तमिलनाडु में शौचालय की कमी के कारण से हुई एक महिला की मौत

शौचालय की कमी से हुई एक महिला की मौत

जहां देशभर में स्वच्छ भारत अभियान चलाया जा रहा है और जिसके तहत शौचालय बन रहें हैं। वहीं ऐसी घटनाएं सामने आ रही है जो काफ़ी दुखद है। बता दें कि पर्याप्त शौचायलों न होने के कारण तमिलनाडु के कांचीपुरम जिले में एक महिला की मौत हो चुकी है।

World Toilet Day 2020 Know Why Celebrate World Toilet Day

हम बता दें कि तमिलनाडु पब्लिक सर्विस कमीशन में काम करने वाली एक महिला कर्मचारी की 5 दिसंबर शनिवार को एक अज्ञात सेप्टिक टैंक में गिरने की वज़ह से मृत्यु हो गई है।

दरसअल 24 साल की सरन्या शनमुगन कांचीपुरम जिले में एक कृषि डिपो में पोस्टेड थीं एवं उनके कार्य स्थान में शौचालय की कमी के चलते कांचीपुरम एग्रीकल्चर डेवलपमेंट ऑफिस में काम करने वालीं उनके साथ तीन महिलाओं को शौचालय का प्रयोग करने के लिए पास की बिल्डिंगों या लोगों के घरों में जाना होता था।


और पढ़ें : गुजरात में दलित युवक को ऊंची जाति का नाम रखने सरेआम पीटा गया


इमारतों और घरों में शौचालय का उपयोग करने के लिए महिलाएं मजबूर

The government gave toilets for toilet, this person made the toilet a kitchen | सरकार ने शौच के लिए दिए शौचालय, इस शख्स ने टॉयलेट को ही किचन बना लिया

जैसा हमने कहा कि उनके कार्यालय में शौचालय की कमी थी इस कारण से सरन्या एवं उसके साथी कॉलेजों की पास की इमारतों और घरों में शौचालय का उपयोग करने के लिए मजबूर थे। और उस दिन भी सरन्या खुद को राहत देने के लिए पास के एक निर्माणाधीन घर में गई एवं जहां सेप्टिक टैंक एक टिन की चादर से ढका हुआ था। और  ग़लती से किसी तरह वो बेचारी फिसल गई और टैंक में गिर गई एवं उसकी मृत्यु हो गई।

महिला शौचालय और मेरा अनुभव

सरन्या के आधे घंटे तक वापस नहीं लौटने पर उसे खोजा गया और जब वो मिली तो सरकारी अस्पताल ले जाया गया पर दुख की बात है कि  उसे वहां मृत घोषित कर दिया गया। उसकी माँ ने कहा कि सरन्या उन्हें हमेशा कहती थी कि कार्यालय में शौचालय नहीं है जिस वजह से भीषण असुविधा होती है।

निष्पक्ष और जनहित की पत्रकारिता ज़रूरी है

आपके लिए डेमोक्रेटिक चरखा आपके लिए ऐसी ग्राउंड रिपोर्ट्स पब्लिश करता है जिससे आपको फ़र्क पड़ता है
हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.