Tags :badal sarkar

Culture

क्या आज बादल सरकार होते तो वो भी देशद्रोही करार

साल 2014 के लोकसभा चुनाव के बाद नरेंद्र दामोदरदास मोदी सत्ता में आए और उनके सत्ता में आते ही भारत के लोगों ने अपनी एक महत्वपूर्ण कला गंवा दी, वह कला थी तर्क-वितर्क करने की कला. वह कला थी सवाल पूछने की कला और सवाल उठाने की कला जिसको अमृता सेन ने अपनी किताब अरगुमेंटेटिव […]Read More