उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एम्बुलेंस सेवा न मिलने पर बच्‍चे ने ठेले पर लाद अपनी बूढ़ी नानी को पहुंचाया अस्पताल

उत्तर प्रदेश सरकारी दावों की पोल खोलती यह 12 साल के बच्‍चे की तस्वीर

यह घटना उत्तर प्रदेश के कुशीनगर की है। जहां मात्र एक 12 साल के  बच्‍चे ने पूरे छह किलोमीटर तक ठेला खींचकर अपनी बीमार हुई नानी को अस्‍पताल पहुंचाया है। जिसके बाद मंगलवार की शाम तुर्कहा स्थित सामुदायिक स्‍वास्‍थ्‍य केंद्र यानी सीएचसी पहुंचे इस बच्चे की तस्‍वीर सोशल मीडिया में बहुत तेजी से वायरल हो रही है।

यूपी के सरकारी अस्पतालों की हालत सुधारने के तमाम दावे किए जाते हैं मगर हकीकत तो कुछ और ही नज़र आती है। उत्तर प्रदेश के खड्डा थाना क्षेत्र में इस 12 साल के बच्चे को एंबुलेंस ना मिलने पर अपनी नानी को लगभग 6 किमी तक ठेले पर चढ़ाकर अस्पताल ले जाना पड़ा है और ठेले पर पिता के सहयोग से अपनी बूढ़ी घायल नानी को अस्पताल पहुंचाने वाले इस छोटे से बच्चे की चारों ओर खूब तारीफें हो रही हैं।

उत्तर प्रदेश कुशीनगर

बता दें कि खड्डा थाना क्षेत्र के ग्राम सिसवा मनिराज निवासी कलावती की दो बेटियां हैं। दोनों ही विवाहित हैं एवं उनके छोटे बच्चें भी हैं। कुछ दिनों पहले ही कलावती देवी कुछ स्त्रियों के साथ अपने घर के सामने बैठी थी। जिस दौरान वहां से गुजरती एक कार ने बैठी हुई तीनों महिलाओं को अपनी कार से ठोकर मार दिया और घटना के बाद  कार चालक फरार हो गया जिस कारण से उसे  पकड़ा भी नहीं गया है।


और पढ़ें :जेएनयू छात्र आंदोलन पर बनी मलयालम फिल्म को सेंसर बोर्ड ने हरी झंडी देने से मना किया


छोटे बच्चे को ठेले पर अपनी नानी को लाते देखकर हर कोई हुआ दंग

उत्तर प्रदेश कुशीनगर

उस कार दुर्घटना से एक महिला की मृत्यु हुई थी एवं कलावती की कमर में तो गम्भीर चोटें आईं थीं। जिस वजह से बुजुर्ग कलावती का इलाज जारी था। मगर मंगलवार को अचानक कलावती की तबीयत बेहद बिगड़ी और साधन न मिलने से जय गोविंद का 12 वर्षीय बेटा मंजेश गांव के ही एक ठेले पर अपनी बीमार नानी कलावती को लेकर खड्डा के तुर्कहा स्थित अस्पताल की ओर लेकर चल पड़ा। गोविंद का 12 वर्षीय बेटा ठेला खींचता चला एवं उसके पिता जयगोविंद पीछे से उस ठेले को धकेलते रहें। इस तरह से वे लोग कलावती को लेकर अस्‍पताल पहुंचे। अस्पताल पहुंचने पर डॉक्टर ने तत्‍काल वृद्ध कलावती का इलाज किया।

डॉक्टरों के पूछने पर ठेला खींच रहे मंजेश ने बताया कि उसकी नानी दर्द से कराह रही थी और उनको इस हालत में देखकर वह बर्दाश्‍त नहीं कर पा रहा था। वहीं जयगोविंद ने बताया कि वह अपने ससुराल में आए हैं। उनके पास मोबाइल न होने के कारण से वे फोन भी नहीं कर सके। इसी बीच उनके बेटे ने अपनी नानी को ठेले पर ले जाने की बात छेड़ी एवं वे इसी तरह कलावती को लेकर अस्पताल में पहुंचे।

Digiqole Ad Digiqole Ad

PRIYANKA

Related post