बिना बिजली और इलेक्ट्रॉनिक गैजेट के बुज़ुर्ग को थमाया छह हज़ार से ज़्यादा का बिजली बिल

15 साल से एक कमरे के घर में अकेले निवास करने वाले किशोर कमालिया के होश उस समय उड़ गए जब उनके हाथों 6,674 रुपए का बिजली बिल थमा दिया गया। वो बिना किसी बिजली तथा इलेक्ट्रॉनिक गैजेट के इस्तेमाल के अपना गुज़र-बसर करते थे। उनके घर में सिर्फ एक ज़ीरो वाट का बल्ब है ऐसे में उनके लिए 6674 रुपये का बिल चुकाना जी का जंजाल बन चुका।


और पढ़ें- “आधार से नहीं जुड़े तीन करोड़ राशन कार्ड रद्द करना गंभीर मुद्दा” – सुप्रीम कोर्ट


जीरो वाट का बल्ब इस्तेमाल करते थे, बिल आया 6674 रुपये का

दरअसल, किशोर कमालिया गुजरात के वडोदरा के बोडेली में निवास करते हैं। वे मध्य गुजरात विज कंपनी लिमिटेड (MGVCL) के पूर्व कर्मचारी हैं। वे 15 सालों से एक कमरे के घर में रहते हैं।

अपने घर में वे सिर्फ एक ज़ीरो वाट के बल्ब के अलावा किसी भी तरह की बिजली तथा बिजली के उपकरणों का इस्तेमाल नहीं करते। लंबे समय से उनका बिल 150 से 200 रुपये आता था। वे अपना गुजर-बसर महीने में मिलने वाले 700 रुपये के पेंशन के पैसे से करते थे। लेकिन कुछ समय पहले ही एमजीवीसीएल (MGVCL) की एक टीम जांच के लिए पहुंची।


और पढ़ें- बंगाल चुनाव में हम जो देख रहे हैं वो ग्लैमर का सनकी शोषण है


जांच के दौरान उन्होंने कमालिया के बिजली कनेक्शन और मीटर की जांच की। उन्होंने कमालिया के घर मे पहले से लगे मीटर को बदल दिया और उन्हें 6,674 रुपये का बिल थमा दिया। साथ ही इसके चेतावनी दी कि अगर वह इस बिल को नहीं भरते तो उनका बिजली कनेक्शन काट दिया जाएगा।

बिल ना भरने पर काटा बिजली कनेक्शन

किशोर कमालिया पेंशन से मिलने वाले 700 रुपये से अपना गुजर-बसर करते थे ऐसे में इतनी मोटी रकम बिल में चुकाना उनके लिए नामुमकिन था। जब वह बिल भरने के लिए इतने पैसे नहीं जुटा पाए तो कम्पनी द्वारा उनका बिजली कनेक्शन काट दिया गया। इसके ख़िलाफ़ कमालिया ने पावर डिस्ट्रीब्यूशन फ़र्म में शिकायत दर्ज करवाते हुए अपने पिछले सालों के बिल को चेक करने के लिए कहा है। इस बारे में कमालिया कहते हैं कि

यदि कंपनी को मेरा बिल ₹200 से ज़्यादा मिलता है तो मैं किसी भी तरीके से ₹6674 भरता। लेकिन कंपनी ने मेरे आवेदन का उत्तर अभी तक नहीं दिया है और और अब तक बिना बिजली कनेक्शन के मुझे गुजारा करना पड़ रहा है।

Digiqole Ad Digiqole Ad

Bharti

Related post