Electoral bond: सोशल मीडिया पर दावा BJP को पाकिस्तान से मिला चंदा, जानें क्या है सच्चाई?

चुनावी बॉन्ड की जानकारी सामने आने के बाद सोशल मीडिया पर लगातार यह दावा किया जा रहा है कि पाकिस्तान की एक कंपनी ने राजनीतिक दल भाजपा को चंदा दिया है. जानिए क्या है इसकी सच्चाई.

New Update
बीजेपी को मिला पाकिस्तान से चंदा

बीजेपी को मिला पाकिस्तान से चंदा

चुनाव आयोग की तरफ से गुरुवार को चुनावी बॉन्ड की जानकारी सार्वजनिक की गई. चुनावी बॉन्ड की जानकारी सामने आने के बाद सोशल मीडिया पर लगातार यह दावा किया जा रहा है कि पाकिस्तान की एक कंपनी ने राजनीतिक दल भाजपा को चंदा दिया है. 

Advertisment

चंदा देने वाली कंपनी का नाम हब पावर लिमिटेड(HUB Power Limited) बताया जा रहा है. हम आपको बताते हैं कि इस बात में कितनी सच्चाई है. दरअसल जिस हब पावर लिमिटेड कंपनी ने भाजपा को चंदा दिया है, वह पाकिस्तान में रजिस्टर्ड नहीं है. बल्कि हब पावर कंपनी दिल्ली के गांधीनगर की रजिस्टर्ड कंपनी है. इस कंपनी के बारे में जीएसटी के पोर्टल पर भी जानकारी उपलब्ध है. कंपनी 2018 के नवंबर में जीएसटी के पोर्टल पर रजिस्टर हुई थी.

हब पावर कंपनी ने 95 लाख रुपये का दिया राजनीतिक चंदा

GIsz-6zXQAAhp6s

Advertisment

चुनावी बॉन्ड की जानकारी में पता चला कि हब पावर कंपनी ने 95 लाख रुपए का राजनीतिक चंदा पार्टी को दिया है. जिसमें 18 अप्रैल 2019 को चंदा दिया गया है. इसी तारीख की वजह से कंपनी पर लगातार आरोप लग रहे थे. दरअसल इसी समय देश में लोकसभा चुनाव हुए थे और पुलवामा अटैक का भी समय यही था. सोशल मीडिया पर लोगों ने इसको लेकर भ्रम फैलाना शुरू कर दिया था.

ALT न्यूज़ के को-फाउंडर मोहम्मद जुबैर ने भी अपने सोशल मीडिया अकाउंट एक्स के जरिए इस खबर को गलत बताया है. जुबैर ने लिखा है कि कई लोग यह गलत दावा कर रहे हैं कि हब पावर कंपनी एक पाकिस्तान रजिस्टर्ड कंपनी है, जबकि यह बात बिल्कुल गलत है. यह कंपनी दिल्ली रजिस्टर्ड है.

GIroNtPa8AAW-vL

चुनाव आयोग के मुताबिक बॉन्ड को कैश करने वाली पार्टियों में भाजपा, कांग्रेस, बीआरएस, शिवसेना, टीडीपी, वाईएसआर कांग्रेस, डीएमके, जेडीएस, एनसीपी, टीएमसी, जदयू, राजद, आप, AIADMK और समाजवादी पार्टी है.

आंकड़ों के मुताबिक सबसे ज्यादा चंदा लेने वाली पार्टी भाजपा है. 12 अप्रैल 2019 से 11 जनवरी 2024 तक भाजपा को सबसे ज्यादा 6060 करोड़ रुपए मिले हैं. तृणमूल कांग्रेस को 1609 करोड़ रुपए और कांग्रेस पार्टी को 1421 करोड़ रुपए मिले हैं. भाजपा को एक करोड़ के 5854, 10 लाख के 1994, 1 लाख के 706, 10 हजार के 48 और 1 हजार के 31 यानी कुल मिलाकर 8633 चुनावी बॉन्ड मिले हैं.

चुनाव आयोग ने 763 पेज की लिस्ट को अपलोड किया है. जिसमें बॉन्ड खरीदने वालों की जानकारी शामिल है.

electoral bond SBI electoral bond electoral bond information electoral bond scam HUB Power Limited