श्रम अधिकार कार्यकर्ता शिवकुमार को तीन मामलों में मिली ज़मानत

शिवकुमार को मिली ज़मानत

हरियाणा के सोनीपत में स्थानीय कोर्ट ने आज शिव कुमार द्वारा लगाई गई ज़मानत याचिका पर सुनवाई करते हुए यह फैसला दिया। इससे पहले 26 फरवरी को शिवकुमार की साथी मजदूर अधिकार संगठन की अध्यक्ष नवदीप कौर को धमकी से जुड़े दो मामलों में ज़मानत मिल चुकी है। ये केस 28 दिसंबर और 12 जनवरी से संबंधित हैं।

शिवकुमार

हत्या के प्रयास, चोरी और जबरन वसूली के आरोप में दर्ज है शिव और नवदीप पर एफ़आईआर

सोनीपत के कुंडली इंडस्ट्रियल एरिया में फैक्ट्री कर्मचारियों के कथित उत्पीड़न के खिलाफ उनके विरोध के बाद शिव कुमार और नवदीप कौर दोनों को 12 जनवरी को हिंसा भड़काने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था। 24 वर्षीय श्रम अधिकार एक्टिविस्ट शिव कुमार को हरियाणा पुलिस ने 16 जनवरी को गिरफ्तार कर लिया था। शिव कुमार की गिरफ्तारी नवदीप कौर की गिरफ्तारी के 4 दिन बाद हुई थी।

मेडिकल रिपोर्ट में शिवकुमार के साथ मारपीट का जिक्र

इससे पहले पुलिस हिरासत में शिव कुमार को प्रताड़ित किए जाने की बात सामने आई थी। मेडिकल परीक्षण में इस बात की पुष्टि हुई थी कि पुलिस कस्टडी में शिव कुमार को बुरी तरह से प्रताड़ित किया गया था। इस मेडिकल रिपोर्ट को पंजाब गर्वंमेंट मेडिकल कॉलेज ने 24 फरवरी को पंजाब एंड हरियाणा हाईकोर्ट में सबमिट कर दिया गया था। शिवकुमार की मेडिकल रिपोर्ट में शरीर पर चोट के कई निशान और दो फ्रेक्चर होने का जिक्र था।

दो मामलों में  बुधवार और तीसरे मामले में आज ज़मानत दी गई 

शिव कुमार की ओर से कोर्ट ने अधिवक्ता जतिंदर कुमार पेश हुए। उन्होंने तीनों मामलों में जमानत के लिए याचिका दायर की थी इनमें से एक मामले में नौदीप कौर भी अभियुक्त थी जिन्हें पहले ही ज़मानत मिल चुकी है।

Digvijaya Singh: दलित एक्टिविस्ट शिवकुमार के साथ हुई ज्यादती का संज्ञान क्यों नहीं लेता हाईकोर्ट- Hum Samvet

शिव कुमार मज़दूर अधिनायक संगठन के अध्यक्ष हैं। न्यायमूर्ति अवनीश झिंगन की खंडपीठ ने उनकी ज़मानत याचिका और उनके मामले के संबंध में दर्ज एक स्वतः संज्ञान (दोनों मामलों की एक साथ सुनवाई) पर सुनवाई करते हुए उन्हें ज़मानत दे दी। हालांकि उसके अवैध हिरासत के आरोपों के संबंध में अदालत द्वारा मामले की सुनवाई जारी रहेगी।


और पढ़ें :लॉकडाउन की वजह से 24.7 करोड़ बच्चों की शिक्षा हुई प्रभावित: यूनिसेफ


खंडपीठ ने इस मामले को देखते हुए कहा कि, “यह कहना उचित होगा कि शांतिपूर्ण विरोध का अधिकार एक पतली रेखा द्वारा परिचालित है। लाइन पार करने से विरोध का रंग बदल सकता है। यह जांच का विषय होगा कि क्या शांतिपूर्ण विरोध के लिए लाइन पार की गई थी या बस ऐसे इस कथित घटना को बनाया गया है।”

इससे पहले रिपोर्ट के अनुसार सोनीपत पुलिस ने एक बयान जारी किया जिसमें कहा गया कि एक औद्योगिक इकाई के प्रबंधन और कर्मचारियों की कथित छेड़छाड़ की सूचना एक पुलिस टीम कुंडली औद्योगिक क्षेत्र में गई थी। वहां उनसे पैसे लूटने का प्रयास किया गया। पुलिस के अनुसार नवदीप और उनके सहयोगियों ने पुलिस पर लाठी से हमला किया जिससे सात कर्मी घायल हो गए। घटना के बाद उसे गिरफ्तार कर लिया गया लेकिन उसके साथी भागने में सफल रहे थे।

Digiqole Ad Digiqole Ad

Shreya Sinni

Related post