कैमूर में किसानों की आंखों के सामने 100 एकड़ गेहूं की फसल जलकर राख

कैमूर के मोहनिया प्रखंड के अंतर्गत आधा दर्जन से अधिक गांव के बधार में भीषण आग लग गई, जिसमें करीब 100 एकड़ में लगे गेहूं की फसल जल गई. इस आगलगी में कितना नुकसान हुआ है, इसका आकलन किया जा रहा है.

New Update
कैमूर में गेंहू की फ़सल राख

कैमूर में गेंहू की फ़सल राख

बिहार के कैमूर जिले में किसानों के सामने 100 एकड़ की फसल जलकर राख हो गई. कैमूर के मोहनिया प्रखंड के अंतर्गत आधा दर्जन से अधिक गांव के बधार में भीषण आग लग गई, जिसमें करीब 100 एकड़ में लगे गेहूं की फसल जल गई.

Advertisment

आगलगी में गेहूं की फसल धूं-धूं कर जलती रही, वहीं इसे देख किसानों की आंखों से आंसू नहीं थम रहे थे. मेहनत से लगाए गए गेहूं की फसल को इस तरह से बर्बाद होते देखकर किसानों की आस टूट गई.

यह पूरी घटना शुक्रवार की सुबह करीब 9:30 बजे हुई, जब किसी किसान ने डंठल जलाया तो तेज हवा और लू के कारण आग ने एक-एक कर आधा दर्जन से अधिक गांवों की फसल को अपनी चपेट में ले लिया. जिसमें इदिलपुर, दुघरा, भरकर, टेकारी समेत कई गावों के फ़सल को बर्बाद कर दिया.

कैमूर में भीषण आगलगी के बाद एसडीएम राकेश कुमार घटनास्थल पर पहुंचे. उन्होंने बताया कि किसी ने डंठल जला दिया था, जिसकी वजह से कई गांव के बधार में आग लग गई. इस आगलगी में कितना नुकसान हुआ है, इसका आकलन किया जा रहा है. जिसने डंठल जलाकर फेंका था उसे चिन्हित कर कार्रवाई की जाएगी.

इतनी बड़ी तबाही डंठल जलाने की वजह से हुई. इस तांडव को देखने के बाद अन्य किसानों ने गेहूं के कटनी तेज कर दी है. जिले के चंद, रामगढ़, भगवानपुर, रामपुर और अन्य क्षेत्रों में भी आग लगने की वजह से सैकड़ो बिगहा की फसल जलकर बर्बाद हो चुकी है. कुछ जगहों पर बिजली के तार गिरने की वजह से भी चिंगारी निकली और आग में पूरी फसल को बर्बाद कर दिया. लगातार आग लगने की घटना गर्मी में बढ़ रही है, जिसके लिए अभिशमन विभाग अभियान चला कर लोगों को जागरुक भी कर रहा है. आपदा प्रबंधन विभाग ने भी इसको लेकर गाइडलाइन को जारी किया है. दरअसल गेहूं की कटनी करने के बाद किसान खेत में डंठल जला देते हैं, जिससे फसल में आग लग जाती है.

kaimur news wheat crop burnt wheat crop burnt in kaimur farmers of wheat in kaimur