मनोज कुमार 225 किलोमीटर साइकिल चलाकर हुए किसान आंदोलन में शामिल

मनोज कुमार साइकिल चलाकर किसान आंदोलन में शामिल

किसान आंदोलन को 1 महीने से अधिक का वक्त बीत चुका है। कृषि क़ानून के विरोध में अन्नदाता सड़कों पर आकर सरकार के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं। उनकी केवल एक ही मांग है सरकार से की कृषि क़ानून को रद्द किया जाए। किसानों का कहना है कि सरकार द्वारा बनाए गए तीनों ही क़ानून किसानों के लिए मौत की लिखित गारंटी है। इन तीनों क़ानूनों से किसान को कोई फायदा नहीं बल्कि सिर्फ नुकसान ही होगा।

मनोज कुमार

दूसरी तरफ कृषि मंत्रालय की ओर से कई बार किसानों और सरकार के बीच वार्ता का प्रस्ताव दिया गया। किसानों एवं सरकार के बीच कई दौर की बातचीत भी हुई लेकिन वह बेनतीजा निकली। कुछ दिनों पहले ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी संवाद के जरिए किसानों से बातचीत करने की कोशिश की एवं उन्हें कृषि क़ानून के मायने समझाने का प्रयास किया लेकिन के साथ अभी भी अपनी मांग पर अड़े हुए हैं। किसान संगठन द्वारा साफ कहा गया है कि जब तक कृषि क़ानून को वापस नहीं लिया जाता तब तक उनका आंदोलन जारी रहेगा। इस आंदोलन के दौरान कई अनोखी झलकियां भी देखने को मिल रहे हैं।


और पढ़ें :उत्तर प्रदेश के केएस साकेत डिग्री कॉलेज में “लेके रहेंगे आजादी” को देश विरोधी बता, छात्रों पर राजद्रोह का केस


मनोज कुमार ने बताया आंदोलन का समर्थन करने हेतु दिल्ली के टिकरी बॉर्डर पहुंचे

मनोज कुमार

पंजाब के संगरूर जिले के सरकारी स्कूल के शिक्षक मनोज कुमार 225 किलोमीटर साइकिल चलाकर सोमवार को टिकरी बॉर्डर पहुंचे एवं किसान आंदोलन में शामिल हुए। अब किसान आंदोलन को किसानों के साथ-साथ आम जनता का भी भरपूर समर्थन प्राप्त हो रहा है। बातचीत के दौरान मनोज कुमार ने देश की जनता से किसान आंदोलन में शामिल होने की अपील की।

मनोज कुमार ने बताया कि किसान पिछले 3 महीने से प्रदर्शन कर रहे हैं। 2 महीने उन्होंने पंजाब में प्रदर्शन किया और 1 महीने से दिल्ली की सड़कों पर डटे हुए हैं। कड़ाके की ठंड में हजारों की संख्या में अन्नदाता सरकार से कृषि क़ानून को रद्द करने की गुहार लगा रहे हैं। बातचीत के दौरान उन्होंने बताया कि वह किसान आंदोलन का समर्थन करने हेतु 225 किलोमीटर पंजाब से साइकिल चलाकर दिल्ली के टिकरी बॉर्डर पहुंचे हैं। वह कहते हैं कि अगर यह क़ानून लागू हुआ तो किसानों के लिए यह एक विनाशकारी साबित होगा।

लोगों से किसान आंदोलन में शामिल होने की अपील की

मनोज कुमार

शिक्षक मनोज कुमार ने आम जनता से अपील करते हुए किसान आंदोलन में शामिल होने को कहा। उन्होंने बताया कि किसान आंदोलन को और मजबूत बनाने के लिए देश की जनता सामने आए एवं अन्नदाता के समर्थन में आंदोलन का हिस्सा बने। उन्होंने यह भी कहा कि यह आम आंदोलन नहीं है बल्कि एक जनहित आंदोलन है। अगर किसान हार गया तो देश भी हार जाएगा। ग़ौरतलब हो कि किसान आंदोलन को धीरे धीरे आम जनता का समर्थन भी प्राप्त हो रहा है। भारी संख्या में लोग दिल्ली के बॉर्डर पर पहुंचकर किसान आंदोलन का हिस्सा बन रहे हैं।

निष्पक्ष और जनहित की पत्रकारिता ज़रूरी है

आपके लिए डेमोक्रेटिक चरखा आपके लिए ऐसी ग्राउंड रिपोर्ट्स पब्लिश करता है जिससे आपको फ़र्क पड़ता है
हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.