राज्य सरकार का आदेश- हर उपस्वास्थ्य केंद्र पर हो कोरोना की जांच लेकिन सच्चाई इसके काफी दूर

जैसे ही राज्य में जांच की संख्या बढ़ी है वैसे ही संक्रमितों की संख्या भी बढती जा रही है। राज्य में संक्रमितों की दर धीरे धीरे बढ़ते हुए 8.52% हो चुकी है। राज्य सरकार हर प्राथमिक उपस्वास्थ्य केंद्र पर कोरोना जांच के लिए कहा है।

बिहार राज्य में 2192 नए कोरोनावायरस के मरीज़ मिले। इनमें 26 जुलाई को 812 एवं 25 जुलाई को 1048 और 24 जुलाई को 332 नए कोरोना संक्रमित की पहचान शामिल है। उसके साथ बिहार में अब तक कुल 41,111 और कोरोनावायरस के कारण वश मरने वालों की संख्या 255 हो गई है। राज्य में कोरोनावायरस के स्वस्थ होने की दर 67.73% है।

पटना में 553 नए संक्रमित मिले पिछले 3 दिनों में पटना में 553 नए संक्रमितों की पहचान की गई वही भागलपुर में 36, गया में 91, मुजफ्फरपुर में 53 और पूर्णिया में 82 संक्रमित रोग की पहचान की गई।

स्वास्थ्य विभाग के अनुसार 26 जुलाई को मिले 812 नई कोरोनावायरस में 3 औरंगाबाद में, 18 बांका में, 21 बेगुसराय में, 11 दरभंगा में, 33 पूर्वी चंपारण में, गया में एक, गोपालगंज में 8, जमुई में 16, जहानाबाद में 12, कैमूर में 9, किशनगंज में 34, लखीसराय में पांच, मधेपुरा में तीन, नालंदा में 18, नवादा में 17, पूर्णिया में चार, रोहतास 16, समस्तीपुर में 16, सारण में तीन, शेखपुरा में 8, शिवहर में दो, सीतामढ़ी में 19, सिवान में 23, सुपौल में 77, वैशाली में 4, एवं पश्चिमी चंपारण में 16 नए संक्रमित मिले।

बीते 24 घंटे में बिहार राज्य में 1536 संक्रमित मरीज़ स्वस्थ हुए हैं। राज्य में अब तक 27844 संक्रमित हो चुके हैं जबकि बिहार राज्य में वर्तमान में 13011 एक्टिव मरीज है।


और पढ़ें- बिहार में बाढ़ है लेकिन राज्य में बेपरवाह सरकार है


फिलहाल के लिए बिहार में 14236 सैंपल प्रतिदिन जांच किए जा रहे हैं। स्वास्थ विभाग के अनुसार राज्य में अब तक 470560 सैंपल की जांच की जा चुकी है कोरोना की जांच की व्यवस्था एंड जैकेट के माध्यम से प्राथमिक चिकित्सा केंद्र तक की गई है इससे राज्य में जांच का दायरा बढ़ गया है। पटना में 15 दिन में 500 बेड का कोरोनावायरस स्पेशल अस्पताल बनेगा। यह निर्णय कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए रक्षा मंत्रालय ने लिया है।इसको लेकर रविवार को रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन डीआरडीओ की एक उच्च स्तरीय टीम ने वेटनरी कॉलेज परिसर का निरीक्षण किया।

बिहार में कोरोना का कहर बहुत तेजी से फैल रहा है जहां 22 जून को बिहार में केवल 7893 मरीज थे वही 22 जुलाई को बढ़कर 30067 हो गए। इस तरह एक माह में लगभग 4 गुना संक्रमित बढ़ गए साथ ही 1 माह में 3 गुना से अधिक मरीज ठीक हो चुके हैं। 22 जून तक स्वस्थ हुए मरीजों  की संख्या 5767 थी जो 22 जुलाई को बढ़कर 19877 हो चुकी है। बिहार में स्वस्थ होने की दर 67. 52%है‌। जबकि राष्ट्रीय औसत 63 % है।

बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव की फिर से कोरोनावायरस इन की जांच 29 या 30 जुलाई को हो सकती है।सोमवार 27 जुलाई को उनके रूम को सैनिटाइज किया गया। दरअसल पूर्व रेल मंत्री लालू प्रसाद के एक सेवादार के कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के बाद उनकी और उनके साथ रहने वाले लोगों की कोरोनावायरस जांच की गई थी।लालू प्रसाद यादव की तो रिपोर्ट नेगेटिव आई लेकिन के तीन सेवादारों को कोरोनावायरस पॉजिटिव निकला है, इसलिए फिर से कोरोना जांच कराई जाएगी।

Digiqole Ad Digiqole Ad

Sabeeh Akhter

Related post

Leave a Reply