बिना खेले बिहार कैसे आगे बढ़ेगा, राज्य में खेल व्यवस्था बदहाल

वित्तीय वर्ष 2023-24 बजट में शिक्षा, खेल, कला और संस्कृति के क्षेत्र में 42,381 करोड़ रुपए की राशि आवंटित हुई थी. वहीं राज्य के सिर्फ 17 जिलों में ही जिला खेल पदाधिकारी हैं.

New Update
राज्य में खेल व्यवस्था बदहाल

राज्य में खेल व्यवस्था बदहाल

बिहार के राजगीर में बनने वाला राज्य स्पोर्ट्स अकादमी सह अंतरराष्ट्रीय स्तर का क्रिकेट स्टेडियम अभी निर्माणाधीन है. 90 एकड़ भूमि में बनने वाले इस स्टेडियम की लागत 740 करोड़ रूपए है. वित्तीय वर्ष 2023-24 बजट में शिक्षा, खेल, कला और संस्कृति के क्षेत्र में 42,381 करोड़ रुपए की राशि आवंटित हुई थी.

Advertisment

राजस्थान अपने खेल पर 2500 करोड़ रुपए, हरियाणा 566.04 करोड़ और ओडिशा 1,217 करोड़ रुपए सिर्फ खेल पर ख़र्च करती है.

खेलों की दुर्दशा

बिहार में खेल की दुर्दशा इस बात से समझी जा सकती है कि राज्य के 38 में से सिर्फ 17 जिलों में ही जिला खेल पदाधिकारी हैं. इन जिला खेल पदाधिकारीयों को कभी-कभी जिलों में कोच का भी काम करना पड़ता है. मूलभूत सुविधाओं की कमी के कारण बिहार के अनेक प्रतिभावान खिलाड़ियों को दूसरे राज्य जाना पड़ता है. बिहार में खेल विश्वविद्यालय बनने या खेल के लिए बेहतर माहौल और सुविधा मिलने से खिलाड़ियों को अपने ही राज्य में बेहतर सुविधा मिल सकती है. 

Advertisment

बिहार से ओलंपिक और पारा ओलंपिक में आज तक मात्र 9 खिलाड़ियों ने ही भाग लिया है. खेलो इंडिया रिपोर्ट के अनुसार टोक्यो ओलंपिक 2020 में बिहार से एक भी खिलाड़ी ने भाग नहीं लिया जबकि हरियाणा से सर्वाधिक 29 और पंजाब से 16 खिलाड़ियों ने भाग लिया था.

Sports condition in Bihar Sports in Bihar Bihar sports university