9 महीने से अधिक हो गए, नहीं मिला PDS दुकानदारों को कमीशन

बिहार सरकार की कार्यप्रणाली इतनी लचर अवस्था में पहुंच गई है, इसका अनुमान केवल इस बात से ही लगाया जा सकता है कि सरकार के द्वारा चलाए गए जन वितरण प्रणाली यानी PDS दुकानदारों को अब तक उनका कमीशन नहीं मिला है. उन्हें कमीशन लगभग 9 महीने से ज़्यादा समय से नहीं मिला. हालत तो […]

मेट्रो-पुल बनाने के लिए PU की ज़मीन पर कब्ज़ा, उच्च शिक्षा पर सीधा असर

जब सरकारी तंत्र शिक्षा और स्वास्थ्य पर बेवजह अपना अधिपत्य जताने की कोशिश करता है और विकल्प होने पर भी अपने फायदे के लिए ऐसे विकल्पों को चुनता है जिससे आम लोगों को नुकसान हो तब यह सरकार के मतलबपरस्त रवैया को दिखाता है. कुछ ऐसा ही मतलबी रवैया सरकार ने पटना विश्वविद्यालय (PU) की […]

पटना के पब्लिक टॉयलेट में लटके रहते हैं ताले, महिलाओं को सबसे अधिक परेशानी

लालकिले के प्राचीर से प्रधानमंत्री जी ने देशवासियों को भारत की स्वच्छता का संदेश देते हुए स्वच्छ भारत मिशन योजना की शुरुआत की थी, जिसमें ‘हर-घर शौचालय योजना’ भी शामिल थी. अक्सर प्रधानमंत्री देश की स्वच्छता और स्वच्छ शौचालय व्यवस्था जैसे विषयों पर अपनी बात रखते हैं और भाषणों में भी इसका ज़िक्र करते हैं. […]

स्कूल में प्रयोगशाला को लेकर कोई फंड नहीं, कैसे होगी विज्ञान की पढ़ाई?

एक से दो प्रिज़्म , एक माइक्रोस्कोप, कुछ लिटमस पेपर, मापने के लिए स्केल और कुछ केमिकल ही यदि सरकार सभी मध्य विद्यालयों में उपलब्ध करा दें तो हम बच्चों को विज्ञान और गणित की बाते खेल-खेल में समझ सकते हैं. लेकिन अफ़सोस की बात है की आज़ादी के इतने वर्ष बीतने के बाद भी […]

विभाग पराली जलाने की वैकल्पिक व्यवस्था करने में असफ़ल, मजबूरी में जल रही पराली

हमने किसानों को पराली जलाते हुए कई बार ख़बरों में सुना है. पराली जलाना किसानों के लिए एक परंपरा जैसी है. आपको बता दें अभी हाल फ़िलहाल में बिहार सरकार ने पराली जलाने वाले किसानों पर एक सख्त कार्रवाई की है. यह कार्यवाही 20 जिलों के किसानों के ऊपर की गई है. जिसमें करीबन 6066 […]

यूक्रेन-रूस युद्ध का असर मखाना किसान पर, नहीं मिल रही सही कीमत

मखाना और मखाना किसान शब्द का नाम आते ही हमारे दिमाग में सबसे पहले जिस राज्य का नाम आता है वह है- बिहार, मखाने की सर्वाधिक उत्पादन वाला राज्य. बिहार में भी खासकर मिथिलांचल के तक़रीबन सभी जिले जिनमें दरभंगा, मधुबनी, सहरसा, समस्तीपुर, सुपौल, कटिहार, सीतामढ़ी और पूर्णिया प्रमुख हैं. मखाने को लेकर सबसे ख़ास […]

किसान क्रेडिट कार्ड: क्यों बिहार के किसानों को इसका लाभ नहीं मिल रहा?

भारत किसानों का देश है. यहां की लगभग 70 प्रतिशत आबादी खेती पर निर्भर करती है.इतनी बड़ी आबादी के कृषि पर निर्भर होंने के बाद भी यह क्षेत्र आज भी अनिश्चितताओं पर आधारित है. भारत के अधिकांश भूभाग में किसानों को अच्छी फ़सल के लिए मानसून पर निर्भर रहना पड़ता है. अगर मानसून अच्छा और […]

पानी बर्बाद करने में बिहार सबसे आगे, 16 अरब पानी रोज़ बर्बाद

‘मुख्यमंत्री नल जल योजना’ के तहत बिहार के प्रत्येक निवासी के घर में पाइपलाइन के द्वारा साफ़ पानी पहुंचाने का लक्ष्य बिहार सरकार के द्वारा रखा गया है. इस योजना के तहत सुबह,दोपहर और शाम दो-दो घंटे पेयजल की आपूर्ति की जाती है. नीतीश सरकार ने सितंबर 2016 में आधिकारिक तौर पर इस योजना की […]

शिक्षा दिवस विशेष: क्या बिहार में RTE ठीक से लागू है?

हमारे देश में ‘शिक्षा का अधिकार’ कानून (RTE) लागू हुए 12 साल हो चुके हैं. इन बारह सालों के दौरान आरटीई (RTE) सरकारी स्कूलों में गुणवत्तापूर्ण शिक्षा सुनिश्चित करने में विफ़ल साबित हुई है. आज भी बड़े पैमाने पर सरकारी स्कूल बुनियादी ढांचागत सुविधाओं, ज़रूरी संसाधन, शिक्षा के लिए माहौल और शिक्षकों की भारी कमी […]

पटना यूनिवर्सिटी को केन्द्रीय यूनिवर्सिटी बनाना कितना मुमकिन?

पटना यूनिवर्सिटी को सेंट्रल यूनिवर्सिटी बनाया जाए! अपने पटना यूनिवर्सिटी के छात्रों को अपनी इस मांग को लेकर आवाज़ उठाते या आंदोलन करते देखा होगा. बिहार में जब भी कोई विशिष्ट नेता का कार्यक्रम पटना यूनिवर्सिटी में होता है तब तक यह मुद्दा और तेज़ हो जाता है. कई बार इस मुद्दे पर सियासत भी […]