लव जिहाद के अफ़वाह पर पुलिस ने मुस्लिम जोड़े की रुकवा शादी,रात भर थाने में रखा

लव जिहाद के अफ़वाह पर पुलिस ने रुकवा दिया शादी

यूपी के कुशीनगर से लव जिहाद कानून का पुलिस द्वारा मनमाना कार्यवाही का मामला सामने आया है। इस बारे में जानकारी के मुताबिक कुशीनगर ने हैदर अली नामक युवक को लड़की का धर्म परिवर्तन करवा कर शादी करने जा रहे ऐसे सूचना मिलने पर पुलिस विवाह स्थल पर पहुंची और लड़के को बिना एफ़आईआर रातभर थाने में बंद रखा।

लव जिहाद

पीड़ित युवक ने पुलिस पर मारपीट का लगाया आरोप

इस पूरे मामले में 39 वर्षीय युवक हैदर अली ने आरोप लगाया कि पुलिस ने उसे कश्या पुलिस थाने में बंद कर घंटो लेदर के बेल्ट से पिटाई की। बाद में युवती शबीला खातून जिससे युवक की शादी होने वाली थी उसके भाई ने आजमगढ़ जिले पहुंच कर पुलिस को बताया कि उन्हें इन दोनों की शादी से कोई ऐतराज नहीं है। इसके बाद उन्हें छोड़ दिया गया।

लव जिहाद


और पढ़ें :केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र तोमर ने कहा बिजनेसमैन नहीं हड़प सकते जमीन


पुलिस थाने में युवती के परिवार द्वारा आधार कार्ड दिखाने पर मानी बात

इस पूरे मामले पर पुलिस थाने के एसएचओ संजय कुमार ने कहा कि किसी ने शरारत की और उन्हें गलत जानकारी दी इस वजह से उन्होंने शादी रुक वाई। वहीं सर्किल ऑफिसर पियूष कांत राय ने कहा कि नए कानून आने के बाद से माहौल खराब है इस वजह से पुलिस कड़े कदम उठा रही है।

लव जिहाद

यह लव जिहाद का मामला नहीं

इस मामले पर विवाद बढ़ने के बाद एसपी विनोद कुमार सिंह ने भी सामने आकर इस बारे में बात किया और कहा की युवक के साथ किसी तरह की मार पीट नहीं की गई है। हमने सिर्फ स्थानीय लोगों द्वारा शिकायत मिलने पर दोनो को थाने लाया यह। बाद में उनके परिवार द्वारा प्रूफ दिखाने पर की दोनों एक ही समुदाय से है और यह लव जिहाद का मामला नहीं है। दोनो रिहा कर दिया गया और इसमें मारपीट का कोई बात ही नहीं उठता है।

लव जिहाद

जानकारी के मुताबिक शादी से लगभग एक हफ्ते पहले युवती अपने घर आजमगढ़ से भाग कर कुशीनगर आयी थी। और गुमशुदगी की शिकायत को देखने पर पुलिस का शक बढ़ी गया था। वहीं इस मामले में हिन्दू युवा वाहिनी की संलिप्ता सामने आती है। हैदर अली के गांव के गार्ड मुश्ताकिम अली ने माना कि उसने हिन्दू वाहिनी के कहने पर पुलिस को गलत सूचना दी थी ।

नए कानून में 10 साल तक की सजा के साथ साथ जुर्माना का भी प्रावधान 

ग़ौरतलब है कि यूपी में लव जिहाद को लेकर बने कानून ‘उत्तर प्रदेश विधि विरुद्ध धर्म परिवर्तन प्रतिषेध अध्यादेश-2020’ के लागू होने के बाद से लगातार कई मामले सामने आ रहे है। इस नए अध्यादेश के मुताबिक बल पूर्वक, झूठ बोलकर, लालच देकर या अन्य किसी कपटपूर्ण तरीके से अथवा विवाह के लिए धर्म परिवर्तन गैर ज़मानती अपराध होगा। लेकिन लगातार इससे जुड़े कई विवाद सामने आ रहे है और इससे  आम लोगों को काफी परेशानी हो रही है। 

निष्पक्ष और जनहित की पत्रकारिता ज़रूरी है

आपके लिए डेमोक्रेटिक चरखा आपके लिए ऐसी ग्राउंड रिपोर्ट्स पब्लिश करता है जिससे आपको फ़र्क पड़ता है
हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.