाजुक

हाथरस गैंगरेप: मुंह से आ रहा था खून, बेहोश थी लड़की, डॉक्टर ने बताया क्यों किया रेफर - hathras gangrape dalit victim girl first hospital doctor statement MLC - AajTak

घटना के बारे में जानकारी के लिए जब पीड़िता के भाई से पूछा गया तो उसने बताया कि मंगलवार की दोपहर उसकी बहन गांव के समीप के एक नदी किनारे बकरी के लिये पत्ता लाने गयी थी। जिसके बाद यह घटना घटी है और करीबन  ढ़ाई बजे वहां से आकर एक लड़की ने इस घटना के बारे में बताया है। जब लड़की के परिजन ने उसकी खोजबीन शुरू की तब गांव से कुछ दूर एक दूसरे गांव मनोहपुर गांव के निकट चौर में पीड़ित लड़की घायल अवस्था में बेहोश पाई गई। तब परिजनों ने पीड़ित दिव्यांग लड़की को उमगांव सीएचसी में भर्ती करा दिया एवं जहां चिकित्सकों ने लड़की की स्थिति को काफ़ी नाजुक बताया और उसे मधुबनी सदर अस्पताल रेफर कर दिया गया है।

 पीड़िता किसी को पहचान न सके, इसलिए फोड़ी गई उसकी आंखें

मधुबनी गैंगरेप

परिजनों ने कहा जब पीड़िता मिली तब उसके कपड़े फटे हुए थे एवं गुप्तांग से काफ़ी खून निकल रहा था। सीएचसी के चिकित्सकों ने बताया कि लड़की की आंखों को बड़े ही बेरहमी से किसी प्रकार के नुकीली चीज से फोड़ा गया था। लड़की की आंख पूरी तरह से फूट गए थे और उसकी फूटी आखों से ख़ून बह रहे थे। ऐसा अनुमान लगाया गया है ऐसा इसलिए किया गया होगा ताकि रेप करने के बाद लड़की किसी को पहचान न सके।

ग़ौरतलब है कि गांव के दूसरे एक युवक के कपड़े और चेहरे पर खूने के निशान भी पाये गये हैं। जिसके बाद गावों वालों द्वारा शक के आधार पर यह ख़बर पुलिस को दी गयी है। वहीं इस घटना में  सदर अस्पताल के नेत्र चिकित्सक डा. संजीव कुमार शर्मा ने बताया कि पीड़िता पहले से ही मूक बधिर थी और अब वो अपनी दोनों आखें भी सदा सदा के लिये गंवा चुकी है।

निष्पक्ष और जनहित की पत्रकारिता ज़रूरी है

आपके लिए डेमोक्रेटिक चरखा आपके लिए ऐसी ग्राउंड रिपोर्ट्स पब्लिश करता है जिससे आपको फ़र्क पड़ता है
हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.