18 वर्षीय लड़की ने बार-बार बेचे जाने से परेशान होकर किया आत्महत्या

छत्तीसगढ़ का जशपुर जिले के छतरपुर में दंपति जोड़े ने एक 18 वर्षीय लड़की को नौकरी का लालच दिया। लड़की झांसे में भी आ गई और वह इन लोगों के साथ चलने के लिए राजी हो गई। जानकारी के अनुसार इसके बाद दंपती जोड़े ने लड़की के माता-पिता को फोन कर फिरौती की मांग करने लगे। जब लड़की के माता-पिता ने पैसे देने से इंकार कर दिया तो उसे 20 हजार में बेच दिया गया।लड़की को एक बार नहीं बल्कि कई बार बेचा गया इतना ही नहीं उसकी शादी मानसिक रूप से बीमार लड़के से भी करा दी गई। इससे आहत होकर लड़की ने आत्महत्या कर लिया। लड़की ने आत्महत्या 2020 में ही कर लिया था लेकिन इस मामले का उजागर फरवरी 2021 में जाकर हुआ।

Image result for 18 वर्षीय लड़की ने बार-बार बेचे जाने से परेशान होकर आत्महत्या कर लिया

किडनैपिंग के केस में छत्तीसगढ़ पहुंची पुलिस की टीम को इस घटना के बारे में पता चला

यह मामला तब सामने आया जब पुलिस टीम किडनैपिंग हुई लड़की को ढूंढने के लिए छत्तीसगढ़ पहुंची। छतरपुर के एसपी सचिन शर्मा ने इस मामले पर मीडिया से खास बातचीत की। उन्होंने बताया कि लड़की के पिता ने जशपुर पुलिस में लड़की के किडनैप होने और फिरौती को लेकर किए गए कॉल के बारे में मामला दर्ज करवाया। उनकी शिकायत के आधार पर लड़की को किडनैप करने वाले दंपति जोड़े को खोजा गया। इसके बाद एक-एक कर पुलिस उन लोगों तक पहुंची जिन्होंने लड़की को बार बार बेचा। इसी क्रम में आखिरकार पुलिस को पता चला कि लड़की ने 2020 में ही सुसाइड कर ली है।


और पढ़ें :देश विरोधी गतिविधियों को रिपोर्ट करने सरकार को साइबर स्वयंसेवकों की तलाश


18 वर्षीय लड़की को छह बार अलग-अलग जगह बेचा गया

Image result for 18 वर्षीय लड़की ने बार-बार बेचे जाने से परेशान होकर आत्महत्या कर लिया

जानकारी के अनुसार 18 वर्षीय लड़की को छह बार अलग-अलग जगह बेचा गया। 3 जुलाई 2020 को कांसाबेल इलाके से पंचम सिंह और उसकी पत्नी सविता ने लड़की का अपहरण किया। अपहरण करने के बाद दोनों ने लड़की के मां-बाप को फोन करके फिरौती की मांग की। रुपए नहीं मिलने पर लड़की को जान से मारने की धमकी भी देने लगे। कुछ दिनों के बाद लड़की को 20 हजार रुपए में कल्लू रैकवार को बेच दिया गया। वह भी छतरपुर का रहने वाला था। उसने कुछ दिनों तक लड़की का रेप किया फिर हरेंद्र सिंह बुंदेला नाम के एक युवक को बेच दिया।

उसने भी कुछ दिनों तक लड़की को अपने पास रखा और इसके बाद राजपाल सिंह को बेच दिया। यह सिलसिला कई दिनों तक चलता रहा और इस क्रम में लड़की को छह बार बेचा गया। अंत में संतोष कुशवाहा ने लड़की को 70 हजार रुपए में खरीदा और अपने‌ मानसिक रूप से बीमार बेटे के साथ उसकी शादी करा दी। इन सब से परेशान होकर लड़की ने 10 सितंबर 2020 को आत्महत्या कर लिया। फिलहाल पुलिस ने इन सभी आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है और इनसे पूछताछ जारी है।

पुलिस को दंपति जोड़े पर अन्य लड़कियों को बेचने का भी शक

Image result for 18 वर्षीय लड़की ने बार-बार बेचे जाने से परेशान होकर आत्महत्या कर लिया

पुलिस को शक है कि पंचम सिंह और उसकी पत्नी सविता छत्तीसगढ़ के आदिवासी इलाकों से भी लड़कियों को किडनैप कर दूसरे जगह बेचा करते हैं। आए दिन या खबर आती रही हैं कि आदिवासी घर की लड़की गायब हो गई है। फिलहाल इस क्रम में पुलिस दंपति जोड़े से पूछताछ कर रही है। पुलिस का कहना है कि मामला मानव तस्करी से लेकर बलात्कार और आत्महत्या के लिए उकसाने का है। दोषियों पर कड़ी से कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

निष्पक्ष और जनहित की पत्रकारिता ज़रूरी है

आपके लिए डेमोक्रेटिक चरखा आपके लिए ऐसी ग्राउंड रिपोर्ट्स पब्लिश करता है जिससे आपको फ़र्क पड़ता है
हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.