रोहिणी आचार्य की उम्मीदवारी खतरे में, पटना हाईकोर्ट में रिट याचिका दायर

पटना हाईकोर्ट में रोहिणी आचार्य के खिलाफ रिट याचिका दायर की गई है. याचिका में रोहिणी के नामांकन में संपत्ति, घर का पता, नागरिकता समेत कई चीजों का उल्लेख नहीं होने का आरोप लगाया गया है.

New Update
रोहिणी आचार्य की उम्मीदवारी खतरे में

रोहिणी आचार्य की उम्मीदवारी खतरे में

सारण इस लोकसभा चुनाव में एक हॉट सीट की तरह बना हुआ है. लालू यादव की बेटी रोहिणी आचार्य पहली बार चुनाव लड़ने उतरी है. रोहिणी आचार्य ने इस चुनाव में सारण सीट को चुना है, जहां से उनके सामने भाजपा के दिग्गज नेता राजीव प्रताप रूडी खड़े है. रोहिणी आचार्य के सामने रूडी के अलावा एक मुश्किल खड़ी हो गई है. उनके खिलाफ पटना हाईकोर्ट में रिट शिकायत की गई है. याचिकाकर्ता निपेंद्र कुमार चतुर्वेदी ने रोहिणी आचार्य के नामांकन को रद्द करने की मांग की है.

Advertisment

रोहिणी आचार्य चुनाव के लिए अयोग्य

याचिकाकर्ता ने रोहिणी आचार्य के नामांकन को अवैध बताया है. उन्होंने बताया कि रोहिणी आचार्य ने अपने नामांकन में संपत्ति घर का पता, नागरिकता समेत कई चीजों का उल्लेख नहीं किया है. इसके साथ ही उनके पासपोर्ट की जांच भी नहीं की गई है. वह 7 साल से अधिक समय से सिंगापुर में रही और उन्हें वहां की नागरिकता हासिल है, या नहीं? इसकी जांच होनी चाहिए. इसके साथ ही भारत के नागरिकता पर भी सवाल उठाया गया है. याचिकाकर्ता ने कहा कि हमारे देश के संविधान के अनुच्छेद 84 और 102 के तहत लोकसभा चुनाव लड़ने के लिए रोहिणी आचार्य अयोग्य हैं. इसलिए इस मामले को गंभीरता से लेना चाहिए.

निपेंद्र कुमार ने यह भी आरोप लगाया है कि सहारनपुर से राजद प्रत्याशी ने अपने नामांकन पत्र में दाखिल शपथ पत्र में कई गलत तथ्यों को लिखा है. उन्होंने अपने घर का पता सारण या पटना नहीं दिया है. संपत्ति का विवरण, इनकम टैक्स का विवरण, बैंक खताओं में जमा रकम की जानकारी भी गलत दी गई है. रोहिणी आचार्य ने अपना नामांकन और शपथ पत्र में सिंगापुर के घर, आए का विवरण और निवास स्थान की जानकारी को छिपाया है.

Advertisment

रोहिणी आचार्य की प्रतिक्रिया

अपने खिलाफ लग रहे इन आरोपों पर जवाब देते हुए रोहिणी आचार्य ने पहली प्रतिक्रिया फेसबुक के जरिए दी है. उन्होंने अपने फेसबुक पर लिखा है पराजय की प्रबल संभावना से परेशान विरोधी प्रतिद्वंदी प्रत्याशी अपनी गोदी मीडिया की मदद से मेरे नामांकन के संदर्भ में एक बार फिर से फैला रहे हैं भ्रामक प्रचार.

उन्होंने आगे लिखा कि जब सारण खड़ा है मजबूती से, अपनी इस बेटी बहन के साथ, तो सफल नहीं होने वाला है कोई भी झूठा भ्रामक प्रचार. आप सबों से अनुरोध है कि अफवाह को करें नजरअंदाज और झूठ के कारोबारी को हर हाल में करें परास्त.

Bihar loksabha election 2024 Rohini Acharya's candidature in danger Rohini Acharya's nomination Lalu Yadav's daughter Rohini Acharya