सरकारी स्कूल में 10वीं एवं 12वीं की कक्षाएं खोलने का फैसला लिया गया

10वीं एवं 12वीं की कक्षाएं खोलने का फैसला 

2020 का पूरा साल कोरोना के भेट चढ़ गया। सरकार ने मार्च के महीने में ही देशभर में लॉकडाउन लगा दिया था इसी वजह से देशभर के सभी शैक्षणिक संस्थान चाहे सरकारी हो या निजी बंद कर दिए गए थे। अब जब धीरे-धीरे जिंदगी पटरी पर लौटने लगी है तो दिल्ली के सभी सरकारी स्कूल ने दसवीं एवं बारहवीं की कक्षाओं को खोलने का फैसला लिया गया है।

School Reopen Date: School to open from 18 December to 10th 12th in MP college from 1st January 2021 - School Reopen Date: एमपी में 10वीं, 12वीं के लिए 18 दिसंबर से

सोमवार से दिल्ली के सभी सरकारी स्कूल के 10वीं एवं 12वीं की कक्षाएं खुल जाएंगी। हालांकि दूसरी तरफ निजी स्कूल का कहना है कि उन्हें अभी भी थोड़ा और वक्त चाहिए ताकि पूरी तैयारी के साथ वह विद्यालय को खोलें।


और पढ़ें : लव जिहाद क़ानून : मुस्लिमों को अपने अधीन करने का एक और प्रयास


दिल्ली के शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया ने शिक्षा विभाग के साथ बैठक की

गहलोत सरकार लेगी फैसला, 10th ओर 12th के बच्चो के लिए स्कूल खोला जाए या नही

दिल्ली के शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया ने हाल ही में शिक्षा विभाग के साथ बैठक की और इस बैठक के दौरान सब ने मिलकर दिल्ली के सरकारी स्कूल को खोलने का फैसला लिया। बैठक के बाद शिक्षा मंत्री ने ट्विटर पर इस संदर्भ में जानकारी दी और कहा कि हम सभी 10वीं एवं 12वीं कक्षा खोलने के लिए उत्साहित हैं और थोड़े चिंतित भी कि इतने महीनों बाद बच्चे दोबारा स्कूल आएंगे।

उन्होंने कहा कि बैठक में बच्चों की सुरक्षा को लेकर पूरा फैसला ले लिया गया है। सैनिटाइजेशन से कोरोना से बचाव के सभी तरीके सरकारी स्कूलों में उपलब्ध होंगे ताकि बच्चों को किसी प्रकार की कोई परेशानी ना उठानी पड़े। क्लास में मास्क पहनना अनिवार्य होगा और सोशल डिस्टेंस बनाए रखते हुए शिक्षा को आगे बढ़ाना है। बच्चों की उपस्थिति का पूरा फैसला उनके मां बाप पर छोड़ दिया गया हैं।

निजी विद्यालयों ने मांगा थोड़ा और वक्त

सरकारी स्कूल

एक तरफ जहां दिल्ली के सरकारी स्कूल खुल रहे हैं तो वहीं निजी विद्यालयों ने स्कूल खोलने को लेकर थोड़ा और वक्त मांगा है। कई निजी स्कूलों का कहना है कि अभी भी बच्चों के अभिभावकों से बातचीत जारी है और जब तक उनकी ओर से पूर्ण सहमति नहीं मिलती तब तक इस संदर्भ में विद्यालय अकेले फैसला नहीं ले पाएगा। निजी विद्यालय के प्रधानाध्यापकों का कहना है कि विद्यालय की ओर से अभिभावकों को मेल और व्हाट्सएप के जरिए मैसेज भेजा गया है और उनके रिप्लाई का इंतजार हो रहा है। अगर ज्यादातर अभिभावक स्कूल खोलने के पक्ष में देखेंगे तो अवश्य ही निजी विद्यालय इस पर फैसला लेगा। फिलहाल निजी स्कूलों में दसवीं और बारहवीं के ऑनलाइन परीक्षाएं चल रही है और बच्चे उसी हिसाब से आने वाले बोर्ड परीक्षा की भी तैयारी कर रहे हैं।

Digiqole Ad Digiqole Ad

Aparna Vatsh

Related post