मार्केट

अररिया में स्कूल की जमीन पर मार्केट निर्माण रुकवाने शिक्षक और छात्राओं का प्रदर्शन

स्कूल की जमीन बता मार्केट निर्माण रुकवाने का प्रदर्शन

बता दें शहर के चांदनी चौक के निकट राजकीय कन्या मवि से सटे जमीन पर जिला परिषद अररिया की तरफ से बनवाये जा रहे बहुमंजिला मार्केट कॉम्प्लेक्स निर्माण का मामला तूल पकड़ने लगा है। भाकपा माले, हैदर यासीन फाउंडेशन सहित कई संस्था की तरफ से इस मार्केट निर्माण का विरोध किया जा रहा है। 

स्कूली बच्चों के मार्केट निर्माण रुकवाने को लेकर प्रदर्शन का अधिकारियों पर असर नहीं

मार्केट

प्रदर्शन करने पहुंची स्कूल की बच्चियां विद्यालय शिक्षा समिति की अध्यक्षता वार्ड पार्षद रीना देवी और फैसल जावेद यासीन की अगुवाई में लगातार डीडीसी और जिला शिक्षा पदाधिकारी से मिलने की जिद कर रही थी। लेकिन जिला शिक्षा पदाधिकारी डीडीसी के चेंबर में बैठे रहे। लेकिन ना तो डीडीसी मिलने आए और ना ही डीईओ मिलने पहुंचे।

बाद में डीपीओ देवनंदन तांती, प्राथमिक शिक्षक संघ के अध्यक्ष अब्दुल कुद्दुस, एसएसए के सुबोध कुमार ने पहल की और तीन लड़कियों को मिलाने के लिए डीडीसी चैंबर ले गए। चैंबर में क्या बात हुई यह तो पता नहीं लेकिन बाहर निकलकर बच्चियों ने कहा किसी अधिकारी ने ठीक तरीके से बात नहीं किया और पढ़ने की उम्र में आंदोलन नहीं करने की सलाह दी।

हाल ही में सांसद और जिला परिषद अध्यक्ष ने संयुक्त रूप से इसका शिलान्यास किया था

Shivpuri24News: August 2020

जिला परिषद ने इस मार्केट निर्माण के लिए मनोकामना प्रोग्रेसिव नामक एक प्राइवेट संस्था को अधिकृत किया है। जबकि विद्यालय के प्रधानाध्यापक और शिक्षा समिति के अध्यक्ष इसे स्कूल की जमीन बताकर पत्राचार कर चुका है। बुधवार को राजकीय कन्या मध्य विद्यालय की छात्राएं स्कूल की जमीन बताकर निर्माण कार्य को रोकने की मांग को लेकर सड़क पर उतर गई।

स्कूल में छात्र और अभिभावक की एक बैठक आयोजित कर एक प्रस्ताव भी पारित किया गया और स्कूल की बच्चियां स्कूल के सभी शिक्षक, स्टाफ आदि हैदर यासीन फाउंडेशन से जुड़े हुए फैसल जावेद की अगुवाई में जुलूस निकालते हुए समाहरणालय पहुंचे।


और पढ़ें : गुजरात में हर दिन तीन नाबालिग लड़कियों के साथ होता है रेप


एचएम सहित अन्य शिक्षक पर हो सकती है कार्रवाई

मार्केट

डीडीसी कार्यालय में यह प्रदर्शन बिना पूर्व सूचना के था। जिला प्रशासन ने बताया कि इस प्रदर्शन में स्कूल के हेडमास्टर के अलावा सभी शिक्षक और रसोईया भी शामिल थे। प्रदर्शन के दौरान जिला शिक्षा पदाधिकारी ने डीपीओ स्थापना को स्कूल के हेड मास्टर सहित शिक्षकों से स्पष्टीकरण पूछने का निर्देश दिया है। बताया गया है कि स्कूल में पढ़ाई बाधित कर बच्चे को प्रदर्शन के लिए लाना और उसमें खुद शामिल होना नियम के विरुद्ध है। इस संबंध में जिला शिक्षा पदाधिकारी कार्यालय से स्पष्टीकरण पूछने की तैयारी चल रही थी। डीपीओ देवनंदन तांती ने भी प्रदर्शन के दौरान कहा कि हेड मास्टर और शिक्षकों को आना विभागीय नियम के विपरीत है।

जिलाधिकारी के स्तर से गठित की गई है जांच टीम

इधर लगातार मिल रही शिकायतों के देखते हुए डीएम प्रशांत कुमार सीएच ने दो दिन पहले इस मामले की जांच के लिए टीम का गठन किया है। जिस में अनिल ठाकुर की अगुवाई में गठित जांच टीम अभी हर पहलुओं पर जांच कर रही है। इस टीम में एडीएम के अतिरिक्त डीईओ और अररिया सीओ हैं।

निष्पक्ष और जनहित की पत्रकारिता ज़रूरी है

आपके लिए डेमोक्रेटिक चरखा आपके लिए ऐसी ग्राउंड रिपोर्ट्स पब्लिश करता है जिससे आपको फ़र्क पड़ता है
हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.