जमीन मामले में ईडी ने सातवीं बार हेमंत सोरेन को भेजा समन, इस बार सख्ती

आज झारखंड सीएम हेमंत सोरेन को सातवीं बार ईडी ने समन जारी कर पेश होने का आदेश दिया है. ईडी ने दो दिनों के अंदर सीएम सोरेन को पूछताछ के लिए जगह बताने को कहा है.

New Update
सोरेन को सातवी बार नोटिस

सोरेन को सातवी बार नोटिस

झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को प्रवर्तन निदेशालय(ईडी) जमीन घोटाला मामले में राहत देने के मूड में नजर नहीं आ रही है. और हेमंत सोरेन है कि ईडी के सामने पेश होने का नाम नहीं ले रहे हैं. यह चूहे-बिल्ली का खेल बीते 6 बार से झारखंड में चल रहा है. 

Advertisment

ईडी ने अबतक कुल छह बार सीएम हेमंत सोरेन को जमीन घोटाला मामले में पूछताछ के लिए समन भेजा है, जिसमें एक बार भी सीएम ने अपना जवाब दाखिल  नहीं किया है. इसके बाद ईडी ने एक बार फिर से आज हेमंत सोरेन को सातवीं बार समन जारी कर पेश होने का आदेश दिया है. 

ईडी सख्त

ईडी ने सीएम हेमंत सोरेन को जवाब दाखिल करने का यह आखरी मौका दिया है. ईडी ने सीएम सोरेन को पत्र लिखकर कहा है कि वह सात दिनों के अंदर ही जमीन घोटाला मामले में अपने बयान को दर्ज कराएं और उसके लिए जगह, डेट और टाइम भी बताएं. ईडी ने साफ तौर पर लिखा है कि यह सभी(जगह, डेट और टाइम) ईडी और सीएम सोरेन के हिसाब से उपयुक्त होने चाहिए. जगह के बारे में सूचना देने के लिए 2 दिनों के अंदर लिखित रूप में जवाब दाखिल करने को भी ईडी ने लिखा है. 

Advertisment

ईडी- सभी कारण निराधार

ईडी ने कहा है कि सीएम सोरेन ने अबतक ना पेश होने को ले कर जितने भी कारण बताएं हैं वह सभी निराधार है. समन के बावजूद पेश ना होने से और जवाब दाखिल ना करने से जांच में अड़चने पैदा हो रही हैं, जिसकी वजह से जांच पर काफी प्रभाव पड़ रहा है. इसलिए उन्हें पीएमएलए 2002 की धारा 50 के तहत अपना बयान दर्ज करने के लिए आखिरी मौका दिया जा रहा है.

ईडी ने सातवीं बार भेजा समन

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को अब तक छह बार प्रवर्तन निदेशालय की तरफ से नोटिस भेजा गया है. पहला समान 8 अगस्त को भेजा गया था, जिसमें 14 अगस्त को हाजिर करने का निर्देश दिया गया था. दूसरा सामान 19 अगस्त को भेजा गया था, जिसमें 26 अगस्त को हाजिर होने के लिए कहा गया था. 1 सितंबर को भी हेमंत सोरेन को ईडी की तरफ से समन भेजा गया था, जिसमें 9 सितंबर को उन्हें पूछताछ के लिए पेश होने के लिए कहा गया था. चौथा समान 17 सितंबर को भेजा गया था, जिसने 23 सितंबर को हाजिर होने के लिए कहा गया था. पांचवा समन 26 सितंबर को भेजा गया था, जिसमें आज 4 अक्टूबर को हाजिर करने के लिए कहा गया था. छठा  समन 11 दिसंबर को भेजा गया था, जिसमें 12 दिसम्बर को पेश होने के लिए कहा गया था. और सातवां समन आज भेजा गया है. 

इसके पहले 12 दिसंबर को पूछताछ के लिए हेमंत सोरेन ईडी के कार्यालय नहीं पहुंचे थे. कार्यालय के बाहर से ही वह एयरपोर्ट के लिए रवाना हो गए. मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन मंगलवार को दुमका में कार्यक्रम में शामिल होने के लिए चले गए. मुख्यमंत्री आपकी योजना, आपकी सरकार, आपके द्वार कार्यक्रम के तहत बीते कई दिनों से झारखंड के अलग-अलग जिलों में कार्यक्रम कर रहे हैं. इसी वजह से आज सीएम ईडी के सामने पेश नहीं हुए. वह एयरपोर्ट से हेलीकॉप्टर में सवार होकर दुमका के लिए निकले. मुख्यमंत्री ने अपने संदेशवाहक को ईडी कार्यालय में भेजा.

यह है मामला

प्रवर्तन निदेशालय के मुताबिक झारखंड में भू-माफियाओं का अवैध रूप से कब्जा है. झारखंड में कई जगहों पर यह गिरोह काम कर रहा है. इस मामले में निदेशालय ने अब तक 14 लोगों को गिरफ्तार किया है. ईडी ने 2011 बैच की आईएएस अधिकारी छवि रंजन को भी जमीन घोटाला मामले में शामिल किया है. वह झारखंड के सामाजिक कल्याण विभाग की डायरेक्टर और रांची की डिप्टी कमिश्नर के पद पर अपनी सेवा दे चुकी है. इसी मामले में पूछताछ के लिए सीएम हेमंत सोरेन को ईडी ऑफिस बुलाया जा रहा है. 

सीएम सोरेन ने कहा

हेमंत सोरेन में जमीन घोटाला मामले में ईडी के समन भेजे जाने पर कहा कि इसे दुर्भावना और राजनीति से प्रेरित कर मेरे खिलाफ भेजा जा रहा है. साथ ही सीएम ने कहा कि अगर समन वापस नहीं लिया जाएगा, तो ऐसी स्थिति में वह कानूनी रास्ता अपनाएंगे. जिसके बाद एक बार फिरसे ईडी ने समन भेजा है.

jharkhand EDsummon hemansoren