“आधार से नहीं जुड़े तीन करोड़ राशन कार्ड रद्द करना गंभीर मुद्दा” – सुप्रीम कोर्ट

भारतीय सर्वोच्च न्यायालय ने आधार से लिंक नहीं होने पर 3 करोड़ से अधिक राशन कार्ड को रद्द किए जाने को गंभीर मसला बताया है। शीर्ष अदालत ने बीते बुधवार को इस मामले से संबंधित याचिका पर केंद्र और राज्य सरकारों को नोटिस भेज जवाब मांगा है।

याचिका में कहा गया राशन कार्ड रद्द होने से लोगों को खाना नहीं मिल रहा

न्यायालय में दर्ज हुई याचिका में कहा गया है कि राशन कार्ड रद्द किए जाने से लोगों को खाना नहीं मिल पा रहा है और भूख से उनकी मौत हो रही है। आपको बता दें कि यह याचिका सिमडेगा की कोली देवी नामक महिला ने दायर की है जिसकी 11 वर्षीय बेटी की भूख से मौत हो गई।

(सुप्रीम कोर्ट)

और पढ़ें- प्रधानमंत्री की वादा खिलाफ़ी, लॉकडाउन में ना ही मिला राशन और ना ही बना राशन कार्ड


चीफ़ जस्टिस बोबडे की अध्यक्षता वाली पीठ ने कहा मामला बेहद गंभीर

सुप्रीम कोर्ट के चीफ़ जस्टिस एसए बोबडे की अध्यक्षता वाली पीठ ने कहा कि यह मामला बेहद गंभीर है और हमें इस पर सुनवाई करनी होगी। वर्ष 2018 से लंबित है यह याचिका जिस पर न्यायालय ने चार हफ़्तों में जवाब देने को कहा है। इतना ही नहीं पीठ ने केंद्र सरकार से यह भी कहा कि इस याचिका को गलत तरीके से ना लिया जाए।


और पढ़ें- भारत में अब भी भूख सबसे बड़ी समस्या, लॉकडॉउन के बाद खराब हुई स्थिति


तीन करोड़ राशन कार्ड रद्द किए गए

याचिकाकर्ता के वकील कॉलिन गोंजाल्विस ने सुप्रीम कोर्ट में पीठ के समक्ष कहा की केंद्र सरकार के द्वारा लगभग तीन करोड़ राशन कार्ड रद्द किए गए हैं वहीं राज्य सरकार के द्वारा 10 लाख। वकील ने कहा जनजातियों इलाकों में उंगलियों के निशान यहां आंखों की पुतली वाले स्केनर काम नहीं करते और बायोमेट्रिक तरीके से पहचान ना होने के कारण यह तमाम राशन कार्ड रद्द किए गए।

केंद्र सरकार ने कहा केवल फर्जी राशन कार्ड रद्द किए गए हैं

इस मामले में केंद्र सरकार का भी बड़ा बयान सामने आया है। केंद्र सरकार के अनुसार केवल फर्जी राशन कार्ड को रद्द किया गया है। केंद्र सरकार की ओर से सॉलिसिटर जनरल अमन लेखी ने कहा की दर्ज की गई याचिका झूठ पर आधारित है।

उन्होंने कहा कि अगर आधार उपलब्ध ना हो तो दूसरे दस्तावेज पेश किए जा सकते हैं। केंद्र सरकार की ओर से यह साफ़ किया गया कि मोदी सरकार ने इससे पहले भी कई बार कहा है आधार कार्ड नहीं होने पर भी किसी को भोजन के अधिकार से वंचित नहीं रखा जाएगा। फ़िलहाल मामले की सुनवाई सर्वोच्च न्यायालय में जारी है और कोर्ट ने चार हफ़्तों के भीतर देश के विभिन्न राज्य सरकार और केंद्र सरकार से जवाब मांगा है।

Digiqole Ad Digiqole Ad

PRIYANKA

Related post