बिहार सरकार ने हड़ताल कर रहे जूनियर डॉक्टरों पर सख्ती के आदेश दिए

स्वास्थ्य विभाग ने जूनियर डॉक्टरों के हड़ताल को लेकर सख्त निर्देश जारी किए

बिहार की राजधानी पटना में मेडिकल कॉलेज अस्पताल के जूनियर डॉक्टरों की हड़ताल शुक्रवार को तीसरे दिन भी जारी थी। लगातार तीन दिन के जूनियर डॉक्टर हड़ताल पर है जिस वजह से मरीजों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।

जूनियर डॉक्टरों

एक तरफ मरीजों को बीते 3 दिनों से चल रहे हड़ताल के कारण काफी दिक्कतें आ रही है तो दूसरी तरफ स्वास्थ्य विभाग ने हड़ताल कर रहे जूनियर डॉक्टरों पर सख्त निर्देश जारी किए हैं। मेडिकल एसोसिएशन ने कहा कि अगर जूनियर डॉक्टर अपना हड़ताल खत्म नहीं करते हैं तो उन्हें कड़े कदमों का सामना करना पड़ सकता है। विभाग के सचिव कौशल किशोर ने सभी मेडिकल कॉलेज अस्पतालों को निर्देश दिया है कि इस मामले में अनुशासन समिति की बैठक बुलाकर निर्णय लें।

नो वर्क नो पर के तहत की जाएगी कार्रवाई

मेडिकल विभाग की ओर से जारी किए गए निर्देश में कहा गया है कि पीजी के दिन छात्रों द्वारा कार्य बहिष्कार किया जा रहा है उन पर नो वर्क नो पर के तहत कार्रवाई की जाएगी। इसी के साथ अगर कोई जूनियर डॉक्टर इमरजेंसी सेवाएं ऑपरेशन थिएटर को बाधित करने की कोशिश करता है तो उन पर कानून के तहत कार्रवाई की जाएगी।


और पढ़ें :देश की सबसे युवा मेयर बनी केरल की 21 वर्षीय आर्या राजेंद्रन, कहा पांचवी क्लास से हैं सीपीएम समर्थक


जूनियर डॉक्टरों ने कहा जब तक मांगे पूरी नहीं होगी आंदोलन जारी रहेगा

जूनियर डॉक्टरों

एक तरफ जहां सरकार जूनियर डॉक्टरों पर कार्रवाई करने की बात कर रही है तो दूसरी तरफ जूनियर डॉक्टरों का कहना है कि जब तक उनकी मांगों को पूरा नहीं किया जाएगा उनका आंदोलन जारी रहेगा। डीएमसीएच जूनियर डॉक्टर एसोसिएशन के अध्यक्ष डॉ नीरज कुमार ने कहा कि वेतन बढ़ाने को लेकर जब तक लिखित आश्वासन नहीं दिया जाएगा तब तक हड़ताल जारी रहेगा।

कई मरीजों का ऑपरेशन रद्द किया गया

जवाहरलाल नेहरू मेडिकल कॉलेज अस्पताल भागलपुर में लगभग 2 दर्जन मरीजों का ऑपरेशन होना था जो फिलहाल के लिए रद्द कर दिया गया है। इमरजेंसी में करीब 65 मरीजों का इलाज हुआ। जूनियर डॉक्टरों के अभाव के कारण कोरोना मरीजों के इलाज में भी समस्या आ रही है। हालांकि कई अस्पताल ऐसे भी मिले जहां सेवाओं पर कुछ खास असर नहीं पड़ा क्योंकि वहां जूनियर डॉक्टरों की संख्या कम थी। फिलहाल बिहार सरकार एवं मेडिकल विभाग की ओर से जूनियर डॉक्टरों को कड़े शब्दों में काम पर वापस लौटने को कहा गया है अन्यथा उन पर सख्त कार्रवाई की जा सकती है।

Digiqole Ad Digiqole Ad

Aparna Vatsh

Related post