लड़की को जन्म देने के आरोप में एक महिला को जला दिया गया

बेटी को जन्म देने पर जलाया महिला को

नारी का सम्मान और नारी की रक्षा करना सिर्फ बातों में रह गया है और असल दुनिया इससे गई अलग है। दुनिया में नारी को लक्ष्मी नहीं पैरों की धूल ही समझा जा रहा है। बिहार के अररिया जिले में 22 साल की उम्र की महिला को इसीलिए जला दिया गया क्योंकि उसने एक लड़की को जन्म दिया।

(प्रतीकात्मक फोटो: रॉयटर्स)

बेटी पैदा होने के बाद प्रताड़ित किया जा रहा था

दरअसल, बिहार के अररिया जिले में 22 साल की एक युवती को उसके ससुराल वाले एवं उसके पति ने एक लड़की के जन्म देने पर जला दिया। भागलपुर के एक अस्पताल में उसकी मौत हो गई। महिला के माता-पिता ने बताया है कि पिछले महीने बेटी पैदा होने के बाद काजल को प्रताड़ित किया जा रहा था और उनके पति और ससुराल वालों ने उसे जिंदा जला दिया। महिला का नाम काजल बताया जा रहा है। वह अपने माता-पिता की इकलौती बेटी थी। काजल के घर वाले उसे प्यार से गुड़िया बुलाते थे।

Husband Taken Out Wife Because She Gave Birth To Daughter - एक माँ की दर्द-ए-दास्तां- बेटी को दिया जन्म तो धक्के मार के निकाला - Amar Ujala Hindi News Live
विवाह के समय दहेज भी लिया।आपको बता दे, काजल का विवाह 2019 में दिसंबर के महीने में बड़े धूमधाम से किया गया था। उसका पति अररिया जिले के भरगामा का रहने वाला था। काजल के पति का नाम रोशन भगत है। काजल ने कुछ दिन पहले ही एक बेटी को जन्म दिया था जिसके कारण उसके ससुराल वालों ने एवं उसके पति ने काजल को प्रताड़ित करना शुरू कर दिया था और फिर जिंदा ही जला दिया।

आपको बता दे, भागलपुर के एक अस्पताल में काजल की इलाज के दौरान ही मौत हो गई।काजल के पिता अशोक भगत बताते हैं, “उसकी शादी हमने बड़ी-धूमधाम से की थी। इस पर छह-सात लाख रुपये खर्च हुए थे। 3.51 लाख रुपये और एक अपाचे बाइक लड़के को दिया था। इनके अलावा फर्नीचर और दूसरे जरूरी सामान भी।”


और पढ़ें :कमलनाथ ने इमरती देवी को आइटम कहने पर जताया ख़ेद


बेटी के जन्म के बाद प्रताड़ित किया ससुराल वालों ने

भारत में पहली बार: मां का दूध ले जाने के लिए बनाया गया ग्रीन कॉरिडोर - green corridor created for transporting breast milk from Ajmer to Bhilwara in Rajasthan - Jansatta

अशोक भगत बताते हैं, “10 अक्टूबर को बेटी ने मुझे बताया था कि ससुराल में उसके साथ मारपीट किया जा रहा है| इसके बाद जब मैंने अपने दामाद और उसके माता-पिता से पूछा कि क्या बात है तो उन्होंने जवाब दिया कि हम मारेंगे-पीटेंगे, ये हम जानेंगे। इसके बाद हमने अपनी बच्चियां को समझा दिया कि लड़ाई-झगड़ा मत करो, जो कहता है उसकी बात सुनो।”काजल के पिता आगे बताते हैं कि 13 अक्टूबर को उन्हें इस बात की जानकारी मिली की, उनकी बेटी जल चुकी है और पूर्णिया सदर अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

काजल की मां रूबी देवी बताती हैं, “बच्ची की जन्म के बाद जब हम उसके यहां गए थे तो उसकी सास ने हमसे कहा – ये बेटी को जन्म क्यों दी? उन सबको इस चीज से दिक्कत थी। इसके बाद अस्पताल में भी उसने कहा था कि बेटी को जन्म देने के चलते उसको बुरी तरीके से जिंदा जला दिया गया।”आपको बता दें, काजल के पति और उसके सास-ससुर फरार हो गए हैं। काजल की मौत के बाद 14 अक्टूबर को शव का पोस्टमार्टम किया गया, लेकिन पोस्टमार्टम की रिपोर्ट अभी नहीं आई है। अररिया स्थित महिला थाना का कहना है कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही प्राथमिकी दर्ज की जाएगी। काजल के माता-पिता अभी पोस्टमार्टम रिपोर्ट का इंतजार कर रहे हैं और अपनी इकलौती बेटी को इंसाफ मिलने का इंतजार कर रहे हैं।

Digiqole Ad Digiqole Ad

sneha singh

Related post