बच्चे को सेक्स बदलने के लिए मजबूर करने के साथ किया यौन शोषण

13 साल के बच्चे के साथ यौन शोषण

देश की राजधानी दिल्ली के गीता कॉलोनी से एक हैरान करने वाली खबर सामने आई है। जहां एक 13 साल के बच्चे को 6 पुरुषों  ने जबरन सेक्स बदलने करने को मजबूर किया और बार बार यौन शोषण कर प्रताड़ित क़िया। बता दें एक वकील द्वारा रेलवे स्टेशन पर पीड़ित युवक और उसके दोस्त को देखने पर यह पूरा मामला उजागर हुआ है। दिल्ली महिला आयोग को इस घटना की शिकायत मिलने के बाद प्राथमिकी दर्ज कर ली गई है।

यौन शोषण

जबरन सेक्स बदलने वाला ऑपरेशन कर हार्मोन कि गोलियां भी खिलाई

नाबालिक लड़का शुभम (बदला हुआ नाम), दिल्ली के लक्ष्मी नगर इलाके में लगभग तीन साल पहले एक नृत्य कार्यक्रम में आरोपीयों से मिला था। इसके बाद उनमें अच्छी दोस्ती हो गई। आरोपी शुभम को कई दूसरे नृत्य इवेंट में के जाने लगे जिससे उसे कुछ पैसे भी मिलने लगे। इसके बाद आरोपीयो ने पहले तो उसे समझाया कि उसे जीविका कमाने के लिए नृत्य जारी रखना होगा।

यौन शोषण

शुभम ने अब पुलिस को बताया है कि जब वह सिर्फ 13 साल का था। तब उसे पुरुषों द्वारा नशीला पदार्थ दिया गया था। बाद में उन्होंने ज़बरदस्ती उस पर सेक्स चेंज सर्जरी करवाई और उसे हार्मोनल दवाएं भी दी गईं जिससे वह समय के साथ एक लड़की की तरह दिखने लगा।


और पढ़ें :कौन थी क्रांतिकारी रोज़ा लक्सम्बर्ग जिनसे फ़ासीवाद नाज़ी सेना डरती थी


आरोपी के साथ ग्राहक भी उसका यौन शोषण करते

शुभम ने बताया कि आरोपी और उसके दोस्तों ने उसके साथ कथित तौर पर बार-बार बलात्कार किया और यहां तक कि उन ग्राहकों को भी लाया जो कई मौकों पर उसका यौन शोषण करते थे। शुभम ने आगे आरोप लगाया है कि उन्हें ट्रैफिक सिग्नल पर एक हिजड़ा के रूप में भीख मांगने के लिए मजबूर किया गया था।

यौन शोषण

अपने इन कुकर्मों को छुपाने के लिए आरोपी शुभम को जान से मारने कि धमकी देते थे। इसके साथ साथ उसके परिवार को भी नुकसान पहुंचाने की बात कहते थे जिस वजह से लगातार वह प्रताड़ना सह रहा था।

लॉकडॉउन के समय बच्चे को किडनैप कर ले गए थे आरोपी

शुभम ने बताया कि आरोपी मार्च 2020 में कोरोावायरस महामारी के लॉकडाउन के दौरान उसे और उसके एक दोस्त को किडनैप कर गुफा में ले गए थे। जहां से वह और उसका दोस्त भागने में कामयाब रहे और उनसे बचने के लिए उसने एक नई जगह किराए पर लिया लेकिन जल्द ही आरोपी पुरुषों को उनके ठिकाने के बारे में पता चल गया और उन्होंने घर में तोड़फोड़ कर दोनों को फिर से वापस पकड़ कर ले गए। इसके बाद सभी आरोपियों ने शुभम और उसके दोस्त दोनों के साथ फिर से बलात्कार किया।

यौन शोषण

कुछ दिनों के बाद दोनों बच्चे फिर से आरोपियों के चंगुल से बचने में सफल रहे और नई दिल्ली रेलवे स्टेशन पर पहुँचे जहाँ वे दिन भर के लिए छिपते थे। एक वकील ने उन दोनों को देखा और उन्हें दिल्ली महिला आयोग में ले गया। पूरे मामले के संज्ञान में आने के बाद पुलिस ने अब आरोपियों के खिलाफ आईपीसी की धारा 377, 363, 326, 506, 341 और POCSO अधिनियम के प्रावधानों के तहत मामला दर्ज किया है।

Digiqole Ad Digiqole Ad

Shreya Sinni

Related post