फर्जी तरीके से शिक्षा विभाग में नियुक्त शिक्षक पर हुआ मुकदमा दर्ज

फर्जी तरीके से शिक्षा विभाग में नियुक्त

यह घटना हरियाणा के बघौचघाट थाना क्षेत्र के दुलारपट्टी गांव की है। जहां पूर्व माध्यमिक विद्यालय में फर्जी प्रमाण पत्रों के सहारे से शिक्षक की नौकरी करने वाले एक व्यक्ति की सच्चाई सामने आयी है। उमेश यादव नाम के व्यक्ति पर बेसिक शिक्षा विभाग की जांच पर भटनी पुलिस ने रविवार को धोखाधड़ी और कूटरचित आरोप में मुकदमा दर्ज किया हैैं। घटना के सामने आने के बाद शिक्षक को विभाग ने बर्खास्त किया है। 

उमेश यादव


और पढ़ें : कृषि कानून के विरोध में भाकियू नेता राकेश टिकैत के नेतृत्व में यूपी के किसानों का दिल्ली कूच


उमेश यादव के फर्जी बीए और बीएड के अंकपत्र और प्रमाण पत्र हुए प्राप्त

उमेश यादव

शिक्षक उमेश यादव भटनी विकास खंड के गरवैसी गांव स्थित पूर्व माध्यमिक विद्यालय में सहायक अध्यापक के पद पर नियुक्त थे। विभाग संदिग्ध शिक्षकों के प्रमाण पत्रों की गापनीय जांच कर रही थी। जिस बीच उमेश यादव के फर्जी बीए और बीएड के अंकपत्र और प्रमाण पत्रों  को प्राप्त किया था। जब प्रमाण पत्रों की जांच रिपोर्ट विभाग को प्राप्त हुई तब पता चला कि उमेश ने बीए और बीएड के प्रमाणपत्रों में कुटरचना कर नौकरी प्राप्त की है। जिसके बाद विभाग ने उनको शिक्षक  पद से बर्खास्त कर दिया है।

 उमेश यादव के विरुद्ध संगीन धाराओं में किया गया मुकदमा दर्ज

उमेश यादव

बीएसए संतोष कुमार राय ने आरोपित बर्खास्त शिक्षक उमेश यादव के विरुद्ध केस दर्ज करने के लिए बनकटा के खंड शिक्षा अधिकारी पिंगल पिंगल प्रसाद राणा को निर्देश दिया। जिसके बाद खंड शिक्षाधिकारी पिंगल प्रसाद राणा ने भटनी पुलिस को कहा कि आरोपी उमेश यादव के विरुद्ध संगीन धाराओं में मुकदमा दर्ज किया जाए। उन्होंने आगे बताया कि उमेश के सेवा पंजिका में अंकित विवरण के हिसाब से स्नातक व बीएड के संबंध में सत्यापन की आख्या संबंधित जांच कार्यालय द्वारा की गई थी।जिसके बाद दोनों अंकपत्र व प्रमाण पत्र गलत पाए गए हैं।

बेसिक शिक्षा कार्यालय देवरिया ने उमेश को स्वयं का पक्ष रखने के लिए भी कहा था मगर जब उमेश ने स्वयं का पक्ष जिला शिक्षा अधिकारी के सामने प्रस्तुत किया तो उसका जवाब संतोषजनक नहीं प्राप्त हुआ और उमेश को बर्खास्त कर दिया गया। पुलिस ने बताया कि आरोपित शिक्षक उमेश यादव पर धोखाधड़ी, कूटरचना, कूट रचित दस्तावेज को असली के रूप में इस्तेमाल करने के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है।

Digiqole Ad Digiqole Ad

PRIYANKA

Related post