यूपी:दलित विधवा की जमीन हड़पने आए दबंगों द्वारा मारपीट और बदसलूकी के मामले में अब तक पुलिस  ने कोई एक्शन नहीं लिया

यूपी में दलित विधवा के साथ मारपीट और बदसलूकी के मामले

अभी कुछ दिनों पहले ही यूपी के बुंदेलखंड से दलित युवक के साथ मटके से पानी पीने पर मार पीट की खबर आई थी। पुलिस और सरकार द्वारा लगातार इन घटनाओं पर कोई कड़ा कदम ना उठाने पर दबंगों की हिम्मत बढ़ रही है।

यूपी पुलिस FIR भी दर्ज नहीं की 

एक बार फिर उत्तर प्रदेश के जौनपुर से दलित  विधवा महिला के साथ मारपीट और बदसलूकी का मामला सामने आया है। यह पूरा मामला एक जमीन विवाद से शुरू होकर यहां  तक पहुंचा है। और इस घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद सरकार और पुलिस सवालों के घेरे में हैं।

Dalit Women Manual Scavengers And PM Modi's Sabka Sath Sabka Vikas | Youth Ki Awaaz


और पढ़ें :जम्मू कश्मीर की निसार की कहानी, 23 साल बाद उन्हें कोर्ट ने निर्दोष करार दिया 


पूरी घटना को एक पड़ोसी ने वीडियो मे कैद कर लिया

जौनपुर के तहसील केराकत स्थित थाना चंदवक क्षेत्र के बलुआ विजयपुर गांव  की निवासी कुमारी देवी विधवा स्व. प्रभु दयाल की जमीन पर गांव के कुछ दबंगों की नजर  थी और उसे हड़पने चाहते थे।  इसी सिलसिले में  तीन नवंबर को दबंग समाधीन, सलीम, आदि कई लोगों ने गरीब दलित की जमीन पर कब्जा करने के इरादे से उस जमीन तक पहुंच गए। और  जब दलित विधवा ने उन्हें रोका तो वो दबंग अपने साथ और  को लेकर दलित महिला को मारने पीटने लगे यहाँ तक कि उसके कपड़े आदि फाड़ कर उसे शर्मशार करने का प्रयास किया।

In videos: How the Dalit woman raped in Hathras was cremated without letting her family say

इस पूरी घटना के बाद  दलित विधवा महिला न्याय के लिए पिछले  एक सप्ताह से अपने साथ घटित घटना के लिए न्याय पाने के लिए थाना, पुलिस और उच्चाधिकारियों की चौखट पर अर्जी लगा रही  हैं लेकिन दबंगो के खिलाफ अब तक पुलिस द्वारा  कार्रवाई नहीं किया जा रहा  है। पीड़िता के मुताबिक उसे इंसाफ देने के बजाय  क्षेत्र की पुलिस ने उसे ही डांट  कर  भगा दिया। 

पीड़िता का आरोप है कि थानेदार दबंगों से मिले हुए है

पीड़िता ने घटना के बारे में  चंदवक थाना में पहुंच कर पूरी घटना के संदर्भ में लिखित बयान भी दिया था। जिसमें महिला ने मारपीट के साथ अपने गले में पहने एक चांदी की चैन छीनने का भी आरोप लगाया था। पीड़िता ने समाधीन, सलीम व शाहजहाँ सहित चार लोगों को नामजद किया है।

पीड़िता ने इस पूरे मामले से अवगत करते हुए एक  पत्र पुलिस के उच्चाधिकारियों सहित प्रदेश सरकार के मुखिया मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को भी भेजा है लेकिन किसी भी स्तर से इस दलित को न्याय नहीं मिल सका है। 

Digiqole Ad Digiqole Ad

Shreya Sinni

Related post