क्या सरकार प्याज और आलू की बढ़ती कीमतों पर अंकुश लगाने के लिये कदम उठा रही है?

देश प्याज के दाम 80 रुपये किलो से ऊपर

जैसा कि हम जानते हैं देश के कुछ भागों में प्याज के दाम 80 रुपये किलो से ऊपर पहुंच गये है। वहीं हम अगर आलू की कीमत देखें वो भी गुणवत्ता के आधार पर 60 रुपये किलो से ऊपर निकल गयी है।

प्याज के दाम काबू करने में जुटी मोदी सरकार- 7 हजार टन आयात किया, 25 हजार टन दिवाली से पहले

पीयूष गोयल जो कि उपभोक्ता मामलों के मंत्री हैं,उन्होंने शुक्रवार को बताया  कि सरकार प्याज, आलू की घरेलू आपूर्ति बढ़ाने और बढ़ती कीमतों पर अंकुश लगाने के लिये कदम उठा रही है।उन्होंने कहा कि निजी व्यापारी पहले ही 7,000 टन का आयात कर चुके हैं जबकि 25,000 टन दिवाली से पहले आने की उम्मीद है। साथ ही बताया कि  सहकारी एजेंसी नाफेड भी आयात करेगी। इससे बाजार में प्याज की पर्याप्त आपूर्ति होगी। करीब 10 लाख टन आलू का भी आयात किया जा रहा है।

बाजार में प्याज की पर्याप्त आपूर्ति के लिए उठाया गए क़दम

पीयूष गोयल ने कहा कि केवल प्याज ही नहीं बल्कि करीब 10 लाख टन आलू का भी आयात किया जा रहा है। इसके लिये सीमा शुल्क जनवरी 2021 तक सीमा शुल्क कम कर 10 प्रतिशत कर दिया गया है। साथ ही साथ उन्होंने कहा कि करीब 30,000 टन आलू भूटान से अगले कुछ दिनों में आ जाएगा।

प्याज के दाम को काबू में करने के लिए मोदी सरकार ले लिया यह बड़ा निर्णय - Samar Saleel | DailyHunt

हम आपको बता दें कि पीयूष गोयल  ने डिजिटल तरीके से आयोजित संवाददाता सम्मेलन में कहा कि प्याज, आलू और कुछ दाल के खुदरा दाम बढ़े हैं। लेकिन स्थानीय स्तर पर आपूर्ति बढ़ाने के लिये प्याज के निर्यात पर पाबंदी समेत सरकार के सक्रियता से उठाये गये कदमों के कारण पिछले कुछ दिनों से कीमतें स्थिर बनी हुई हैं। उन्होंने कहा कि अखिल भारतीय स्तर पर प्याज का खुदरा मूल्य पिछले तीन दिनों से 65 रुपये किलो और आलू 43 रुपये किलो पर स्थिर बना हुआ है।

खुशखबरी: अब जल्द ही कम होंगी प्‍याज की कीमतें, मोदी सरकार ने दिया 1 लाख टन प्याज आयात करने का आदेश - uttamhindu

इस त्योहारों के मौसम में जिस तरह प्याज़ और आलू  की कीमतें आसमान छू रही है उसपर पीयूष गोयल ने कहा कि हम यह सुनिश्चित कर रहे हैं लोगों को त्योहारों के दौरान ये चीजें सस्ती दरों पर मिले। पीयूष कहते है कि इससे पहले कि हालात और ख़राब हो सरकार  ने प्याज के आयात के लिये कदम उठया है और दिसंबर तक प्याज के आयात पर धूम्र-शोधन (फ्यूमिगेशन) की शर्तों में ढील दी है।उन्होंने कहा, ‘अबतक 7,000 टन प्याज निजी व्यापारियों ने आयात किये है, इसके अलावा 25,000 टन प्याज दिवाली से पहले आने की उम्मीद है’।


और पढ़ें :कर्नाटक सरकार का बड़ा फैसला, फिल्म-टीवी कार्यक्रमों में सरकारी कर्मचारियों के एक्टिंग पर रोक


आलू-प्याज  की महंगाई दर में हो सकती है सुधार

हालांकि हम जानते हैं कि प्याज की कीमतों में हाल के दिनों में काफी बढ़ोतरी आई है। खबरों से पता चलता है कि मंगलवार को चेन्नई में प्याज की खुदरा कीमतें 73 रुपये प्रति किलो पर पहुंच गईं थी और दिल्ली में प्याज 50 रुपये प्रति किलो, वहीं  कोलकाता की ओर ध्यान दें तो वहां पर 65 रुपये प्रति किलो और मुंबई में 67 रुपये प्रति किलो पर बिक रही है। एक्सपर्ट व ट्रेडर्स की सुने तो उनका कहना है कि दक्षिण और पश्चिमी क्षेत्रों में भारी बारिश की वजह से सप्लाई में रुकावट पैदा हुई और खरीफ फसल की आवक प्रभावित हुई, जो कि आने वाले हफ्तों में शुरू होने वाली है।

फिर एक बार प्याज की मार, कीमत पहुंचने वाली है 100 के पार, सरकार ने बंद किया निर्यात

मंत्री गोयल ने कहा कि निजी व्यापारी प्याज मिस्र, अफगानिस्तान और तुर्की जैसे देशों से मंगा रहे हैं।सहकारी एजेंसी नाफेड भी आयात करेगी। गोयल ने कहा कि आयात के अलावा मंडियों में अगले महीने नई खरीफ फसल की आवक शुरू होने से आपूर्ति स्थिति सुधरेगी और कीमतों पर दबाव कम होगा।

प्याज की खरीफ फसल अगले महीने मंडियों में आने की संभावना है।सरकार ने खरीफ और खरीफ मौसम में देरी से आने वाले प्याज का उत्पादन चालू वर्ष मे 6 लाख टन कम होकर 37 लाख टन रहने का अनुमान जताया है।उन्होंने कहा कि अन्य उपायों में सरकार ने प्याज के बीजों के निर्यात पर पाबंदी लगायी हें और जमाखोरी रोकने के लिये व्यापारियों पर भंडार सीमा लगाये गये हैं। इसके अलावा नाफेड करीब एक लाख टन बफर स्टॉक में से खुले बाजार में प्याज की बिक्री कर रही,अबतक उसने 36,488 टन प्याज बेचे हैं।

प्याज के बढ़ते दामों को नियंत्रित करने के लिए मोदी सरकार ने तुरंत प्रभाव से लागू किया ये नियम - uttamhindu

दाल के बारे में  पीयूष गोयल ने कहा कि ज्यादातर दलहन के दाम अभी स्थिर हैं। वास्तव में पिछले चार साल के मुकाबले दाल के दाम काफी नीचे हैं।उन्होंने कहा कि हालांकि घरेलू आपूर्ति बढ़ाने के लिये सरकार ने 4 लाख टन तुअर दाल के आयात को लेकर समयसीमा दिसंबर तक बढ़ा दी है।

वहीं आलू की आपूर्ति में सुधार के बारे में पीयूष गोयल ने कहा, हम कीमतों को काबू में लाने के लिये करीब 10 लाख टन आलू का आयात करने जा रहे हैं और यह सुनिश्चित कर रहे हैं कि ग्राहकों को त्योहारों के दौरान सब्जी सस्ते दाम पर मिले और उन्हें कोई परेशानियों का सामना न करना पड़े इसलिए करीब 30,000 टन आलू अगले दो-तीन दिनों में भूटान से आ रहा है।

Digiqole Ad Digiqole Ad

democratic

Related post