हाथरस मामले के चारों आरोपियों के समर्थन में ठाकुरों का विरोध प्रदर्शन जारी

हाथरस मामला में ठाकुरों का विरोध प्रदर्शन 

उत्तर प्रदेश के हाथरस में 19 वर्षीय लड़की का दुष्कर्म मामला दिन-दिन तूल पकड़ता जा रहा है। जहां एक तरफ देश की राजनीति गरमाई  हुई है। पक्ष-विपक्ष एक दूसरे पर आरोप मढ़ने का काम कर रहे हैं। 

हाथरस का मामला, लाइव अपडेट्स का विरोध: कोई भी शक्ति मुझे रोक नहीं सकती, राहुल गांधी गाँव की यात्रा से आगे कहते हैं – AAJ NEWS HINDI

वहीं दूसरी ओर हाथरस से सटे आस-पास के गांव में ठाकुर समाज चारों अभियुक्त के लिए विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। उनका कहना है कि पुलिस के पास इनके ख़िलाफ़ कोई सबूत नहीं हैं फिर भी अभियुक्तों के साथ दोषियों जैसा बर्ताव हो रहा है।

मामले के चारों आरोपी ऊंची जाति के 

आपको बता दें किस मामले में हिरासत में लिए गए चारों आरोपी ऊंची जाति के कहे जा रहे हैं और निर्भया दलित परिवार से थी। ठाकुरों का मानना है कि मामले को जातिवादी रंग दिया जा रहा है और यह गांव के ठाकुरों को बदनाम करने की साजिश है। 


और पढ़ें:हाथरस हत्याकांड मामले से जुड़े साक्ष्य फोरेंसिक साइंस लेबोरेटरी में भेजा गया


मीडिया से बातचीत के दौरान एक प्रदर्शनकारी ओजिविर सिंह राणा ने कहा हम डीएम के आदेश का सम्मान करते हैं लेकिन हमारा विरोध प्रदर्शन अन्याय के खिलाफ है। जब तक अभियुक्तों पर आरोप सिद्ध नहीं होते पुलिस को उन्हें तत्काल रिहा करना चाहिए।

गांव के निवासियों ने कहा 

गांव के निवासी गोविंद शर्मा का कहना था कि हम सबको पता है मेडिकल रिपोर्ट में रेप की बात सामने नहीं आई है आरोपियों को साजिश के तहत फसाया जा रहा है।

हाथरस Live:आरोपियों और पुलिस के साथ-साथ पीड़िता के परिवार का भी होगा नारको टेस्ट, SIT कर रही जांच | Samajwadi workers protest in Hathras case in Lucknow kpn

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

राणा का कहना था हम सारे समुदाय की इज्जत करते हैं। मैं खुद किसान हूं और पीड़ित परिवार का दुख समझ सकता हूं लेकिन इस मामले पर किसी विशेष समुदाय के लिए लोगों के मन में घृणा पैदा करना सही नहीं है। इस विरोध प्रदर्शन में गांव के आसपास के लोग इकट्ठा हुए और अभियुक्तों के समर्थन में नारेबाजी भी किया। 

डिस्ट्रिक्ट मजिस्ट्रेट ने मीडिया को बताया कि पूरे गांव में धारा 144 लगा दी गई है और एसआईटी की जांच पड़ताल के कारण गांव की औरतों को घर में ही रहने का आदेश दिया गया है। विरोध प्रदर्शन कर रहे लोगों को आधे घंटे के भीतर खाली करा दिया गया।

Digiqole Ad Digiqole Ad

democratic

Related post