बिहार के सबसे गरीब प्रत्याशी में से एक मशकूर उस्मानी के ख़िलाफ़ जेपी नड्डा और योगी आदित्यनाथ मैदान में, मतदान आज

सीएम योगी और जेपी नड्डा बिहार के सियासी मैदान में कर रहे रैली

हम आपको बता दें कि भाजपा सरकार ने उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ और पार्टी अध्यक्ष जेपी नड्डा को बिहार में दरभंगा जिले की जाले सीट पर चुनाव प्रचार के लिए उतारा है। भाजपा जिस कांग्रेस प्रत्याशी कोजिन्ना समर्थककहती है अर्थात् कांग्रेस उम्मीदवार मशकूर उस्मानी वें दरभंगा की जाले सीट से चुनाव लड़ रहे है।

जाले में 7 नवंबर को बिहार चुनाव के अंतिम चरण में मतदान होगा और भाजपा के मौजूदा विधायक जिबेश कुमार के पक्ष में आदित्यनाथ और नड्डा दोनों ने लगातार 4 नवंबर और 5 नवंबर को इस निर्वाचन क्षेत्र में प्रचार किया।

bihar chunav prachar me Yogi Adityanath ne chera pakistan ka mudda बिहार चुनाव प्रचार में बोले योगी आदित्यनाथ, हमने पाकिस्तान में घूसकर आतंकियों को मार गिराया

रैली के दौरान सीएम योगी ने  उठाया पाकिस्तान का मुद्दा

 पुलवामा हमले कि चर्चा करते हुए यूपी के मुख्यमंत्री ने रैली में कहा, आपने पिछले हफ्ते खबर में सुना होगा कि पाकिस्तानी संसद में पुलवामा हमले पर चर्चा हुई थी।मंत्रियों में से एक ने कहा कि अगर हम (एयर फोर्स विंग कमांडर) अभिनंदन को नहीं छोड़ते तो भारत पाकिस्तान पर हमला कर देता। इससे प्रधानमंत्री इमरान खान और पाकिस्तानी सेना प्रमुख के डर साफ़ दिख रहे थे।

साथ ही उन्होंने  कहा, ‘हम दरभंगा में एक एयरपोर्ट बना रहे हैं,यहां एम्स स्थापित किया गया है, तथा एनडीए के शासनकाल में माता जानकी पथ बनने जा रहा है। जाले में अपनी रैली के दौरान आदित्यनाथ ने दरभंगा में कुछ और भी  विकास परियोजनाओं से जुड़े कार्यों का भी ज़िक्र किया।

BJP जिस कांग्रेस प्रत्याशी को 'जिन्ना समर्थक' कहती है, उसे निशाना बनाने के लिए योगी, नड्डा को दरभंगा भेजा

तो वहीं जेपी नड्डा ने वोट मांगने के लिए एक रैली में कहा जब मैं बिहार आया तो  मुझसे पूछा गया कि आप बिहार में राम जन्मभूमि की बात क्यों करते हो? उत्तर में नड्डा कहते हैं कि सीता माता की भूमि पर राम जन्मभूमि की बात नहीं करेंगे तो कहां करेंगे। मोदी जी के दोबारा प्रधानमंत्री बनने के बाद सुप्रीम कोर्ट ने राम जन्मभूमि के पक्ष में फैसला दिया अब वहां भव्य राम मंदिर बन रहा है।

हम आपको बता दें कि बिहार में तीसरे चरण में कुल 78 सीटों पर मतदान होना है जबकि दस नवंबर को नतीजे घोषित किए जाएंगे। साथ ही नड्डा के रैली में लोगों के पूछे जाने सवाल पर कि नड्डा को यहां अनुच्छेद 370 का मुद्दा नहीं उठाना चाहिए? इसपर उन्होंने कहा कांग्रेस ने राम मंदिर के निर्माण का विरोध किया और अदालती सुनवाई में बाधाएं डालीं तब मोदी जी और अमित शाह ने अनुच्छेद 370 खत्म किया जाना सुनिश्चित किया। 


और पढ़ें :बिहार चुनाव के आखिरी चरण में मुजफ्फरपुर और सुपौल में हार्ट अटैक से दो मतदान कर्मियों की मौत 


भाजपा का दुष्प्रचार है, वे चुनाव में ध्रुवीकरण चाहते हैं–  उस्मानी

जाले में पूछताछ कर पता चला कि वहां जीतना उस्मानी के लिए आसान नहीं होगा क्योंकि पहले से ही ऐसी चर्चाएं चल रही हैं कि अगर उस्मानी जीतते हैं तो यह सीट मुसलमानों के लिए आरक्षित हो जाएगी। इसलिए हिंदू वोटवैंक का ध्रुवीकरण हो सकता है। जाले में भूमिहार और ब्राह्मण आबादी के अलावा एक बड़ा तबका मुस्लिम मतदाताओं का है।

भाजपा के सूत्रों ने कहा कि अगर वोटों का ध्रुवीकरण होता है तो भाजपा विधायक के लिए यह सीट जीतना आसान होगा। उस्मानी ध्रुवीकरण रोकने की हर संभव कोशिश के तहत लोगों से शिक्षा और स्वास्थ्य के नाम पर वोट देने की अपील कर रहे हैं। पहली बार विधानसभा चुनाव लड़ रहे उस्मानी ने शिक्षा को अपने अभियान का केंद्रीय विषय बनाया है।

Yogi Adityanath raised the issue of Ram Mandir, Pakistan in Bihar election campaign | योगी आदित्यनाथ ने बिहार चुनाव अभियान में राम मंदिर, पाकिस्तान का मुद्दा उठाया | Navabharat (नवभारत)

हम बता दें आपको कि हाल ही में दंत चिकित्सा का कोर्स पूरा करने वाले 26 वर्षीय उस्मानी ने कोविड-19 लॉकडाउन के दौरान जाले के कुछ गांवों में लाइब्रेरी स्थापित करने का काम शुरू किया था। बता दें कि उस्मानी सबसे गरीब चुनाव प्रत्याशियों में से एक हैं।

चुनाव प्रचार के लिए अपने पिता से 60,000 रुपये और दोस्तों से 30,000 रुपए लिए ,उस्मानी ने कहा कि यह भाजपा का दुष्प्रचार है कि वे चुनाव में ध्रुवीकरण चाहते हैं । आगे मशकूर उस्मानी कहते हैं कि मेरा जिन्ना  से कोई लेनादेना नहीं है। उसी समय मैंने कहा था कि चूंकि यह (जिन्ना का पोर्ट्रेट) इतिहास का हिस्सा है, इसलिए इसे उसकी जगह पर ही रखा जाना चाहिए। लेकिन मेरे नामांकन के बाद कई लोग चुनाव का ध्रुवीकरण करना चाहते हैं इसलिए यह मुद्दा उठाया गया है।

आगे किये गए सवालों पर मशकूर उस्मानी ने कहा कि शिक्षा के अलावा स्वास्थ्य मेरे लिए एक और प्राथमिकता वाला क्षेत्र होगा।साथ ही कहा एक डॉक्टर होने के नाते मैं हर ब्लॉक में एक छोटी डिस्पेंसरी और अपने निर्वाचन क्षेत्र में एक अच्छा अस्पताल चाहता हूं ताकि लोगों को हमेशा दिल्ली या पटना का रुख करना पड़े।

निष्पक्ष और जनहित की पत्रकारिता ज़रूरी है

आपके लिए डेमोक्रेटिक चरखा आपके लिए ऐसी ग्राउंड रिपोर्ट्स पब्लिश करता है जिससे आपको फ़र्क पड़ता है
हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.