सऊदी अरब ने बताया कि हज के दौरान 1300 तीर्थयात्रियों की गई जान, इनमें भारत के 98 तीर्थयात्री शामिल

सऊदी अरब ने हज पर मारे गए यात्रियों की संख्या 1300 बताई है. इनमें सबसे ज्यादा मृतक 658 मिस्त्र के रहने वाले थे, इसके बाद 199 इंडोनेशिया, 98 भारत, वही जॉर्डन से 75 थे.

New Update
हज के दौरान 1300 की गई जान

हज के दौरान 1300 की गई जान

सऊदी अरब से खबर आई थी कि इस साल भीषण गर्मी में हज यात्रा पर जाने वाले हजारों यात्रियों की मौत हो गई है. अलग-अलग मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक हज यात्रियों के मौत का आंकड़ा भी अलग-अलग अनुमान लगाया गया था, जिस पर सऊदी अरब ने अपनी चुप्पी तोड़ दी है. रविवार को सऊदी अरब ने हज पर मारे गए यात्रियों का आंकड़ा जारी किया है. सऊदी अरब ने बताया है कि अब तक 1300 हज यात्रियों की मौत गर्मी के चलते हो गई है, इनमें ज्यादातर लोग ऐसे थे जो बिना किसी डॉक्यूमेंट के यात्रा करने पहुंचे थे.

Advertisment

आधिकारिक बयान के मुताबिक मरने वाले हज यात्रियों में 658 लोग मिस्त्र के रहने वाले थे, इसके बाद 199 इंडोनेशिया, 98 भारत, वही जॉर्डन से 75, ट्यूनीशिया से 49, पाकिस्तान से 35 और ईरान से 11 हज यात्रियों की मौत हुई है. मिस्र के 658 हज यात्रियों में से 630 बिना वीजा के ही हज करने पहुंचे थे. मृतकों में से 83 फीसदी अधिकृत तरीके से मक्का पहुंचे थे.

हज के लिए 18 लाख लोग सऊदी अरब पहुंचे

सऊदी के सरकारी टीवी अखबारिया पर सऊदी के मंत्री ने बताया कि 95 तीर्थयात्रियों का इलाज अस्पताल में चल रहा है. इनमें से कुछ को हवाई मार्ग से रियाद में इलाज के लिए लाया गया है. सबसे ज्यादा समस्या मृतकों की पहचान करने में खड़ी हो रही है, क्योंकि कई तीर्थ यात्री ऐसे हैं जिनके पास कोई दस्तावेज नहीं है. जिन तीर्थयात्रियों  की पहचान नहीं हो पा रही है, उन्हें मक्का में दफना दिया जा रहा है. इधर एक मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक रास्ते में तीर्थयात्रियों का शव पड़ा हुआ है और बाकी हाजी उसी रास्ते से हज करने जा रहे हैं.

Advertisment

सऊदी की तरफ से जारी किए गए बयान में बताया गया कि मरने वालों में ज्यादातर लोग या तो बुजुर्ग थे या किसी बीमारी की वजह से जूझ रहे थे. इसके पहले भी सऊदी सरकार ने माना था कि 15 और 16 जून को हज यात्रा में सबसे ज्यादा भीड़ जुटी थी. इस दौरान 577 लोगों की मौत हो गई थी. यह मौत शैतान को पत्थर मारने की रस्म अदा करते वक्त हुई थी.

मक्का में इस साल तापमान 52 डिग्री सेल्सियस तक रहा था. इतनी भीषण गर्मी में खुली धूप में पैदल चलने से भी लोगों की तबीयत बिगड़ी और वह बेहोश होकर गिरने लगे.  इस साल 18 लाख लोगों सऊदी हज करने पहुंचे थे.

Haj pilgrims Haj pilgirms death Saudi Arabia News