भारतीय रिजर्व बैंक की मौद्रिक नीति समीक्षा बैठक 7 से 9 अक्टूबर तक होगी

भारतीय रिजर्व बैंक की एमपीसी की बैठक 7 से 9 अक्टूबर तक

भारतीय सरकार की तरफ से मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी) में तीन सदस्यों की नियुक्ति के साथ ही रिजर्व बैंक ने मंगलवार को बताया कि समिति की अगली बैठक 7 से 9 अक्टूबर के बीच तय की गई है। वहीं “केंद्र सरकार ने एमपीसी में 3 सदस्यों की नियुक्ति कर दी है और यह तीनों ही जाने-माने अर्थशास्त्री हैं।”

7 से 9 अक्टूबर तक RBI की होगी मौद्रिक नीति समिति बैठक, आम आदमी को मिल

रिजर्व बैंक ने 28 सितंबर को एमपी सी की बैठक को टाल दिया था। इसका कारण स्वतंत्र सदस्यों की नियुक्ति में हो रही देरी को बताया गया। समय पर नियुक्ति नहीं होने की वजह से बैठक को आगे के लिए टाल दिया गया।


आगे पढ़ें:बेग़म अख़्तर: वह ग़ज़लकार जिनकी आवाज अब भी लोगों के दिलों में जिंदा है


रिजर्व बैंक ने मंगलवार को जारी किया बयान

रिजर्व बैंक ने मंगलवार को अपने जारी किए गए बयान में कहा की एमपीसी की होने वाली बैठक की तारीख पैक कर ली गई है जो 7 से 9 अक्टूबर के बीच होगी।

rbi will announce policy rate on 9 october repo rate will be reduced or will there be no any change churn starts tomorrow vwt | आरबीआई 9 अक्टूबर को करेगा पॉलिसी रेट

केंद्र सरकार ने एमपी सी के तीन सदस्यों की नियुक्ति कर दी है। यह तीनों ही जाने-माने अर्थशास्त्री बताए जा रहे हैं।अशिमा गोयल, जयंत आर वर्मा और शशांक भिडे को एमपीसी का सदस्य नियुक्त किया गया है। 

सरकार ने जिन सदस्यों की नियुक्ति को मंजूरी दी है, उनमें इंदिरा गांधी इंस्टीट्यूट ऑफ डेवलपमेंट रिसर्च की आशिमा गोयल, इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट के प्रोफेसर जयंत आर वर्मा और नेशनल काउंसिल ऑफ अप्लाइड इकोनॉमिक रिसर्च यानी NCAER के अशोक भिडे शामिल हैं और अशोक भिडे महंगाई और कृषि मामलों के भी विशेषज्ञ है। 

निष्पक्ष और जनहित की पत्रकारिता ज़रूरी है

आपके लिए डेमोक्रेटिक चरखा आपके लिए ऐसी ग्राउंड रिपोर्ट्स पब्लिश करता है जिससे आपको फ़र्क पड़ता है
हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.