दिल्ली में नौकरी देने के नाम पर किया गया फ्रॉड, पकड़े गए अपराधी

दिल्ली:नौकरी देने का दिया झांसा,27000 लोगों से लिए गए करोड़ों रुपए

यह घटना दिल्ली की है जहां सरकारी नौकरी दिलाने के नाम पर ठगने वाले 5 व्यक्ति को दिल्ली पुलिस के साइबर सेल ने गिरफ्तार किया है।पुलिस सूत्रों से पता चला है कि इस गैंग ने 27,000 लोगों से रजिस्ट्रेशन के नाम पर पिछले दो महीनों से झूठी सरकारी वेबसाइट पर 1 करोड़ 9 लाख़ रुपए वसूला है।दिल्ली पुलिस के साइबर सेल ने इस फर्जी वेबसाइट बनाकर लोगों को ठगने वाले सबसे बड़े गैंग का खुलासा किया है।

crime News : सरकारी नौकरी के नाम पर ठगी करने वाले 5 गिरफ्तार - mumbai police arrested 5 people in fraudulence they dodge youth to settle in government job | Navbharat Times

हम आपको बता दें कि गैंग के पांच लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया है, जबकि इस गैंग के मुख्य मास्टरमाइंड की तलाश अभी जारी है।साइबर सेल के डीसीपी अनयेश रॉय ने कहा कि, उनके पास एक शिकायत आई थी, जिसमें शिकायत करने वाले ने बताया कि स्वास्थ्य मंत्रालय के तहत चल रही एक वेबसाईट – स्वास्थ्य एवं जन कल्याण संस्थान के जरिए उन्होंने नौकरी के लिए अप्लाई किया था लेकिन ऑनलाइन फ़ीस देने के बाद अब वेबसाईट वालों से कोई संपर्क नहीं हो पा रहा है ना ही कुछ पता चल रहा है,इसके बाद उसने शिकायत दर्ज़ किया कि उसके साथ ठगी हुई है।


और पढ़ें :EVM बदले जाने के अफ़वाह के बाद कांग्रेस प्रत्याशी का समर्थकों के मामले में केस दर्ज़


दिल्ली पुलिस ने इससे जुड़ी दो और वेबसाईट के बारे में पता किया गया

कानपुर: नौकरी के नाम पर ठगी करने वाले जालसाजों को पुलिस ने किया गिरफ्तार, खुद को बताते थे आईएएस अफसर

पुलिस ने साइबर सेल जांच के बाद जब पता किया तो वेबसाईट और इससे जुड़ी दो और वेबसाईट  के बारे में भी पता चला, पता चला कि ये कोई सरकारी वेबसाईट नहीं है, बल्कि इसे हरियाणा के हिसार से एक गैंग चला रहा है। इन वेबसाईट पर अलग-अलग तरह की 13 हज़ार नौकरियों की वैकेंसी निकाली गई हैं, जिनमें क्लर्क से लेकर एम्बुलेंस ड्राइवर तक के पद है। 

गैंग से 49 लाख़ रुपये बरामद हुए

जानकारी के लिए बता दें इस गैंग से 49 लाख़ रुपये बरामद हुए हैं। इनके कई बैंक खातों को फ़्रीज़ कर दिया गया है। अब इस मामले में दूसरे मुख्य आरोपी विष्णु शर्मा की तलाश जारी है। वेबसाईट के लिंक पर रजिस्ट्रेशन के लिए 15 लाख़ से ज्यादा मैसेज़ आए और नौकरी की चाहत रखने वाले 27 हज़ार से ज्यादा लोग ठगी के शिकार हो गए।

महोबा में नौकरी दिलाने के नाम पर ठगी करने वाला पकड़ा गया - uttamhindu

पुलिस ने वेबसाईट से जुड़े अकाउंट नम्बर और मोबाइल नंबर की जांच की, तो पता चला कि वेबसाईट के जरिये जो पैसा ऑनलाइन मंगाया जा रहा है,वो अलग-अलग बैंक अकाउंट में ट्रांसफर हो रहा है।इसके बाद ये पैसा हिसार में अलग-अलग एटीएम से निकाला भी जा रहा है।पहले अमन खटकर नाम के शख्स को गिरफ्तार किया। इसके बाद इसी गैंग के चार और लोगों- सुरेंद्र सिंह, संदीप, रामधारी और जोगिंदर सिंह को गिरफ्तार किया।

पुलिस ने बताया कि जोगिंदर सिंह और संदीप ने भारी मात्रा में लोगों को मेल्स और मैसेज़ किया साथ ही पुलिस ने बताया कि वेबसाइट पर प्रत्येक व्यक्ति को 400-500 रुपए देकर बायोडाटा अपलोड करने को कहा गया।

जैसा कि हम जानते है इस वर्ष  कोरोना और लॉकडाउन की वजह से कई लोगों को मुश्किल से गुजारा करना पड़ रहा है और इसी कारण कई लोग ऑनलाइन में जॉब ढूंढने के चक्कर में इस तरीके की फर्जी वेबसाइट पर ठगे जा रहे हैं। हालांकि इस घटना के सामने आने पर पुलिस भी बड़े सजग तरीके से इस तरीके के फ्रॉड वेबसाइट और  ठगों का पता लगाने की पूरी कोशिश कर रही है।

निष्पक्ष और जनहित की पत्रकारिता ज़रूरी है

आपके लिए डेमोक्रेटिक चरखा आपके लिए ऐसी ग्राउंड रिपोर्ट्स पब्लिश करता है जिससे आपको फ़र्क पड़ता है
हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.