मीडिया ने जितनी फ़ेक न्यूज़ सुशांत सिंह राजपूत के मामले में फैलाई है उससे अब मीडिया पर भरोसा करना मुमकिन नहीं है

एक्टर सुशांत सिंह राजपूत की बहन श्वेता सिंह कीर्ति अपने भाई के केस को लेकर सोशल मीडिया में काफी सक्रिय है। जो हाल ही अपने इंस्टाग्राम में बने फेक प्रोफाइल्स से खासी परेशान है। उन्होंने अपने इंस्टाग्राम पर फ़ेक प्रोफाइल का स्क्रीनशॉट भी शेयर किया।


और पढ़ें- सुशांत सिंह राजपूत, मीडिया के इस नंगे युग में न्यूज़ का घटिया चेहरा जो आपको ज़हरीला बना रह है


बता दे कि सुशांत सिंह राजपूत की मौत के बाद से ही श्वेता सिंह अपने भाई के लिए न्याय मांग रही हैं। वह सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव हैं और अक्सर सुशांत के पुराने वीडियो शेयर करती हैं।

यूं तो जबसे शुशांत सिंह राजपूत के सुसाइड की खबर सामने आई है, तबसे आए दिन इस केस में कुछ न कुछ कॉन्ट्रोवर्सी होती रहती है जिसमे सबसे अहम हिस्सा हमारी मेन स्ट्रीम मीडिया का होता है। जहा ज़्यादातर न्यूज़ चैनल प्राइम टाइम में सरकार, रोज़गार, बाढ़ जैसे ज़रूरी खबरों को छोड़ कर 2 महीने से सिर्फ़ सुशांत केस के इर्द गिर्द ही घूमते नज़र आ रहे है।

कौन कौन सी फ़ेक न्यूज़ रही चर्चाओं में

आज तक की एग्ज़ेक्यूटिव एडिटर अंजना ओम कश्यप ने 17 अगस्त को एक वीडियो ट्वीट करते हुए लिखा, ‘मामू-भांजी की मस्ती। परिवार का प्यार!’

सुशांत की सबसे बड़ी बहन रानी की बेटी मल्लिका सिंह के साथ नाचते गाते। देखते ही देखते ये वीडियो मीडिया आउटलेट्स की एक प्रमुख खबर बन गया. आज तकABP न्यूज़हिंदुस्तानपत्रिकाटाइम्स ऑफ़ इंडियाटाइम्स नाउइंडिया टीवीन्यूज़ नेशनABP इंग्लिश, इंडिया टुडे इनमें से प्रमुख नाम हैं। जबकि असल में वीडियो में सुशांत के साथ डांस करती दिख रही महिला उनकी भांजी नहीं बल्कि एक पंजाबी कोरियोग्राफ़र मनप्रीत तूर हैं. मनप्रीत ने ये वीडियो 18 अगस्त को अपने इंस्टाग्राम हैंडल से शेयर करते हुए लिखा है, ‘हम उन सभी खबरों पर विश्वास नहीं कर सकते जो हम न्यूज़ पेपर में पढ़ते हैं।’

आज तक ने बाद में आर्टिकल में बिना कोई बदलाव किए एक करेक्शन ट्वीट करते हुए लिखा है, “ये सुशांत और मनप्रीत तूर का वीडियो है।” इससे पहले आज तक ने सुशांत सिंह राजपूत का ‘आख़िरी ट्वीट्स’ बताकर फ़र्ज़ी ट्वीट्स पर स्टोरी कर दी थी।

9 अगस्त के आस-पास कुछ ट्विटर यूज़र्स ने ट्वीट किया कि तिवारी को बीएमसी द्वारा ‘जबरन क्वारंटीन’ करने के बाद सेंट्रल ब्यूरो ऑफ़ इन्वेस्टिगेशन (सीबीआई) ने इस मामले की जांच के लिए नियुक्त कर दिया है. ट्विटर यूज़र @rvaidya2000 ने ट्वीट किया, “अमित शाह का मास्टर स्ट्रोक…!! सीबीआई ने विनय तिवारी को नियुक्त किया. हां, वही विनय तिवारी जिन्हें ठाकरे के बीएमसी ने जबरन क्वारंटीन कर दिया था.” इस ट्वीट को करीब 3000 रीट्वीट मिले.  जिसपर खुद विनय तिवारी ने ट्वीटर के माध्यम से जानकारी दी ‘मुझे पता है सोशल मीडिया पर कई लोग यह अफ़वाह फैला रहे हैं. मैं इसे पूरी तरह ख़ारिज करता हूं.’

