अयोध्या के राम मंदिर निर्माण में राष्ट्रपति का चंदा देना, धर्मनिरपेक्ष राष्ट्र होने पर सवाल उठाता है

अयोध्या राम मंदिर निर्माण में राष्ट्रपति ने दिए 5 लाख एक हज़ार रुपए

अयोध्या में चल रहे राम मंदिर निर्माण के लिए राष्ट्रव्यापी फंड कलेक्शन अभियान आज से शुरू हो चुकी है। जिसमें राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद द्वारा आज 5 लाख एक हज़ार रुपए दान में दिए गए हैं और कहा जा रहा है कि राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद राम मंदिर निर्माण के लिए रुपए दान देने वाले देश के पहले व्यक्ति बनें हैं। मगर क्या यहीं एक धर्मनिरपेक्ष राष्ट्र का कार्य होता है?

राम मंदिर

ग़ौरतलब है कि विश्व हिंदू परिषद के आलोक कुमार ने इस मामले पर कहा कि राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद देश के पहले नागरिक बने हैं। जिन्होंने राम मंदिर निर्माण के लिए दान दिया है। उन्होंने कहा राष्ट्रपति कोविंद ने पहल की है। जिस कारण से हम उन्हें बधाई देते हैं। इसी बीच बता दें कि आज राष्ट्रपति से राम मंदिर निर्माण निधि अभियान की शुरुआत के लिए श्रीराम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र न्यास एवं विश्व हिन्दू परिषद समेत कई अनुषांगिक संगठनों के अधिकारी भेंट मुलाकात करने गए हैं।

पूरे देश भर में धन एकत्र करने का अभियान आज से शुरू, 27 फरवरी तक चलेगा अभियान

बता दें कि अयोध्या में बन रहे राम मंदिर निर्माण के लिए आज यानी शुक्रवार से ही धन एकत्र करने का अभियान शुरू हो रहा है। यह अभियान 27 फरवरी तक पूरे देश भर में चलने वाला है। इस चंदा अभियान की शुरुआत आज राष्ट्रपति द्वारा 5 लाख 100 रुपये देकर की गई है। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने सर्वप्रथम समर्पण निधि दिया है एवं उनके बाद श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र निधि संग्रह अभियान के अंतर्गत अयोध्या में भगवान राम के मंदिर निर्माण के लिए मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा एक लाख रुपये का चंदा दिया गया है। साथ ही लंबे समय से आरएसएस से जुड़े अहमदाबाद के हीरा कारोबारी गोविंदभाई ढोढाकिया भी राम मंदिर निर्माण के लिए 11 करोड़ रुपये का चंदा देने वाले हैं।

राम मंदिर

जानकारी के मुताबिक़ श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र के लिए राजस्थान के पूर्व राज्यपाल एवं उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह द्वारा आज राम मंदिर निर्माण में सहयोग देने हेतु  एक लाख एक रुपये की धनराशि दान में दी गई है। उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह ने बताया कि उन्होंने पहले भी कहा था कि उनके जीवनकाल में ही राम का भव्य मंदिर तैयार हो जाए। उन्होनें अपनी उम्मीद को जाहिर किया और कहा कि मेरे जीवनकाल में भव्य राम मंदिर बनकर तैयार हो, यही मेरी अंतिम इच्छा है कि इसे देख मैं अपनी अंतिम सांस लूं। वहीं दूसरी ओर राम मंदिर निर्माण निधि अभियान में राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू ने भी चेक से 51, 000 रुपये का योगदान दिया है।


और पढ़ें :अमेरिकी ब्रोकरेज बोफा सिक्योरिटीज ने बताया भारतीय अर्थव्यवस्था कमजोर 


राम मंदिर निर्माण कार्य संपन्न किया जाएगा,लोगों के समर्पण एवं सहयोग राशि से

राम मंदिर

अयोध्या में भगवान राम के मंदिर निर्माण के लिए आज सबसे अधिक चंदा रायबरेली के सुरेंद्र सिंह द्वारा दिया जाने वाला है। वे आज मंदिर निर्माण के लिए एक करोड़ रुपये का समर्पण निधि सौंपने वाले हैं। श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र के लिए चंदा जुटाने के अभियान में पांच लाख से अधिक गांवों में बारह करोड़ से ज्यादा परिवारों से संपर्क किया जाने वाला है। एवं जिनसे चंदा मांगा जाएगा। बता दें कि इस अभियान के तहत राम मंदिर निर्माण के लिए विश्व हिन्दू परिषद ने बताया है कि वह लोगों का समर्पण एवं सहयोग राशि लेने वाली है। अभियान के दौरान 10 रुपये, 100 रुपये से लेकर 1000 रुपये के कूपन रखें जाएंगे। और वहीं 2000 रुपए से ज्यादा सहयोग करने वालो को रसीद दिए जाने की व्यवस्था की गई है। और इन्हीं दानों के माध्यम से अयोध्या में चल रहे भव्य राम मंदिर का निर्माण कार्य संपन्न किया जाना है।

Digiqole Ad Digiqole Ad

PRIYANKA

Related post