दो समलैंगिक लड़कियों ने अपनी मर्ज़ी से आपस में की शादी, रिश्ते में लगती है चचेरी बहन

समलैंगिक शादियों को कानूनी मान्यता दे दी गई है

भारत में बहुत समय पहले ही समलैंगिक शादियों को कानूनी मान्यता दे दी गई है लेकिन आज भी हमारे समाज में ऐसी शादियों और जोड़ों को कम ही अपनाया जाता है। ऐसी ही एक तस्वीर झारखंड की राजधानी रांची से लगभग 160 किलोमीटर दूर कोडरमा जिले से है। यहां रिश्ते में चचेरी बहनों ने घरवालों से छुप कर शादी कर ली है। 

2 लड़कियों ने घर से भागकर आपस में की शादी, दोनों रिश्ते में लगती है चचेरी बहन, Gorakhpur Latest News

कोडरमा जिले में समलैंगिक शादी का यह पहला मामला

दोनों युवतियां कोडरमा के झुमरी तिलैया की ही रहने वाली हैं। और उन्होंने अपने रिश्ते के बारे में परिवार वालों को बताए बिना ही लिव इन में रह रही थीं। और गत 8 नवंबर 2020 को दोनो ने कोडरमा के झुमरी तिलैया के एक शिव मंदिर में शादी कर की।   

कपल की बात करे तो उनमें एक युवती की उम्र 24 साल है और दूसरी की उम्र 20 साल है।  एक ने ग्रेजुएशन तक की पढ़ाई की है दूसरी ने इंटर की पढ़ाई पूरी कर ली है।

दोनों 20 दिन पहले ही घर से फरार होकर रांची के कांके रोड इलाके में रह रही थी। दोनों को खोजते हुए परिजन पहुंचे और लड़कियों को घरवाले और रिश्तेदारों ने समझाया लेकिन बात नहीं बनी इसके बाद परिवार वाले दोनो को लेकर तिलैया थाना पहुंचे। 


और पढ़ें :भाजपा के महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने कहा जनवरी से लागू होगा नागरिकता संशोधन कानून


दोनों लड़कियां अपने फैसले से पीछे हटने को तैयार नहीं

2 लड़कियों ने घर से भागकर आपस में की शादी, दोनों रिश्ते में लगती है चचेरी बहन

दोनों ने पुलिस को बताया कि दोनों चचेरी बहने है। पांच साल से दोनों के बीच प्रेम प्रसंग चल रहा था। जिसके बाद दोनों ने शादी करने का फैसला लिया। दोनों एक दूसरे से अलग नहीं रह सकती है।

दोनों खर्च चलाने के लिए काम करती है। एक मॉल में काम करती है तो दूसरी बच्चों को ट्यूशन पढ़ाती है  इससे जो पैसा मिलता है उससे अपना खर्च चलाती है।

लेस्बियन कपल कहलाने में किसी तरह की शर्मिंदगी महसूस नहीं होती

कपल का कहना है कि जितनी भी मुश्किल आ जाए वे हमेशा एक दूसरे के साथ रहेंगी। कपल ने बताया कि उन्हें यह बात अच्छे से पता है कि समलैंगिक संबंध अब कानूनी तौर से वैध है लेकिन यहां उन्हें कोई नहीं अपनाएगा इसलिए दोनों  किसी दूसरे शहर में बसना चाहती हैं ताकि वे परेशानियों से बच सकें। 

2 लड़कियों ने घर से भागकर आपस में की शादी, दोनों रिश्ते में लगती है चचेरी बहन

भारत में दो व्यस्क लोगों के बीच समलैंगिक संबंध नहीं अपराध 

समलैंगिकता को अवैध बताने वाली IPC की धारा 377 की वैधता पर सुप्रीम कोर्ट ने एक अहम फैसला सुनाते हुए इसे वैध बना दिया था। जिसके बाद भारत में दो वयस्क लोगों के बीच सहमति से बनाए गए समलैंगिक संबंध अब अपराध की श्रानी में नहीं आते है। लेकिन समलैंगिकों की इस ऐतिहासिक जीत के बाद भी आज तक समाज ने पूरी तरह से इसे स्वीकार नहीं किया है।

निष्पक्ष और जनहित की पत्रकारिता ज़रूरी है

आपके लिए डेमोक्रेटिक चरखा आपके लिए ऐसी ग्राउंड रिपोर्ट्स पब्लिश करता है जिससे आपको फ़र्क पड़ता है
हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.