ट्विटर अकाउंट @KanganaOffical (पैरोडी अकाउंट, जिसके 25,000+ फ़ॉलोवर्स हैं) ने 5 अगस्त को एक फ़ोटो पोस्ट की. दावा था कि सूरज पंचोली की दिशा से कभी न मिलने वाली बात झूठ है. ट्विट में लिखा था, “पंचोली ने कहा वह दिशा को नहीं जानते हैं।पंचोली ने 5 अगस्त की रात को इन्स्टाग्राम पर मीडिया के दावों को खारिज करते हुए एक पोस्ट किया, “इस फ़ोटो में जो लड़की है वो “दिशा सालियान” नहीं है. यह 2016 की है और इसमें मेरी दोस्त @agaur21 (अनुश्री गौर) है जो भारत में रहती भी नहीं…… मैं पहले भी बता चुका हूं और फिर कह रहा हूं कि मैं दिशा सालियान से कभी नहीं मिला.” जबकि अनुश्री ने भी मीडिया द्वारा तस्वीर में दिशा के बताये जाने और भ्रामकता फ़ैलाने के लिए आलोचना की है।

न्यूज़ एजेंसी IANS ने 4 जुलाई को ट्वीट किया कि दिवंगत ऐक्टर सुशांत सिंह राजपूत के पिता का ट्वीट देखने में आया है जिसमें उन्होंने अपने बेटे की आत्महत्या की जांच सेंट्रल ब्यूरो ऑफ़ इन्वेस्टिगेशन(CBI) से कराने की मांग की है. राजपूत ने 14 जून को आत्महत्या कर ली थी।द न्यू इंडियन एक्सप्रेसआउटलुकमात्रुभूमिनेशनल हेरल्डटाइम्स ऑफ़ इंडिया और द पायनियर जैसे बड़े मीडिया आउटलेट्स ने इस ख़बर को उठा ली थी। यही नही आज तक चैनल ने तो अपने कार्यक्रम में सुशांत सिंह राजपूत के पिता केके सिंह के कथित ट्वीट दिखाए और दावा किया कि वो अपने बेटे की मौत की जांच CBI से कराने की मांग कर रहे हैं. ट्वीट में लिखा है, ” अब मैं बहुत जल्द सुशांत की मौत की सीबीआई जांच करवाने की याचिका सुप्रीम कोर्ट में दर्ज करवा रहा हूं। कल को अगर मुझे कुछ हो जाये तो कितने लोग मेरे साथ हैं।”

 

आज तक के वीडियो में इसका ज़िक्र 2:20 मिनट से देखा जा सकता है जहां आज तक ने ये भी कहा है कि अकाउंट को वेरिफ़ाई नहीं किया गया है। जबकि PTI को परिवार के एक सोर्स ने बताया, “उन्होंने (KK सिंह) ने ऐसा कोई भी अकाउंट होने की बात को सिरे से ख़ारिज़ किया है और इसक अकाउंट के पीछे जिनका हाथ है, उन लोगों से पब्लिक में संशय न पैदा करने की गुज़ारिश की है.”

 

ऐसे और न जाने इतने ही किस्से सुनने को आए दिन मिलते है सुशांत केस में  यह गौर करने वाली बात ये है कि इन बड़े मीडिया हाउसेस में जयदारतर फैक्ट चेकिंग के लिए एक अलग से डिपार्टमेंट बने हुए है। इसके अलावा कई न्यूज़ चैनल्स को विश्वास न्यूज़ और इंडिया टुडे फ़ैक्ट चेक को इंटरनेशनल फ़ैक्ट-चेकिंग नेटवर्क (IFCN) में जगह मिली हुई है।

इनमे से कई मीडिया ने ये जानने के बाद कि न्यूज़ फेक है उससे अपनी वेबसाइट से हटा दिया या अपडेट कर दिया पर पुरानी सारी न्यूज़ आप उनके आर्काइव में देख सकते है। पर यहां गौर करने वाली बात ये है कि जी न्यूज चैनल की बात जनता अंख मुंड कर मानती है या उनके खिलाफ कोई एक्शन नही लिया जाना चाहिए?  मीडिया का काम होता है सच जनता के सामने ले कर एना पर उस वक़्त क्या जब यही सच दिखाने वाले ही झूठ को एक सुंदर थाली में परोस कर दे!

Digiqole Ad Digiqole Ad

Kritika Gupta

Related post

Leave a Reply