दलित किसानों और मजदूरों के लिए लड़ने वाली नवदीप कौर से जेल में अत्याचार

नवदीप कौर पर अत्याचार का आरोप

23 साल की दलित युवती नवदीप कौर जो व्यापार संघ की एक ऊर्जावान कार्यकर्ता हैं। पिछ्ले दो महीनों से ज़्यादा वक्त से चल रहे किसान आंदोलन में भी वह नवंबर माह से जुड़ी हुई थी। उसे 12 जनवरी को पुलिस ने गिरफ़्तार किया था और अब उसके परिवार वालों ने उसके साथ जेल में अत्याचार का आरोप लगा उसकी रिहाई की मांग की है।

नवदीप कौर

नवदीप के वकील, जितेन्द्र कुमार के अनुसार हरियाणा पुलिस द्वारा गिरफ्तार किए जाने के बाद नोडेप की मेडिकल जांच की मांग की गई थी।

मेडिकल रिपोर्ट के अनुसार, उसके शरीर और निजी अंगों पर घाव हैं। अधिवक्ता जितेंद्र कुमार ने कहा,

यह इस तथ्य की ओर इशारा करता है कि नवदीप का पुलिस हिरासत में यौन उत्पीड़न किया गया था।

12वीं तक पढ़ी नवदीप कौर जल्द ही डीयू में लेने वाली थी नामांकन

नवदीप कौर की बहन राजवीर ने बताया कि

हमारी आर्थिक स्थिति के कारण 12 वीं कक्षा के बाद वह काम करने लगी थी। मैं दिल्ली विश्वविद्यालय में एक छात्र हूं, हम एक किराए के आवास में रहते हैं और मेरी बहन कुंडली में एक फर्म में काम करती थी। हमारी मां पंजाब खेत संघ में सक्रिय हैं और मुक्तसर में रहती हैं। ग़ौरतलब है कि नवदीप कौर कार्यकर्ताओं के परिवार से आती है। उनके माता-पिता मुक्तसर में पंजाब खेत संघ से जुड़े हैं और उनकी बड़ी बहन राजवीर कौर दिल्ली विश्वविद्यालय की छात्र कार्यकर्ता हैं और भगत सिंह छात्र मोर्चा से जुड़ी हैं। नवदीप कौर भी मजदूरों और किसानों के संघ मजदूर संघ (MAS) में शामिल हो गई थी। 

नवदीप कौर श्रमिकों के निरंतर उत्पीड़न से खिलाफ लड़ रही थी

नवदीप कौर

बहन ने बताया कि वह एमएएस के सदस्य के रूप में, अपने साथी शिवा कुमार के साथ इसमें शामिल थी। उसने वहां अवैतनिक बकाया राशि, महिला श्रमिकों के शोषण और कई अन्य चीजों के बीच श्रमिकों के उत्पीड़न का मुद्दा उठाया था। राजवीर ने आगे बताया कि इंडस्ट्री एसोसिएशन क्विक रिस्पांस टीम (क्यूआरटी) को कॉल करके कुंडली के मजदूरों का लगातार उत्पीड़न करता है।


और पढ़ें : किसानों से परेशानी नहीं, केवल बैरिकेडिंग से है परेशानी 


KIA ने कौर के उसके यहां काम के दावे से इनकार किया 

 

नवदीप कौर

KIA के अध्यक्ष सुभाष गुप्ता ने कहा कि कौर ने कभी भी कुंडली के किसी भी कारखाने में काम नहीं किया। आपको उसकी पृष्ठभूमि की जांच करनी चाहिए जो मैं जानता हूं, वह यहां के किसी भी कारखाने में श्रमिक नहीं है। वह उन लोगों में से एक हैं जिन्होंने पिछले साल शाहीन बाग में नारेबाजी की थी।

दो बार जमानत अर्जी हो चुकी

नवदीप कौर की बहन राजवीर कौर ने बताया कि गणतंत्र दिवस के दिन होने वाली ट्रैक्टर रैली के पहले हरियाणा पुलिस सिंघू बॉर्डर पर मज़दूर अधिनायक संगठन (एमएएस) के डेरे पर पहुंचकर नवदीप कौर को गिरफ़्तार लिया।

नवदीप पर कई धाराओं में केस दर्ज किया गया है जिसमें धारा 307 भी शामिल है। इसके तहत हत्या की कोशिश का भी आरोप है और इसी कारण उसे दो बार ज़मानत से वंचित कर दिया गया। अगली ज़मानत की सुनवाई 8 फरवरी के लिए निर्धारित है जिस दिन वह हिरासत में 26 दिन पूरा करती है।

Digiqole Ad Digiqole Ad

Shreya Sinni

Related post