व्हाट्सएप

दिल्ली हाई कोर्ट ने व्हाट्सएप पर की टिप्पणी 

यदि निजता होती प्रभावित, तो व्हाट्सएप का इस्तेमाल ना करें

व्हाट्सएप की नई पॉलिसी को लेकर बवाल खड़ा हो चुका है। उपयोगकर्ताओं द्वारा यह आरोप लगाया जा रहा है कि व्हाट्सएप की नई प्राइवेसी पॉलिसी लोगों के प्राइवेट मैसेजेस की निगरानी करती है। इसको लेकर कंपनी परेशानियों में घिर चुकी है।

व्हाट्सएप

इस  संबंध में दिल्ली हाईकोर्ट में व्हाट्सएप की नई प्राइवेसी पॉलिसी को लेकर एक याचिका दायर की गई जिसमें याचिकाकर्ता ने मांग की है कि,” व्हाट्सएप की नई प्राइवेसी पॉलिसी लोगों की निजता को प्रभावित करती है। इस संबंध में सरकार को कड़े कदम उठाने चाहिए।” इस याचिका पर सोमवार को सुनवाई हुई लेकिन कोर्ट ने व्हाट्सएप और फेसबुक को लेकर नोटिस जारी करने से साफ इनकार कर दिया।

कोर्ट ने कहा, ‘गोपनीयता की चिंता है तो छोड़ दे व्हाट्सएप’

व्हाट्सएप

याचिका पर सुनवाई करते हुए कोर्ट ने कहा कि, “यदि आपको लगता है कि व्हाट्सएप से आपकी निजता का हनन हो रहा है तो आप इसका इस्तेमाल करना छोड़ दे और दूसरी एप्लीकेशन का उपयोग करें।” इस पर कोर्ट ने सवाल करते हुए कहा कि, “क्या आप गूगल मैप्स का इस्तेमाल करते हैं, यह आपके डाटा को कैप्चर व शेयर करता है।” कोर्ट ने टिप्पणी करते हुए कहा कि प्राइवेसी पॉलिसी का इस्तेमाल कई तरह के ऐप्स और ब्राउज़र करते हैं। ऐसे में किसी एक ऐप की बात करना उचित नहीं है। कोर्ट ने आगे कहा कि यदि उपयोगकर्ता अन्य एप्स की नीतियों को पढ़ते हैं तो उन्हें वह कोर्ट की नीतियों के समान ही नजर आएंगे। इसी के साथ कोर्ट खोज ने कहा कि इस मामले में विस्तृत सुनवाई होगी जो कि 25 जनवरी को तय की गई है।


और पढ़ें : कवि डॉ यशवंत मनोहर ने सरस्वती की तस्वीर के कारण पुरस्कार लेने से मना किया


जानें, व्हाट्सएप की नई प्राइवेसी पॉलिसी जिसे लेकर बढ़ा विवाद

व्हाट्सएप

हाल ही में व्हाट्सएप ने अपनी प्राइवेसी पॉलिसी में बदलाव करते हुए नई प्राइवेसी पॉलिसी को लेकर लोगों को नोटिफिकेशन भेजना शुरू कर दिया। नोटिफिकेशन में कहा गया कि 8 फरवरी से ही यूजर्स को व्हाट्सएप की नई शर्तों को मानना होगा नहीं तो यूज़र्स का खाता बंद कर दिया जाएगा। इस बीच में यह बात सामने आई कि व्हाट्सएप का डाटा फेसबुक में शेयर किया जा रहा है। जिसके बाद से पूरे देश में इसका विरोध होने लगा। इस संबंध में सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की गई और कहा कि व्हाट्सएप की प्राइवेसी पॉलिसी निजता के मौलिक अधिकार का हनन करती है इसलिए इस पर रोक लगाने की जरुरत है।

प्राइवेसी पॉलिसी को लेकर दी सफाई

देश में जारी विरोध को देखते हुए व्हाट्सएप ने अपने अधिकारीक पेज के FAQ में यह साफ किया कि कंपनी यूज़र्स के प्राइवेट मैसेजेस नहीं देख सकती। इसके साथ ही उपयोगकर्ताओं के स्टेटस के जरिए भी कंपनी ने अपनी यह बात रखी कंपनी ने यह कहा कि ना तो वो मैसेज देख सकते हैं नहीं कॉल को सुन सकते हैं।

निष्पक्ष और जनहित की पत्रकारिता ज़रूरी है

आपके लिए डेमोक्रेटिक चरखा आपके लिए ऐसी ग्राउंड रिपोर्ट्स पब्लिश करता है जिससे आपको फ़र्क पड़ता है
हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.