कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स ने जताई वॉट्सऐप की नई गोपनीयता नीति पर कड़ी आपत्ति

अर्थव्यवस्था एवं देश की सामाजिक संरचना के डेटा महत्वपूर्ण

लोकप्रिय मैसेजिंग ऐप वॉट्सऐप की नई गोपनीयता नीति पर कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स द्वारा कड़ी आपत्ति जताई गई है। कारण व्हाट्सएप अपने नई नीति के जरिए से इसका प्रयोग करने वाले हर व्यक्ति के समस्त  तरह के डेटा, भुगतान लेनदेन, संपर्क, स्थान एवं अन्य और भी महत्वपूर्ण जानकारियों को हासिल कर सकता है और जिसे वो अपने किसी भी उद्देश्य के लिए उपयोग कर सकता है। अब अगर व्हाट्सएप का डेटा फेसबुक के सर्वरों में जाता है तो व्यापारिक रहस्य सामने आने लगेंगे एवं इतना ही नहीं इससे डेटा प्रतिद्वंद्वी कंपनी को बेचा भी जा सकता है।

 

वॉट्सऐप

इसी कारण से कैट यानी कारोबारियों के संगठन कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स ने वॉट्सऐप की इस नई गोपनीयता नीति पर कड़ी आपत्ति जताते हुए उस पर बैन लगाने की मांग को सामने रखा है। 

नई नीति से वॉट्सऐप हासिल कर सकता है,आपका व्यक्तिगत डेटा

वॉट्सऐप

कैट ने कहा है कि वॉट्सऐप अपनी नई नीति से ऐप को प्रयोग करने वाले हर व्यक्ति  के व्यक्तिगत डेटा को हासिल कर किसी भी उद्देश्य के लिए इस्तेमाल कर सकता है। कैट ने इस मामले पर सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री रविशंकर प्रसाद को एक पत्र भेजा है। जिस पत्र में कैट ने उनसे मांग की है कि सरकार को वॉट्सऐप को इस नई गोपनीयता नीति को लागू करने से जल्द ही रोक देना चाहिए 

जानकारी के मुताबिक़ हमारे देश में फेसबुक के करीबन 20 करोड़ से अधिक यूजर हैं एवं कंपनी द्वारा हर उपयोगकर्ता के डेटा को अपनी नीतियों के ज़रिए से जबरन प्राप्त करने से न केवल मात्र अर्थव्यवस्था बल्कि इसके साथ ही देश की सुरक्षा के लिए गंभीर खतरा पैदा हो सकता है।


और पढ़ें : भारत में 2021-22 के बजट के लिए किन पहलुओं पर किया जाना चाहिए विचार 


कैट ने कहा वॉट्सऐप नीति का असली उद्देश्य व्यापार एवं अर्थव्यवस्था को नियंत्रित करना

वॉट्सऐप

ग़ौरतलब है कि कैट ने इस मामले पर कहा कि यह हमें ईस्ट इंडिया कंपनी के उन दिनों की याद करवाता  है। जब कंपनी ने नमक व्यापार करने के लिए भारत में प्रवेश किया था और जिसके बाद हमारा देश उनका गुलाम बन गया था। इसी तरह आज के समय में डेटा अर्थव्यवस्था एवं देश की सामाजिक संरचना के लिए बेहद ही महत्वपूर्ण है और बिना किसी शुल्क के फेसबुक एवं वॉट्सऐप का प्रयोग करने के लिए प्रत्येक भारतीयों को पहले सुविधा देने के पीछे अब इनका असली मकसद समझ आ रहा है। 

कैट ने कहा उनका असली उद्देश्य हर भारतीय के डेटा को हासिल करना ही है और छिपे हुए अपने एजेंडे के साथ वे भारत के व्यापार एवं अर्थव्यवस्था को संपूर्ण रूप से नियंत्रित करना चाहते हैं। इसी के साथ कैट के राष्ट्रीय अध्यक्ष बी सी भरतिया एवं राष्ट्रीय महामंत्री प्रवीन खंडेलवाल ने बताया है कि वॉट्सऐप अपनी बदली हुई निजता नीति को भारत में अगले महीने से ही लागू करने वाला है।

ये वॉट्सऐप का प्रयोग करने वाले हर व्यक्ति को अपनी मनमानी और एकतरफ़ा शर्तों को स्वीकार करने के लिए बाध्य करने वाला है। अगर व्यक्ति ऐसा नहीं करता है तो उसे अपने मोबाइल से वॉट्सऐप को हटाना पड़ेगा। उन्होंने कहा कि वॉट्सऐप की यह नीति भारत के संविधान के मूल बुनियादी सिद्धांतों के खिलाफ भी है। इसलिए सरकार को इस मुद्दे पर तुरंत ही हस्तक्षेप करना चाहिए।

निष्पक्ष और जनहित की पत्रकारिता ज़रूरी है

आपके लिए डेमोक्रेटिक चरखा आपके लिए ऐसी ग्राउंड रिपोर्ट्स पब्लिश करता है जिससे आपको फ़र्क पड़ता है
हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.